UP Election: अवतार सिंह भड़ाना का यूटर्न, पहले वापस लिया नामांकन, अब फिर से जेवर से ठोंक दी ताल

0
323
avtar singh bhadana

नोएडा। यूपी विधानसभा चुनाव को लेकर हो रही दल बदल की राजनीति के बीच जेवर विधानसभा सीट से सपा रालोद गठबंधन प्रत्याशी ने अवतार सिंह भड़ाना ने यूटर्न लिया है। अवतार सिंह भड़ाना ने एक दिन पहले ही जेवर से दावेदारी को लेकर नामांकन वापस ले लिया था, लेकिन देर रात उन्होंने फिर जेवर से ही चुनाव लड़ने की ताल ठोंक दी।

मेरठ और फरीदाबाद लोकसभा सीट से सांसद रहे और वर्तमान में मीरापुर विधानसभा सीट से विधायक अवतार सिंह भड़ाना ने भाजपा से बगावत कर ली थी। हाल ही में उन्होंने रालोद की सदस्यता ग्रहण की थी, जिसके बाद उन्हें गठबंधन की ओर से जेवर विधानसभा सीट से प्रत्याशी बनाया गया। उन्होंने दो दिन पूर्व नामांकन भी कर दिया था। लेकिन गुरुवार को अचानक से उनकी ओर से सूचना आई कि वह कोरोना संक्रमित होने के कारण चुनाव नहीं लड़ रहे हैं और नाम वापस लेंगे। इसके बाद सियासी माहौल गरमा गया था और नए प्रत्याशी की खोज तेज हो गई थी।

रात में करीब पौने दस बजे अवतार सिंह भड़ाना ने ट्वीट किया कि कोरोना के शुरुआती लक्षण थे, लेकिन आरटीपीसीआर रिपोर्ट के अनुसार उन्हें कोरोना नहीं है। उन्होंने लिखा कि अपनों के लिए चुनाव लड़ूंगा। इस ट्वीट में उन्होंने अखिलेश यादव और जयंत चौधरी को टैग किया है। दूसरी ओर रालोद जिलाध्यक्ष भूपेंद्र चौधरी ने भी पुष्टि की कि अवतार सिंह भड़ाना चुनाव लड़ेंगे।

दिन भर चली बैठकें

अवतार सिंह भड़ाना के नाम वापसी की अटकलों के बाद सपा और रालोद के वरष्ठि नेताओं के बीच बैठकों के दौर दिन भर चलते रहे और नए प्रत्याशी के चयन को लेकर तीन नामों पर उनमें विशेष रूप से चर्चा रही और उसके बाद एक नाम को तय कर उन्हें चुनाव की तैयारी करने के भी संकेत दे दिए गए थे और शुक्रवार को उनका नामांकन कराया जाना था। लेकिन देर रात में हुए घटनाक्रम के बाद अब गठबंधन ने फिर से अवतार सिंह भड़ाना को ही चुनाव लड़ाने का फैसला किया है।

यासी माहौल में विभिन्न चर्चा

अवतार सिंह भड़ाना की ओर से एकदम से दिन में मैदान छोड़ने की सूचना आना और देर रात में फिर से चुनाव लड़ने की घोषणा को लेकर सियासी माहौल गरमा रहा है और इसको लेकर चर्चाएं भी चल रही हैं। सियासी हलकों में कहा जा रहा है कि कोरोना संक्रमित तो नोएडा से भाजपा प्रत्याशी पंकज सिंह भी हैं और अन्य नेता भी कोरोना से जूझ रहे हैं, लेकिन इस तरह से किसी ने चुनाव से बाहर होने का फैसला तो नहीं लिया था।

Previous articleUP Election: राज्यपाल से लेकर विधायक प्रत्याशी बनने तक…जानिए कैसी होगी बेबी रानी मौर्य की राह
Next articleभाजपा ज्वाइन करने के बाद लखनऊ लौटीं अपर्णा, ससुर मुलायम के पैर छूकर लिया आशीर्वाद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here