दैनिक यूपी ब्यूरो
20/09/2021  :  11:47 HH:MM
पितृ पक्ष की शुरूआत आज से, जानिए पितरों के पूजन की खास विधि और तिथियां
Total View  620

अपनों को याद कर उन्हें तिलांजलि देने के लिए पितृ पक्ष की शुरुआत सोमवार, 20 सितंबर से हो रही है। पहले दिन पूर्णिमा को दिवंगत हुए पूर्वजों का तर्पण किया जाता है जो भाद्रपद शुक्ल पूर्णिमा से आश्विन कृष्ण अमावस्या तक 16 दिनों तक चलता है। पूर्वजों के श्राद्ध के तहत इस बार पितृ पक्ष 20 सितंबर को भाद्रपद मास की शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि से शुरू हो गया है।

लखनऊ, (दैनिक यूपी ब्यूरो)। अपनों को याद कर उन्हें तिलांजलि देने के लिए पितृ पक्ष की शुरुआत सोमवार, 20 सितंबर से हो रही है। पहले दिन पूर्णिमा को दिवंगत हुए पूर्वजों का तर्पण किया जाता है जो भाद्रपद शुक्ल पूर्णिमा से आश्विन कृष्ण अमावस्या तक 16 दिनों तक चलता है। पूर्वजों के श्राद्ध के तहत इस बार पितृ पक्ष 20 सितंबर को भाद्रपद मास की शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि से शुरू हो गया है। 

पितृपक्ष का समापन छह अक्टूबर बुधवार को आश्विन मास की कृष्ण पक्ष की अमावस्या तिथि को होगा। आचार्य एसएस नागपाल ने बताया कि 16 दिनों की अवधि के दौरान सभी पूर्वज अपने परिजनों को आशीर्वाद देने के लिए पृथ्वी पर आते हैं। उन्हें प्रसन्न करने के लिए तर्पण, श्राद्ध और पिंड दान किया जाता है। पितृपक्ष में किए गए दान-धर्म के कार्यों से पूर्वजों की आत्मा को तो शांति मिलती है, साथ ही पितृ ऋण से मुक्ति मिलती है।

आचार्य शक्तिधर त्रिपाठी ने बताया कि पितृपक्ष के पखवारे में पितृ किसी भी रूप में आपके घर में आते हैं। किसी भी पशु या इंसान का अनादर नहीं किया जाना चाहिए। बल्कि, आपके दरवाजे पर आने वाले किसी भी प्राणि को भोजन दिया जाना चाहिए और आदर सत्कार करना चाहिए। जिस तिथि को पितरों की मृत्यु हुई हो. उस तिथि को उनके नाम से श्रद्धा और यथाशक्ति के अनुसार ब्राह्मणों को भोजन करवाएं। आचार्य कृष्ण कुमार मिश्रा ने बताया कि पितरों के नाम पर भोजन गाय, कौओं और कुत्तों को भी खिलाएं. जिन पितरों की पुण्यतिथि परिजनों को ज्ञात नहीं हो तो उनका श्राद्ध, दान, एवं तर्पण पितृविसर्जनी अमावस्या के दिन करते हैं। 

तिथिवार तर्पण जरूरी, 26 को नहीं होगा श्राद्धः आचार्य आनंद दुबे ने बताया कि पितृपक्ष में पूर्वजों के दिवंगत होने की तिथि के अनुरूप ही तर्पण दान पुण्य करना चाहिए। तिलांजलि के साथ ही पिंडदान करके पूर्वजों के नाम पर श्रद्धानुसार दान का विशेष फल मिलता है। तिथिवार श्रद्धा इस प्रकार हैं। इस बार 26 सितंबर को श्राद्ध का दिन नहीं है। ऐसे में इस दिन श्राद्ध करने से बचना चाहिए। 

20 सितंबर         पूर्णिमा श्राद्ध 21 सितंबर         प्रतिपदा श्राद्ध 22 सितंबर         द्वितीया श्राद्ध 23 सितंबर         तृतीया श्राद्ध 24 सितंबर         तृतीया श्राद्ध 25 सितंबर         पंचमी श्राद्ध 27 सितंबर         षष्ठी श्राद्ध 28 सितंबर         सप्तमी श्राद्ध 29 सितंबर         अष्टमी श्राद्ध 30 सितंबर         नवमी श्राद्ध एक अक्टूबर       दशमी श्राद्ध दो अक्टूबर         एकादशी श्राद्ध तीन अक्टूबर       द्वादशी श्राद्ध चार अक्टूबर       त्रयोदशी श्राद्ध पांच अक्टूबर       चतुर्दशी श्राद्ध छह अक्टूबर       अमावस्या श्राद्ध
गायत्री ज्ञान मंदिर में हर दिन होगा सामूहिक पिंड दानः इंदिरा नगर सेक्टर-नौ स्थित गायत्री ज्ञान मंदिर में हर वर्ष की भांति पितृपक्ष पर पिंड दान व तर्पण का अवसर दिया जाएगा। 20 सितंबर 2021 से सामूहिक पिंड तर्पण शुरू होगा और छह अक्टूबर तक चलेगा। हर दिन सुबह पांच बले सामूहिक पिंडदान होगा। मुख्य संयोजक उमानंद शर्मा ने बताया किया देव आह्वान पूजन के उपरांत तर्पण शुरू होगा। पिंड दान व गायत्री यज्ञ भी होगा। तर्पण के सभागार में युग ऋषि द्वारा रचित धर्म एवं अध्यात्म, वैज्ञानिक विश्लेषण के साथ जीवन मृत्यु पर आधारित साहित्य भी पढ़ने के लिए मौजूद रहेगा। वहीं मनकामेश्वर मंदिर की महंत देव्या गिरि की ओर से कोरोना में दिवंगत हुए अज्ञात लोगों की याद में पिंडदान किया जाएगा।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   3270131
 
     
Related Links :-
अयोध्या गुरुद्वारा ब्रह्मकुंड: नवम गुरु तेगबहादुर ने यहां किया था 48 घंटे का अखंड तप
सारे पापों का निवारण मात्र प्रभु का नाम है : कर्म योगी परमहंस
पट्टाभिषेक रस्‍म में जुटेगी भीड़, श्रीमठ बाघम्बरी गद्दी में कल कोरोना जांच टीम भी रहेगी सक्रिय
बलवीर गिरि होंगे नरेंद्र गिरि के उत्तराधिकारी, महंत ने सुसाइड नोट में सौंपी थी विरासत
पितृ पक्ष की शुरूआत आज से, जानिए पितरों के पूजन की खास विधि और तिथियां
आगरा: युवाओं ने डेंगू मरीजों के लिए किया रक्तदान, मंदिर में बांटे तुलसी के पौधे और भोजन
इटावा: जमीन के लालच में पुत्र ने अपनी पत्नी के साथ मिलकर की सौतेले पिता की हत्या
नाग पंचमी पर करें काल सर्प दोष की पूजा, इस दिन भोलेनाथ भी होते हैं प्रसन्न
मुहर्रम पर कोविड-19 गाइड लाइन का सख्ती से होगा पालन : अंकित कुमार
सावन का पहला सोमवार : महादेव के रुद्राभिषेक के लिए मंदिरों के बाहर लगी लंबी कतारें
 
CopyRight 2016 DanikUp.com