UP Election 2022: तीसरे चरण में 61 प्रतिशत से ज्यादा वोटिंग, जानें 16 जिलों का मतदान प्रतिशत

0
211

UP Chunav: उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के तीसरे चरण के तहत राज्य के 16 जिलों की 59 विधानसभा सीटों पर रविवार को औसतन 61 प्रतिशत से अधिक मतदान हुआ। निर्वाचन आयोग के टर्नआउट एप्लीकेशन में देर रात तक दिए गए आंकड़े के मुताबिक, शाम पांच बजे तक औसतन 61.61% मतदान हुआ। तीसरे चरण में 97 महिलाओं समेत कुल 627 प्रत्याशियों की किस्मत इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों (ईवीएम) में कैद हो गई।

निर्वाचन कार्यालय से मिली जानकारी के अनुसार, कोविड प्रोटोकॉल का पालन करते हुए मतदान रविवार सुबह सात बजे शुरू हो गया, जो शाम छह बजे तक चला। टर्नआउट एप्लीकेशन में दिए गए आंकड़े के मुताबिक, शाम पांच बजे तक हाथरस में औसतन 63.14%, फिरोजाबाद में 61.89%, कासगंज में 63.04%, एटा में 65.7%, मैनपुरी में 63.66%, फर्रुखाबाद में 59.13%, कन्नौज में 61.93% और इटावा में 61.32% वोट पड़े।

इन जिलों में शुक्रवार शाम को चुनाव प्रचार समाप्त हो गया था। समाजवादी पार्टी के संस्थापक मुलायम सिंह यादव, सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव और उनकी पत्‍नी एवं पूर्व सांसद डिंपल यादव ने इटावा जिले के अपने पैतृक गांव सैफई में मतदान किया। मुलायम व्‍हीलचेयर पर मतदान केंद्र पर पहुंचे थे। झांसी के जिला निर्वाचन अधिकारी रविंद्र कुमार ने बताया कि जनता की शिकायतों के अनुसार गरौठा विधानसभा के मौठ क्षेत्र में मतदान दो घंटे देर से शुरू हुआ, लेकिन इसकी सूचना उच्च अधिकारियों को न देकर लापरवाही बरतने वाले सेक्टर मजिस्ट्रेट के खिलाफ कार्रवाई के निर्देश दिए गए हैं।

एटा जिले से मिली खबर के मुताबिक, जिले के अलीगंज मारहरा विधानसभा क्षेत्र में 10 लोग कथित तौर पर फर्जी मतदान करते हुए गिरफ्तार किए गए हैं। एटा के अपर पुलिस अधीक्षक धनंजय सिंह कुशवाहा ने इस बात की पुष्टि की। समाजवाजी पारटी ने फिरोजाबाद जिले के शिकोहाबाद विधानसभा क्षेत्र में भाजपा कार्यकर्ता द्वारा पुलिस प्रशासन की मौजूदगी में सपा कार्यकर्ता की पिटाई करने का आरोप लगाया है।

सपा ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से ट्वीट किया, ‘फिरोजाबाद जिले की शिकोहाबाद विधानसभा के बूथ नंबर 158 पर पुलिस प्रशासन की मौजूदगी में उसके चुनाव एजेंट को मारा-पीटा जा रहा है, भाजपा के लोगों के द्वारा। सपा ने निर्वाचन आयोग से मामले का संज्ञान लेकर दोषियों के खिलाफ कठोरतम कार्रवाई करने की मांग की है। कानपुर से मिली खबर के अनुसार, मतदान केंद्रों के अंदर मोबाइल से सेल्फी लेने और वीडियो बनाने के आरोप में कानपुर की महापौर प्रमिला पांडेय और भाजपा की युवा शाखा के पूर्व पदाधिकारी नवाब सिंह के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई है। एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि कानपुर की महापौर प्रमिला पांडे हडसन स्कूल में मतदान केंद्र के अंदर अपना मोबाइल फोन लेकर गईं और मताधिकार का प्रयोग करते हुए एक सेल्फी ली, जिसके बाद उनके खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई।

जिलाधिकारी नेहा शर्मा ने कहा कि कानपुर की महापौर ने ऐसा करके चुनाव आयोग के नियमों का उल्लंघन किया है, क्योंकि निर्वाचन आयोग ने मतदान केंद्रों के अंदर मोबाइल फोन के इस्तेमाल पर रोक लगा रखी है। गौरतलब है कि तीसरे चरण में लगभग 2.16 करोड़ मतदाता मताधिकार का इस्तेमाल करने के लिए पात्र थे। इनमें 1.16 करोड़ से अधिक पुरुष मतदाता, 99 लाख से ज्यादा महिला मतदाता और एक हजार से अधिक ट्रांसजेंडर मतदाता शामिल हैं।

निर्वाचन आयोग के मुताबिक, तीसरे चरण के चुनाव के लिए कुल 25,794 मतदान स्थल और 15,557 मतदान केंद्र बनाए गए थे तथा कोविड-19 के मद्देनजर हर मतदान स्थल पर मतदाताओं की अधिकतम संख्या 1,250 तक रखने के निर्देश दिए गए थे। तीसरे चरण में मैनपुरी जिले की करहल विधानसभा सीट भी शामिल थी, जहां सत्तारूढ़ भाजपा से केंद्रीय मंत्री प्रोफेसर एसपी सिंह बघेल और मुख्य विपक्षी दल सपा से पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव आमने-सामने थे। अखिलेश मैनपुरी जिले के करहल क्षेत्र से पहली बार विधानसभा चुनाव में किस्मत आजमा रहे हैं। वर्ष 2017 में सपा के सोबरन सिंह यादव ने इस सीट पर अपनी जीत बरकरार रखी थी। अखिलेश के चाचा शिवपाल सिंह यादव अपनी पारंपरिक जसवंतनगर सीट से चुनाव लड़ रहे हैं।

Previous articleup ke mukhya samachar: कानपुर में पोलिंग बूथ पर हिजाब उतरवाने पर महिलाओं ने किया हंगामा, जानिए क्या है पूरा मामला
Next articleUP Election: भड़काऊ टिप्पणी को लेकर भाजपा उम्मीदवार को चुनाव आयोग का नोटिस

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here