13/08/2021  :  11:10 HH:MM
नाग पंचमी पर करें काल सर्प दोष की पूजा, इस दिन भोलेनाथ भी होते हैं प्रसन्न
Total View  625

हर साल सावन के महीने में नाग देवता को प्रसन्न करने के लिए मनाया जाने वाला पर्व यानी नाग पंचमी आज (शुक्रवार) मनाई जा रही है। नाग पंचमी पर लोग काल सर्प दोष की पूजा भी करते हैं।सनातन धर्म के लोग नाग की देवता के रूप में पूजा-आराधना करते हैं। यह हर वर्ष सावन माह के शुक्ल पक्ष की पंचमी मनाई जाती है।

लखनऊ, (दैनिक यूपी ब्यूरो)। हर साल सावन के महीने में नाग देवता को प्रसन्न करने के लिए मनाया जाने वाला पर्व यानी नाग पंचमी आज (शुक्रवार) मनाई जा रही है। नाग पंचमी पर लोग काल सर्प दोष की पूजा भी करते हैं।सनातन धर्म के लोग नाग की देवता के रूप में पूजा-आराधना करते हैं। यह हर वर्ष सावन माह के शुक्ल पक्ष की पंचमी मनाई जाती है। इस वर्ष नाग पंचमी 13 अगस्त को मनाई जा रही है। इस दिन नाग देवता की विधि विधान से पूजा की जाती है। मान्यता के अनुसार इस दिन नाग देवता की पूजा करने से शुभ फल मिलता है। इसके साथ ही भोलेनाथ प्रसन्न होते हैं और आशीर्वाद देते हैं।

नाग पंचमी पर इस बार बेहद दुर्लभ योग बन रहे हैं। यह योग राहु-केतु के दोषों और काल सर्प दोष से मुक्ति के लिए अच्छे होते हैं। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार इस योग में पूजा करने से राहु-केतु के दोषों के अलावा काल सर्प दोष से भी मुक्ति मिल सकती है।

नाग पंचमी को लेकर एक और पौराणिक कथा भगवान कृष्ण से भी जुड़ी है। कहते हैं श्री कृष्ण गेंद लाने नदी में कूद गए थे। जिसके बाद कालिया नाग ने उन पर हमला कर दिया। तब भगवान कृष्ण ने उसे सबक सिखाया। जिसके बाद कालिया नाग ने श्री कृष्ण से उसे माफ करने की याचना की और वचन दिया कि वह अब किसी को नुकसान नहीं पहुंचाएगा। तब से इस दिन को लोग नाग पंचमी के रूप में मनाने लगे।


इस मुहूर्त में करे पूजा

नाग पंचमी का शुभ मुहूर्त 12 अगस्त दोपहर 3:24 मिनट पर शुरू होगा और 13 अगस्त 2021 की दोपहर 1:42 बजे तक चलेगा। वहीं, 13 अगस्त को पूजा का मुहूर्त सुबह 8:28 बजे तक का है।

नाग पंचमी पूजा विधि

नागपंचमी के दिन दीवार हल्दी चंदन की स्याही से पांच नाग बनाए जाते हैं। इसके बाद खीर, धूप, नैवेद्य फूल चढ़ाकर आदि से विधिवत पूजा की जाती है। इसके बाद गरीबों में दान दिया जाता है।

नाग पंचमी का महत्व

मान्यताओं के अनुसार नाग देवता मां लक्ष्मी की रक्षा करते हैं और इस दिन नाग देवता की पूजा-आराधना करने से मां लक्ष्मी के आशीर्वाद और धन-वैभव की प्राप्ति होती है। वहीं, कालसर्प दोष वाले व्यक्ति अगर सच्चे मन से नाग देवता की पूजा और व्रत करते हैं तो उन्हेंं इस दोष से मुक्ति मिलती है। इसके अलावा जिन लोगों को सपने में सांप दिखाई देते हैं या उनसे डर लगता है। उनके लिए भी इस दिन पूजा करना लाभप्रद होता है।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   65428
 
     
Related Links :-
अयोध्या गुरुद्वारा ब्रह्मकुंड: नवम गुरु तेगबहादुर ने यहां किया था 48 घंटे का अखंड तप
सारे पापों का निवारण मात्र प्रभु का नाम है : कर्म योगी परमहंस
पट्टाभिषेक रस्‍म में जुटेगी भीड़, श्रीमठ बाघम्बरी गद्दी में कल कोरोना जांच टीम भी रहेगी सक्रिय
बलवीर गिरि होंगे नरेंद्र गिरि के उत्तराधिकारी, महंत ने सुसाइड नोट में सौंपी थी विरासत
पितृ पक्ष की शुरूआत आज से, जानिए पितरों के पूजन की खास विधि और तिथियां
आगरा: युवाओं ने डेंगू मरीजों के लिए किया रक्तदान, मंदिर में बांटे तुलसी के पौधे और भोजन
इटावा: जमीन के लालच में पुत्र ने अपनी पत्नी के साथ मिलकर की सौतेले पिता की हत्या
नाग पंचमी पर करें काल सर्प दोष की पूजा, इस दिन भोलेनाथ भी होते हैं प्रसन्न
मुहर्रम पर कोविड-19 गाइड लाइन का सख्ती से होगा पालन : अंकित कुमार
सावन का पहला सोमवार : महादेव के रुद्राभिषेक के लिए मंदिरों के बाहर लगी लंबी कतारें
 
CopyRight 2016 DanikUp.com