यूपी पुलिस का एक्शन: लुलु मॉल में नमाज पढ़ने वाले चार गिरफ्तार

0
154
two accused arrested
two accused arrested

यूपी पुलिस ने यहां लुलु मॉल में अनधिकृत रूप से नमाज पढ़ने के चार आरोपियों को मंगलवार सुबह गिरफ्तार किया , जबकि चार अन्य की तलाश की जा रही है। गिरफ्तारी के बाद मॉल में घुसने का प्रयास कर रहे अयोध्या के महंत परमहंस को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है। इस घटना से संबंधित वायरल वीडियो में महंत यह कहते सुने जा सकते कि उन्हें मॉल में जाने से इसलिए रोका जा रहा हैं क्योंकि वह भगवा वस्त्र पहने हुए हैं। पुलिस के अनुसार अनधिकृत रूप से नमाज पढ़ने वाले आरोपियों से पूछताछ की जा रही है और उनमें से मॉल का कोई कर्मचारी नहीं हैं।

पुलिस आयुक्त डी के ठाकुर ने मंगलवार को कहा, मॉल में अनधिकृत रूप से नमाज पढ़ने को लेकर चार लोगों को मंगलवार को गिरफ्तार किया गया। उनकी पहचान मो रेहान और आतिफ खान, मो लोकमान और मो नोमान के रूप में की गयी है। वे सभी लखनऊ के रहने वाले हैं।”उन्होंने बताया कि चार अन्य आरोपियों की तलाश की जा रही है। इस बीच, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोमवार रात कहा, लखनऊ प्रशासन को बहुत गंभीरता से इसे लेना चाहिए और इस प्रकार की किसी भी शरारत को स्वीकार नहीं करना चाहिए। उसे ऐसे तत्वों से सख्ती से निपटना चाहिए जो अनावश्यक मामलों को बढ़ावा देकर माहौल खराब करने का प्रयास करते हैं। ठाकुर ने बताया कि लुलु मॉल में प्रवेश का प्रयास करने पर महंत परमहंस को हिरासत में ले लिया गया है। गौरतलब है कि बुधवार यानी 13 जुलाई को लुलु मॉल में नमाज पढ़ने का वीडियो वायरल हुआ था। पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज के आधार पर आरोपियों पर शिकंजा कसा है।

इसी मामले पर दक्षिणपंथी संगठन अखिल भारतीय हिंदू महासभा के कुछ सदस्यों ने बृहस्पतिवार 14 जुलाई को लुलु मॉल के गेट पर धरना-प्रदर्शन किया था। खुद को महासभा का राष्ट्रीय प्रवक्ता बताने वाले शिशिर चतुर्वेदी ने आरोप लगाया था कि अगर एक समुदाय विशेष के लोगों को मॉल के अंदर नमाज पढ़ने की अनुमति दी जा रही है, तब मॉल के अधिकारियों को हिंदुओं तथा अन्य धर्मावलंबियों को भी मॉल के अंदर प्रार्थना करने की इजाजत देनी चाहिए।

शिशिर चतुर्वेदी और संगठन के अन्य लोगों ने थाने पहुंचकर शिकायत दर्ज कराई थी। इस बीच, लुलु मॉल के महाप्रबंधक समीर वर्मा ने एक वीडियो जारी कर कहा था लुलु मॉल सभी धर्मों का आदर करता है। मॉल के अंदर किसी भी तरह का धार्मिक कार्य या इबादत की इजाजत नहीं है। हम अपने स्टाफ तथा सुरक्षा कर्मियों को ऐसी गतिविधियों पर नजर रखने का प्रशिक्षण देते हैं। मॉल प्रबंधन ने सोमवार को एक बयान जारी कर कहा, हमारे यहां जितने भी कर्मी है, उनमें स्थानीय उत्तर प्रदेश एवं देश के विभिन्न हिस्सों के लोग हैं। उनमें से 80 प्रतिशत से अधिक हिंदू हैं तथा शेष मुस्लिम, इसाई एवं अन्य है। चतुर्वेदी की शिकायत में कहा गया था, ”मॉल के अंदर नमाज पढ़ी गई जो सार्वजनिक स्थलों पर नमाज पढ़ने की इजाजत नहीं होने संबंधी नीति के खिलाफ है। सोशल मीडिया पर वायरल खबरों के मुताबिक लुलु मॉल में पुरुष स्टाफ कर्मियों में 70% मुस्लिम है और 30% महिला स्टाफ हिंदू समुदाय से है। ऐसा करके लुलु मॉल प्रबंधन लव जिहाद को बढ़ावा दे रहा है। गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश के सबसे बड़े मॉल कहे जा रहे लुलु मॉल का मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 10 जुलाई को उद्घाटन किया था। इस दौरान राज्य सरकार के कई मंत्री तथा लुलु समूह के अध्यक्ष युसूफ अली भी मौजूद थे।

Previous articleसंभल में पुलिस से मुठभेड़, इनामी पशु तस्कर और सिपाही घायल
Next articleमेढक बना दूल्हा, मेढकी बनी दुल्हन, गोरखपुर में बारिश के लिए कराई गई अनोखी शादी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here