राजनाथ सिंह पहुंचे पीलीभीत के अग्रवाल सभा भवन, सपा और कांग्रेस पर किया ज़ुबानी वार

0
336

केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह बुधवार को दिन में तीन बजे पीलीभीत के अग्रवाल सभा भवन में पहुंचे। उन्होंने जिले की चार विधानसभा क्षेत्रों के उम्मीदवारों के समर्थन में सभा को संबोधित किया। राजनाथ सिंह ने सपा और कांग्रेस पर तीखे वार किए और कहा कि वह सपा से सीधा सवाल पूछते हैं- जब भी आपकी हुकूमत आती है तब गुंडागर्दी क्यों बढ़ जाती है? जाति और संप्रदाय के नाम पर राजनीति क्यों करते हैं? क्या इंसाफ और इंसानियत के नाम पर राजनीति नहीं हो सकती। इसके साथ वह बोले- यूपी में सपा की नैया डूबने वाली है। कोई सहारा नहीं बचा है। लाल टोपी भी नहीं बचा पाएगी। सपा गई..गई..गई।

विपक्ष के साथ सपा पर निशाना साधते हुए वह बोले- वर्ष 2017 में जब योगी सरकार बनी तब यूपी की अर्थव्यवस्था 11 लाख करोड़ की थी जो अब बढ़ कर 21 लाख करोड़ पहुंच गई है। जब-जब यूपी में भाजपा की सरकार आती है विकास योगासन करने लगता है। सभा में मौजूद एक युवक की ओर रूबरू होते हुए उन्होंने सवाल किया कि योग कितने होते हैं? वह बोल पाता, उससे पहले ही राजनाथ सिंह बोले-योग के 84 आसन होते हैं। 83 आसन बीजेपी करती है। शीर्षासन सपा और विपक्ष के लिए छोड़ दिया है।

कांग्रेस पर सीधा वार करते हुए उन्होंने कहा कि जब राजीव गांधी प्रधानमंत्री थे तब वे भ्रष्टाचार के आगे कितना लाचार हो गए थे। वे कहते थे- 100 पैसा भेजते हैं तो जनता की जेब में 15 पैसे पहुंचते हैं। फिर किसानों की ओर रूबरू होते हुए राजनाथ सिंह ने कहा कि भ्रष्टाचार को खत्म करने के लिए कांग्रेस ने कोई पहल नहीं की। कांग्रेस सरकार के मंत्री तक भ्रष्टाचार के आरोपों में जेल गए लेकिन मजाल है कि भाजपा का कोई मंत्री भ्रष्टाचार में शामिल हो। उन्होंने कहा कि भाजपा ने भ्रष्टाचार खत्म करने के लिए काम करके दिखाया है। भाजपा की कथनी और करनी में कोई अंतर नहीं है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने किसान के खाते में 6000 रुपये भेजे तो पूरे किसानों के खाते में पहुंचे। पहुंचे या नहीं? यह सवाल करते हुए उन्होंने किसानों से हामी भी भरवाई।

Previous articleसपा गठबंधन रेड अलर्ट, भाजपा सरकार सुरक्षा की गारंटी : सीएम योगी
Next articleकानपुर हाईवे में ट्रक और ऑटो की हुई टक्कर, 10 लोग घायल और 3 की हुई मौत

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here