पल्लवी पटेल के दावे पर स्वामी प्रसाद मौर्य ने नहीं खोले अपने पत्ते

0
8

‘इंडिया’ गठबंधन से अलग होकर आल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहाद-उल-मुस्लिमीन (एआईएमआइएम) से गठबंधन करने वाले अपना दल (कमेरावादी) की नेता पल्लवी पटेल ने कहा है कि राष्ट्रीय शोषित समाज पार्टी के नेता एवं पूर्व मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य का आशीर्वाद उनके साथ है और वे साथ मिलकर सामाजिक न्याय के लिये मजबूत लड़ाई लड़ेंगे। हालांकि मौर्य ने नवगठित गठबंधन में शामिल होने की सम्भावनाओं के बारे में कोई भी टिप्पणी करने से इनकार किया है। पटेल ने कहा कि उनके ‘पिछड़ा, दलित, मुसलमान न्याय मोर्चा’ ने जनभावनाओं की लगातार अनदेखी कर रही सरकार और विपक्ष के ‘बड़े लोगों’ के खिलाफ जनता को एक विकल्प दिया है। उन्होंने कहा, ”हम तो लगातार विपक्षी इंडिया गठबंधन के अभिन्न अंग के रूप में काम कर ही रहे थे, लेकिन आप लोगों ने देखा कि किस प्रकार हम लोगों को धोखा दे दिया गया।

धोखा भी ऐसे वक्त पर दिया गया जब चुनावी गतिविधियां पूरे देश में काफी तेज हैं। हम राजनीतिक दल हैं तो हमें अपना रास्ता तो बनाना ही होगा और उसी के परिणामस्वरुप हमने यह गठबंधन बनाया है।” सिराथू से विधायक पल्लवी पटेल ने कहा, ”हमने गहराई से अध्ययन किया है कि लोग यह महसूस कर रहे हैं कि सरकार और विपक्ष के बड़े लोग उनके सवालों पर चुप हैं या पीछे हट रहे हैं। तो हमने इस प्रदेश की जनता को एक विकल्प देने का काम किया है।” इस सवाल पर कि क्या सपा छोड़कर राष्ट्रीय शोषित समाज पार्टी का झंडा थामने वाले उत्तर प्रदेश के पूर्व मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य को भी पिछड़ा, दलित, मुसलमान न्याय मोर्चा में शामिल किया जाएगा, पटेल ने कहा, ”मोर्चा में हमने सभी का स्वागत किया है और रही बात स्वामी प्रसाद मौर्य जी की तो वह अपने आप में सामाजिक न्याय की एक लंबी लड़ाई लड़ने वाले बहुत ही उच्च स्तर के नेता हैं तो उनको कैसे कोई किनारे कर सकता है। वह हमारे साथ हैं।

उनका आशीर्वाद हमारे साथ है और आप देखेंगे हम लोग मिलकर एक मजबूत लड़ाई लड़ेंगे।” उन्होंने कहा, ”हमारी पिछड़ा, दलित, मुसलमान न्याय मोर्चा की लड़ाई को हर वह संगठन चाहे वह छोटा हो या बड़ा, अगर उसकी लड़ाई को धार देने में हमारा साथ दे सकता है उन सभी का हम स्वागत करते हैं।” हालांकि मौर्य ने नवगठित गठबंधन में शामिल होने की सम्भावनाओं के बारे में कोई भी टिप्पणी करने से इनकार किया है। उन्होंने कहा, ”मैं कल लखनऊ में नहीं था। इस बाबत मेरी किसी से बात हुई नहीं है और बिना वार्ता किए किसी से कोई बात करना उचित नहीं है।” इस सवाल पर कि अगर सकारात्मक बातचीत होती है तो क्या वह इस गठबंधन में शामिल हो सकते हैं, उन्होंने कहा, ”फिलहाल राजनीति में अगर, मगर और लेकिन नहीं चलता है। अभी हमारा मकसद संविधान बचाओ भाजपा हटाओ, लोकतंत्र बचाओ भाजपा हटाओ, देश बचाओ भाजपा हटाओ है और इस उद्देश्य से जो इंडिया गठबंधन बना था मैं उसे लगातार सशक्त बनाने की दिशा में कार्य कर रहा हूं और हमारी कोशिश यही है की सभी समान विचारधारा के लोग एक मंच पर आयें और भाजपा को हटाएं, संविधान बचाएं, लोकतंत्र बचाएं, देश बचाएं।

उत्तर प्रदेश की मिर्जापुर, फूलपुर और कौशांबी लोकसभा सीटों की मांग पूरी नहीं होने पर विपक्षी गठबंधन इंडियन नेशनल डेवलपमेंटल इंक्लूसिव अलायंस से अलग हुए अपना दल (कमेरावादी) ने असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी एआईएमआइएम के साथ रविवार को एक नये गठबंधन का ऐलान कर दिया। दोनों दलों ने पीडीएम न्याय मोर्चा बनाया और इसे पिछड़ों, दलितों और मुसलमानों को न्याय दिलाने वाला मोर्चा बताया है। समाजवादी पार्टी (सपा) से अलग होकर राष्ट्रीय शोषित समाज पार्टी का झंडा थामने वाले उत्तर प्रदेश के पूर्व मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य ने रविवार को कुशीनगर लोकसभा सीट से चुनाव लड़ने का ऐलान कर दिया। मौर्य ने सोशल मीडिया मंच ‘एक्स’ पर इसकी घोषणा करते हुए यह भी कहा था कि अब देखना यह है कि विपक्ष का इंडियन नेशनल डेवलपमेंटल इंक्लूसिव अलायंस (इंडिया) उनका समर्थन करता है या नहीं। उन्होंने देवरिया से भी एक प्रत्याशी का नाम घोषित करते हुए कहा कि जल्द ही कुछ अन्य सीटों पर भी उम्मीदवारों का ऐलान किया जाएगा।

Previous articleअराजकता के रास्ते पर चलकर न्यायपालिका को निष्प्रभावी बनाने की कोशिश कर रही भाजपा सरकार : मौर्य
Next articleज्ञानवापी मामला : सुप्रीम कोर्ट ने काशी विश्वनाथ मंदिर न्यास को जारी किया

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here