यूपी में अग्निपथ के विरोध में प्रदर्शन जारी, जौनपुर में बसों को फूंका, अबतक 340 गिरफ्तार

0
144

सशस्त्र बलों में भर्ती की की नयी अग्निपथ योजना के विरोध में शनिवार को भी उत्तर प्रदेश के कई जिलों से प्रदर्शन की खबरें आईं। वहीं, पुलिस ने इन हिंसक प्रदर्शनों के मामले में अब तक 29 अभियोग पंजीकृत कर कुल 340 लोगों को गिरफ्तार किया है। योजना के खिलाफ शनिवार को जौनपुर में प्रदर्शनकारियों ने राज्य परिवहन निगम की बसों को आग के हवाले कर दिया तथा पुलिस वाहन में भी तोड़फोड़ की। कन्नौज से भी प्रदर्शन की खबर है। इसके पहले शुक्रवार को भी प्रदेश के बलिया, गोरखपुर, देवरिया, गौतमबुद्धनगर, वाराणसी, मिर्जापुर, जौनपुर, चंदौली, आगरा, मथुरा, फिरोजाबाद और अलीगढ़ जिलों में अग्निपथ योजना के विरोध में युवाओं ने हिंसक प्रदर्शन किया और तोड़फोड़ की।

अपर पुलिस महानिदेशक (कानून-व्यवस्था) प्रशांत कुमार ने शनिवार को जारी एक बयान में बताया कि 16 जून के बाद से अब तक 12 जिलों में कुल 29 अभियोग पंजीकृत किये गये हैं और कुल 340 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। कुमार ने बताया कि 340 गिरफ्तार लोगों में 195 ऐसे हैं जिनके खिलाफ अभियोग पंजीकृत है, जबकि सीआरपीसी की धारा-151 (पुलिस अधिकारी इस धारा के तहत ऐसे लोगों को गिरफ्तार कर मजिस्ट्रेट के सामने पेश कर सकता है, जिनसे शांति व्यवस्था को खतरा हो सकता है) के तहत 145 लोगों को गिरफ्तार किया गया है।

कुमार ने बताया कि हिंसक प्रदर्शन में जौनपुर जिले में सात, अलीगढ़ और मथुरा में चार-चार, मिर्जापुर, बलिया में दो-दो, वाराणसी कमिश्नरेट में चार तथा फिरोजाबाद, आगरा, चंदौली देवरिया, गोरखपुर जिले और गौतमबुद्धनगर कमिश्नरेट में एक-एक अभियोग पंजीकृत किये गये हैं। एडीजी कुमार के मुताबिक अभियोग के तहत गौतमबुद्ध नगर में 15 और वाराणसी कमिश्‍नरेट में 36, मिर्जापुर में 20, जौनपुर में 41, चंदौली में पांच और अलीगढ़ में 35 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। इसके अलावा मथुरा में अभियोग के तहत 43 और 151 सीआरपीसी में 27 गिरफ्तारी हुई है। उन्‍होंने बताया कि बलिया में सीआरपीसी की धारा-151 के तहत सर्वाधिक 109 और आगरा में नौ लोगों की गिरफ्तारी की गई है।

केंद्र की अग्निपथ योजना के खिलाफ शनिवार को जौनपुर और कन्नौज से विरोध प्रदर्शन की खबरें आईं और जौनपुर में प्रदर्शनकारियों ने राज्य परिवहन निगम की बसों को आग के हवाले कर दिया तथा पुलिस वाहन में भी तोड़फोड़ की। जौनपुर के जिलाधिकारी मनीष कुमार वर्मा ने बताया कि शनिवार सुबह ही सैकड़ों की संख्या में युवक सड़कों पर उतर गए। जौनपुर-प्रयागराज राजमार्ग पर लाला बाजार स्थित शिवगुलाम गंज तिराहे पर प्रदर्शनकारियों ने दो रोडवेज बस, एक पुलिस की गाड़ी समेत कई वाहनों को क्षतिग्रस्त कर दिया है। उन्होंने कहा कि सुबह साढ़े नौ बजे प्रदर्शनकारियों ने एक और बस और एक जीप में आग लगा दी।

लाल बाजार में कई बाइकों में भी आग लगा दी गई। मौके पर पहुंची पुलिस ने प्रदर्शन कर रहे लोगों को खदेड़ कर शांति बहाली की। वहीं पुलिस अधीक्षक अजय साहनी ने बताया कि लखनऊ-वाराणसी राजमार्ग पर बदलापुर-सिंगरामऊ के बीच कुछ उपद्रवियों ने लखनऊ जा रही बस को रोक कर उसमें तोड़फोड़ की। पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच एक किलोमीटर तक पथराव हुआ। यहां एक भाजपा नेता की गाड़ी पर भी पथराव किया गया। वाराणसी के मंडलायुक्त दीपक अग्रवाल और पुलिस महानिरीक्षक के सत्यनारायण ने घटनास्थल का निरीक्षण किया और अधिकारियों को जरूरी निर्देश दिये। अधिकारियों ने कहा कि प्रदर्शनकारियों की पहचान की जा रही है।

उन्होंने कहा कि जरूरत पड़ने पर आरोपियों के खिलाफ गैंगस्टर कानून भी लगाया जा सकता है। रेलवे स्टेशन और बस स्टेशनों पर पर्याप्त पुलिस बल तैनात किया गया है और पुलिस ने अपनी चौकसी बढ़ा दी है। बलिया जिले की पुलिस के अनुसार अग्निपथ योजना के विरोध को लेकर शुक्रवार को जिला मुख्यालय पर उपद्रव करने के आरोप में पुलिस ने शनिवार को 24 उपद्रवी तत्वों को गिरफ्तार किया जिन्हें न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है। इसके पहले अदालत ने विरोध-प्रदर्शन के सिलसिले में गिरफ्तार 109 लोगों को 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया। कन्नौज में शनिवार को युवकों ने अग्निपथ योजना का विरोध किया और सरकार से इसे वापस लेने की मांग की। कन्नौज के अपर जिलाधिकारी गजेंद्र सिंह ने बताया कि आगरा-लखनऊ एक्सप्रेसवे के सौरिख कट पर अग्निपथ योजना के विरोध में युवाओं ने प्रदर्शन किया। युवाओं ने एक ज्ञापन भी दिया। सभी युवाओं को समझा बुझाकर वापस भेज दिया गया है और छात्रों का ज्ञापन सरकार को भेज दिया जायेगा।

सशस्त्र बलों में भर्ती की नयी ‘अग्निपथ’ योजना के खिलाफ देश के विभिन्न हिस्सों में बढ़ते हिंसक प्रदर्शनों के बीच शनिवार को मेरठ में राष्ट्रीय लोकदल और आम आदमी पार्टी (आप) ने ज़िला मुख्यालय प्रदर्शन कर अलग-अलग आंदोलन को समर्थन दिया। वहीं, आम आदमी पार्टी ने भदोही जिले में भी जिला मुख्यालय पर प्रदर्शन कर अग्निपथ योजना का समर्थन किया। मथुरा से मिली खबर के अनुसार सड़कों पर उतर कर बवाल मचाने वाले पांच-छह सौ युवाओं के खिलाफ पुलिस ने दो अलग-अलग मामले दर्ज कर 35 आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। मथुरा के पुलिस अधीक्षक (नगर) मार्तण्ड प्रकाश सिंह ने बताया, शुक्रवार को केंद्र सरकार की भर्ती योजना के विरोध के नाम पर जिन लोगों ने विभिन्न स्थानों पर बवाल मचाया था, उनमें से पांच-छह सौ युवाओं के खिलाफ दो मामले दर्ज किए गए हैं, जिनमें से एक हाईवे थाना प्रभारी अजय कौशल ने व दूसरा हरियाणा रोडवेज के परिचालक ने दर्ज कराया है जिसकी बस में आग लगा दी गई थी।

उन्होंने बताया कि वीडियोग्राफी एवं सोशल मीडिया से पहचान में आए 35 युवाओं को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है तथा अन्य की भी पहचान करने की कार्यवाही जारी है। अपर पुलिस महानिदेशक (कानून-व्यवस्था) प्रशांत कुमार ने शुक्रवार को बताया था कि अलीगढ़ के टप्पल क्षेत्र में कुछ नौजवानों के एक समूह ने अलीगढ़-पलवल राजमार्ग पर स्थित जट्टारी पुलिस चौकी में आग लगा दी थी। इसके अलावा उन्होंने पुलिस के एक वाहन को भी आग के हवाले कर दिया था। उन्होंने बताया था कि प्रदर्शनकारियों ने अलीगढ़ और टप्पल के बीच फंसे कुछ निजी वाहनों पर पथराव भी किया था। हिंसक प्रदर्शन के दौरान खैर के पुलिस क्षेत्राधिकारी इंदु सिद्धार्थ घायल भी हो गए थे। हालांकि, उन्हें मामूली चोटें आई हैं। उल्लेखनीय है कि सरकार ने दशकों पुरानी रक्षा भर्ती प्रक्रिया में आमूल-चूल परिवर्तन करते हुए तीनों सेनाओं में सैनिकों की भर्ती संबंधी ‘अग्निपथ’ योजना की मंगलवार को घोषणा की थी। इसके तहत सैनिकों की भर्ती चार साल की लघु अवधि के लिए संविदा आधार पर की जाएगी। योजना के तहत सेना के तीनों अंगों में इस साल करीब 46,000 सैनिक भर्ती किए जाएंगे। चयन के लिए पात्रता आयु साढ़े 17 वर्ष से 21 वर्ष के बीच होगी और भर्ती होने वाले सैनिकों को ‘अग्निवीर’ नाम दिया जाएगा।

Previous articleलोकसभा उपचुनाव: समाजवादी पार्टी एक फ्यूज ट्रांसफार्मर है, मंत्री सुरेश खन्ना का अखिलेश पर हमला
Next articleलखीमपुर खीरी में बाघ ने मंदिर के पुजारी पर हमला कर मार डाला

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here