सरकारी अस्पतालों में एमआर मिलें तो उनके खिलाफ प्राथमिकी दर्जकर आवश्यक कार्रवाई करें : ब्रजेश पाठक

0
101

यूपी के उप मुख्यमंत्री ब्रजेश पाठक ने सरकारी अस्पतालों में दवाओं का पर्याप्त भंडार रखने तथा पर्चे पर बाहर की दवाएं लिखने के चलन पर रोक लगाने के लिए अधिकारियों को निर्देश दिए हैं। उन्होंने साथ ही कहा कि यदि सरकारी अस्पतालों में मेडिकल रिप्रेजेंटेटिव (एम आर) मिलें तो तत्काल उनके खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कर आवश्यक कार्रवाई की जाए। सूबे के उप मुख्यमंत्री बृजेश पाठक बुधवार देर शाम जिले के दौरे पर पहुंचे और उन्होंने राम मनोहर लोहिया अस्पताल का निरीक्षण करते हुए कहा कि यदि सरकारी अस्पतालों में एमआर मिलें तो उनके खिलाफ तत्काल मामला दर्ज किया जाए।

उन्‍होंने मुख्य चिकित्सा अधिकारी (सीएमओ) और मुख्य चिकित्सा अधीक्षक (सीएमएस) को निर्देश दिए कि कोई भी चिकित्सक मरीज के लिए बाहर की दवाएं न लिखे और दवाओं का पर्याप्त भंडार रखें। उन्होंने कहा कि दवाओं के लिए बजट की कोई कमी नहीं है। पाठक ने कमालगंज के रतनपुर गांव में जल जीवन मिशन परियोजना के तहत चल रहे कार्यों का भी निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री व मुख्यमंत्री का सपना है कि ग्रामीण क्षेत्रों में प्रत्येक परिवार को शुद्ध पेयजल की सुविधा उपलब्ध हो। उन्होंने कहा कि इस उद्देश्य से सभी ग्राम पंचायतों में पानी की टंकी का निर्माण कराया जा रहा है। उन्होंने संबंधित अधिकारियों को निर्माण कार्य समय पर पूर्ण कर सभी ग्रामीण परिवारों को शुद्ध पेयजल की सुविधा मुहैया कराने के निर्देश दिए। पाठक देर शाम इटावा से फर्रुखाबाद पहुंचे और उन्होंने जिला कार्यालय में पार्टी कार्यकर्ताओं को भी संबोधित किया।

Previous articleसभी को सुनने और समझने का बराबर अवसर देना ही सच्ची संसदीय परंपरा : अखिलेश
Next articleभ्रष्‍टाचार पर प्रहार करना है तो डिजिटल लेनदेन की तरफ बढ़ना ही होगा : योगी आदित्यनाथ

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here