दैनिक यूपी ब्यूरो
30/09/2021  :  15:47 HH:MM
बलवीर गिरि होंगे नरेंद्र गिरि के उत्तराधिकारी, महंत ने सुसाइड नोट में सौंपी थी विरासत
Total View  644

अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष और श्रीमठ बाघंबरी गद्दी के महंत नरेंद्र गिरि की मृत्यु के बाद बलवीर गिरी को उनका उत्तराधिकारी बनाया जाएगा. महंत ने अपने सुसाइड नोट में बलवीर गिरी को ही अपनी विरासत सौंपी थी. वो महंत के तकरीबन 15 साल पुराने शिष्य हैं.

प्रयागराज, (दैनिक यूपी ब्यूरो)।अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष और श्रीमठ बाघंबरी गद्दी के महंत नरेंद्र गिरि की मृत्यु के बाद बलवीर गिरी को उनका उत्तराधिकारी बनाया जाएगा. महंत ने अपने सुसाइड नोट में बलवीर गिरी को ही अपनी विरासत सौंपी थी. वो महंत के तकरीबन 15 साल पुराने शिष्य हैं.

इस समय बलवीर गिरि निरंजनी अखाड़े के उप महंत हैं और हरिद्वार स्थित बिल्केश्वर महादेव मंदिर की व्यवस्था का संचालन करते हैं. महंत नरेंद्र गिरि जब अपने शिष्य आनंद गिरि से नाराज हो गए थे तो 10 साल पूर्व जो वसीयत आनंद गिरि के नाम की गई थी उसको उन्होंने रद्द कर दिया था. जिसके बाद उन्होंने आनंद गिरि के स्थान पर बलबीर गिरि के नाम वसीयत कर दी थी. बलवीर गिरि उत्तराखंड में ही रहते हैं और वो 2005 में संत बने थे. बलवीर गिरि साल 2019 से हरिद्वार के बिल्केश्वर महादेव मंदिर की व्यवस्था देख रहे हैं, वे योग करते हैं.

महंत नरेंद्र गिरि एक जमाने में आनंद गिरि को बेटे की तरह स्नेह करते थे. आनंद के पास प्रयागराज का सारा काम काज था, बाघंबरी मठ से लेकर संगम किनारे बड़े हनुमान मंदिर तक का. वह नरेंद्र गिरि के साथ आनंद साये की तरह रहा करते थे. साल 2019 में दोनों के रिश्ते खराब हुए तो नरेंद्र गिरि ने बलबीर गिरि को हरिद्वार से प्रयागराज बुला लिया. फिर दोनों बाघंबरी मठ में साथ-साथ रहने लगे.






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   805817
 
     
Related Links :-
देवोत्थान एकादशी आज : मांगलिक कार्य शुरू, चार माह से लगी थी रोक
13 को कनाडा से लखनऊ आएगी प्राचीन मां अन्‍नपूर्णा देवी की मूर्त‍ि, सौ साल पहले वाराणसी से हुई थी चोरी
छठ पूजा : सूर्य उपासना के महापर्व पर अस्तांचलगामी सूर्य को आज अर्घ्य देंगी व्रती महिलाएं
हस्तलिखित व 800 साल पुराना जैन धर्म ग्रंथ होगा संरक्षित, अभी लखनऊ के आशियाना जैन मंदिर में है सुरक्षित
छठ पूजा: नहाय खाय के साथ शुरू हुआ विधान, 36 घंटे का निर्जला व्रत कल से
छठ महापर्व के दौरान जरूरी है कोरोना का उचित व्यवहार
जानिए, दीपावली के सुबह से रात तक पूजन के मुहूर्त : शाम 5.19 बजे से 7.53 बजे तक रहेगा प्रदोष काल
कोरोना महामारी से छाया मंदी का बादल छंटा, धनतेरस पर बाजारों में हुई धनवर्षा
करवा चौथ : अखंड सौभाग्य के लिए महिलाएं रखेंगी व्रत, करवे के लिए सजे बाजार
अयोध्‍या : एक नवंबर से शुरू होगा दीपोत्‍सव, ड्रोन कैमरों से दिखाई जाएगी रामलीला
 
CopyRight 2016 DanikUp.com