सभी को सुनने और समझने का बराबर अवसर देना ही सच्ची संसदीय परंपरा : अखिलेश

0
125

समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने बुधवार को कहा कि ”जहां सत्ता का अभिमान हो, विपक्ष का मान नहीं हो, ऐसी संसद के उद्घाटन में क्या जाना। यादव ने ट्वीट किया, भाजपाइयों द्वारा संसद का दिखावटी उद्धाटन नहीं, बल्कि वहाँ पर लिखे ‘श्लोकों’ की मूल भावना को समझना, सभी को सुनने व समझने का बराबर अवसर देना ही सच्ची संसदीय परंपरा है।

उन्होंने कहा, जहां सत्ता का अभिमान हो परंतु विपक्ष का मान नहीं, वो सच्ची संसद हो ही नहीं सकती, उसके उद्घाटन में क्या जाना। गौरतलब है कि 19 विपक्षी दलों ने बुधवार को ऐलान किया कि वे संसद के नए भवन के उद्घाटन समारोह का सामूहिक रूप से बहिष्कार करेंगे। उन्होंने मांग की है कि नये संसद भवन का उद्घाटन राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू से कराना चाहिए। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 28 मई को संसद के नए भवन का उद्घाटन करेंगे।

Previous articleभाजपा ने दिया किसानों को धोखा, फसलों की कीमत अभी तक नहीं मिली : अखिलेश
Next articleसरकारी अस्पतालों में एमआर मिलें तो उनके खिलाफ प्राथमिकी दर्जकर आवश्यक कार्रवाई करें : ब्रजेश पाठक

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here