दैनिक यूपी ब्यूरो
23/07/2021  :  09:02 HH:MM
गुरु पूर्णिमा : इस बार 2 दिन यानी 23 और 24 जुलाई को कर सकेंगे गुरु नमन
Total View  646

सनातन धर्म में आषाढ़ पूर्णिमा के अवसर पर गुरु पूजा का विधान है। मगर, इस बार पूर्णिमा तिथि दो दिन मिल रही है। लिहाजा, 23 जुलाई को सुबह 9:34 बजे से लग रही पूर्णिमा अगले दिन 24 जुलाई को सुबह 7:41 बजे तक रहेगी। यानी गुरु पूर्णिमा दो दिन मनाई जाएगी। मशहूर ज्योतिषाचार्य पं. दीपक दुबे के अनुसार जब पूर्णिमा उदया तिथि में मिलती है तब गुरु पूर्णिमा मनाई जाती है। ऐसे में गुरु पूजन पर्व 24 जुलाई को मनाया जाएगा।

वाराणसी, (दैनिक यूपी ब्यूरो)। सनातन धर्म में आषाढ़ पूर्णिमा के अवसर पर गुरु पूजा का विधान है। मगर, इस बार पूर्णिमा तिथि दो दिन मिल रही है। लिहाजा, 23 जुलाई को सुबह 9:34 बजे से लग रही पूर्णिमा अगले दिन 24 जुलाई को सुबह 7:41 बजे तक रहेगी। यानी गुरु पूर्णिमा दो दिन मनाई जाएगी। मशहूर ज्योतिषाचार्य पं. दीपक दुबे के अनुसार जब पूर्णिमा उदया तिथि में मिलती है तब गुरु पूर्णिमा मनाई जाती है। ऐसे में गुरु पूजन पर्व 24 जुलाई को मनाया जाएगा।

काशी हिंदू विश्वविद्यालय के ज्योतिष विभागाध्यक्ष प्रो. विनय पांडेय के अनुसार गुरु मानव जीवन को अज्ञानता के अंधेरे को भस्म कर ज्ञान के प्रकाश की ओर ले जाते हैं। शास्त्रों के अनुसार आषाढ़ माह की पूर्णिमा पर भगवान विष्णु के अवतार महर्षि वेद व्यास का जन्म हुआ था। उन्होंने पुराणों की रचना की। कौरव और पांडव इन्हें गुरु मानते थे। इस कारण आषाढ़ माह की पूर्णिमा को गुरु या व्यास पूर्णिमा कहा जाता है। गुरुकुल आश्रम में शिक्षा ग्रहण करने वाले बच्चे विद्याध्ययन के बदले गुरु पूर्णिमा के दिन श्रद्धाभाव से अपने गुरु का पूजन करते थे। मान्यता है कि जिस प्रकार आषाढ़ की घटा बिना भेदभाव किए सभी पर जलवृष्टि कर ताप हरती है, उसी प्रकार गुरु अपने शिष्यों को इस पावन दिन पर आशीर्वाद से अभिसिंचित करते हैं।

काशी विद्वत परिषद के महामंत्री प्रो. रामनारायण द्विवेदी के अनुसार गुरु पूर्णिमा के दिन शिष्य अपने गुरु का अपने श्रद्धा, भक्ति और शक्ति के अनुसार पूजन कर आशीष प्राप्त करते हैं। भारत भूमि में इसे महापर्व के रूप में मनाया जाता है। जिसका कोई गुरु नहीं है वह महागुरु बाबा संकटमोचन के दरबार में हाजिरी लगाता है। इसी दिन से संतों का चातुर्मास साधना का महाव्रत भी आरंभ हो जाता है। इस बार कोविड 19 प्रोटोकॉल के तहत गुरु दर्शन भक्‍त करेंगे। मठ और आश्रमों में भीड़ को कम रखने की कोशिश जारी रहेगी।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   9885237
 
     
Related Links :-
पितृ पक्ष की शुरूआत आज से, जानिए पितरों के पूजन की खास विधि और तिथियां
आगरा: युवाओं ने डेंगू मरीजों के लिए किया रक्तदान, मंदिर में बांटे तुलसी के पौधे और भोजन
इटावा: जमीन के लालच में पुत्र ने अपनी पत्नी के साथ मिलकर की सौतेले पिता की हत्या
नाग पंचमी पर करें काल सर्प दोष की पूजा, इस दिन भोलेनाथ भी होते हैं प्रसन्न
मुहर्रम पर कोविड-19 गाइड लाइन का सख्ती से होगा पालन : अंकित कुमार
सावन का पहला सोमवार : महादेव के रुद्राभिषेक के लिए मंदिरों के बाहर लगी लंबी कतारें
गुरु पूर्णिमा : इस बार 2 दिन यानी 23 और 24 जुलाई को कर सकेंगे गुरु नमन
भगवान शिव का प्रिय मास श्रावण, 26 जुलाई को होगा सावन का पहला सोमवार व्रत
देवी- देवताओं पर अभद्र टिप्पणी करने वाले डिप्टी सीएमओ के खिलाफ हिन्दू सेवा समिति ने किया प्रदर्शन
21 जुलाई को मनाई जाएगी बकरीद, शिया व सुन्‍नी ओलमाओं ने की तस्दीक
 
CopyRight 2016 DanikUp.com