दैनिक यूपी ब्यूरो
23/09/2021  :  13:42 HH:MM
अब रेलवे अस्पतालों में गैर रेलकर्मी भी करा सकेंगे इलाज, अस्‍पताल व स्‍कूल पीपीपी माडल पर होंगे व‍िकस‍ित
Total View  614

रेलवे के अस्पतालों में रेल कर्मियों और उनके स्वजनों के अलावा गैर रेल कर्मी लोग भी अपना इलाज करा सकेंगे। यह अस्पताल अब न सिर्फ पूरी तरह डिजिटल होंगे। बल्कि पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप (पीपीपी माडल) के तहत विकसित किए जाएंगे। यानी, अस्पतालों का समग्र विकास होगा।

गोरखपुर,(दैनिक यूपी ब्यूरो)। रेलवे के अस्पतालों में रेल कर्मियों और उनके स्वजनों के अलावा गैर रेल कर्मी लोग भी अपना इलाज करा सकेंगे। यह अस्पताल अब न सिर्फ पूरी तरह डिजिटल होंगे। बल्कि पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप (पीपीपी माडल) के तहत विकसित किए जाएंगे। यानी, अस्पतालों का समग्र विकास होगा।

दरअसल, गोरखपुर सहित देश के 40 स्टेशनों के बाद हास्पिटल और स्कूलों को भी पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप (पीपीपी) के हाथों में देने की योजना पर काम चल रहा है। इस योजना के तहत हास्पिटल ही नहीं रेलवे के स्कूल भी पीपीपी माडल पर विकसित होंगे। अगर कोई पार्टनर नहीं मिला तो स्कूल केंद्र या राज्य सरकार के विद्यालयों से संबद्ध कर दिए जाएंगे। अभी तक रेलवे के विद्यालयों में बाहरी लोगों के बच्चों के लिए कोटा निर्धारित था, नई व्यवस्था रेलवे कर्मचारियों के लिए कोटा निर्धारित होगा।

फिलहाल, गोरखपुर स्थित ललित नारायण मिश्र केंद्रीय रेलवे अस्पताल में हास्पिटल मैनेजमेंट इंफार्मेशन सिस्टम (एचएमआइएस) लागू हो गया है। रेलकर्मी उम्मीद कार्ड पर अपना इलाज कराने लगे हैं। उन्हें अपने साथ डाक्टर की पर्ची या जांच रिपोर्ट लेकर अस्पताल पहुंचने की जरूरत नहीं पड़ रही।

जानकारों के अनुसार स्टेशन, स्कूल और अस्पतालों के विकास के साथ संबद्ध संगठनों को आपस में समाहित करने की तैयारी भी शुरू हो गई है। एनई रेलवे मजदूर यूनियन (नरमू) के महामंत्री केएल गुप्ता शुरू से ही रेलवे बोर्ड पर कार्मिक विभाग को खत्म करने, उत्पादन इकाइयों को मिलाकर प्रोडक्शन यूनिट बनाने तथा यांत्रिक, विद्युत विभाग को आपस में विलय करने तथा स्टेशनों, ट्रेनों, कालोनियों और खाली भूमि को निजी हाथों में सौंपकर रेलवे के अस्तित्व को समाप्त करने का आरोप लगा रहे हैं। अब आरवीएनएल को इरकान में तथा क्रिस और रेलटेल को इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कार्पोरेशन (आइआरसीटीसी) से संबद्ध करने की योजना भी बनने लगी है।

वर्षों से बंद चल रहे स्पेशल क्लास रेलवे अप्रेंटिस शुरू करने की भी तैयारी शुरू हो गई है। रेलवे भर्ती बोर्ड (आरआरबी) की जगह नेशनल भर्ती बोर्ड के तहत नई भर्ती कराने की भी योजना है।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   6814318
 
     
Related Links :-
सीतापुर में दो ट्रैक्टर-ट्रालियों की भिडंत, दो की मौत; एक गंभीर
योग के लाभ जन -जन तक पहुंचाने के लिए भारत स्वाभिमान विधि प्रकोष्ठ का गठन
कसेरूखेड़ा में मेले की तैयारी पूरी, मैदान में खड़ा हुआ 70 फुट उंचा रावण
सुब्रत राय ने नेटफ्लिक्स पर किया मानहानि का मुकदमा, कंपनी के 3 अधिकारी विशेष अदालत में तलब
गांव से लेकर शहर में विद्युत आपूर्ति हुई सामान्य, त्योहारों के मद्देनजर योगी सरकार ने खरीदी महंगी बिजली
कलाम के आदर्शों को अपने दैनिक जीवन में उतारें : डॉ अंकिता राज
संचारी रोगों पर हो सीधा वार, ग्राम पंचायतों में चलाया जाए फागिंग अभियान : अनुज सिंह
आगरा: अछनेरा में लगेगा उत्तर भारत का पहला कूड़ा शोधन प्लांट
यूपी की बिजली व्यवस्था में सुधार के लिए योगी सरकार ने बनाई योजना, खर्च होंगे 10 हजार करोड़ रुपये
सपाइयों ने लोकनायक जयप्रकाश नारायण को किया याद
 
CopyRight 2016 DanikUp.com