दैनिक यूपी ब्यूरो
30/06/2021  :  12:24 HH:MM
गुरुवार से खुलेंगे यूपी के स्कूल, मगर बच्चों की पढ़ाई अब भी होगी ऑनलाइन
Total View  570

वैश्विक महामारी कोरोना की दूसरी लहर के कमजोर पड़ने के बाद उत्तर प्रदेश सरकार ने विभिन्न व्यापारिक, आर्थिक गतिविधियों के साथ-साथ शैक्षणिक कार्यों से भी प्रतिबंध हटाने की कवायद शुरु कर दी है। योगी सरकार ने राज्य में सभी शासकीय प्राथमिक और उच्च प्राथमिक विद्यालयों को 1 जुलाई, 2021 से खोले जाने के आदेश जारी कर दिए हैं। मगर, बच्चों को स्कूल आने की इजाजत नहीं होगी। यानी छात्र-छात्राओं की ऑनलाइन पढ़ाई ई-पाठशाला से माध्यम से जारी रहेगी।

लखनऊ, (दैनिक यूपी ब्यूरो)। वैश्विक महामारी कोरोना की दूसरी लहर के कमजोर पड़ने के बाद उत्तर प्रदेश सरकार ने विभिन्न व्यापारिक, आर्थिक गतिविधियों के साथ-साथ शैक्षणिक कार्यों से भी प्रतिबंध हटाने की कवायद शुरु कर दी है। योगी सरकार ने राज्य में सभी शासकीय प्राथमिक और उच्च प्राथमिक विद्यालयों को 1 जुलाई, 2021 से खोले जाने के आदेश जारी कर दिए हैं। मगर, बच्चों को स्कूल आने की इजाजत नहीं होगी। यानी छात्र-छात्राओं की ऑनलाइन पढ़ाई ई-पाठशाला से माध्यम से जारी रहेगी।

आदेश के अनुसार तमाम विद्यालय प्रबंधन अपने अध्यापकों और कर्मचारियों को शैक्षिक और गैर-शैक्षिक कार्यों के लिए बुला सकते हैं। सरकार ने स्कूलों में सख्ती से कोरोना नियमों का पालन करने का भी आदेश दिया है। हालांकि, इससे पहले सभी स्कूलों को 30 जून तक बंद करने का आदेश दिया गया था। जिसके तहत सभी सरकारी, गैर सरकारी, परिषदीय एवं अन्य विद्यालयों में ऑनलाइन तरीके से शैक्षिक गतिविधियां संचालित की जा रही हैं। 

पिछले दिनों उत्तर प्रदेश बेसिक शिक्षा परिषद के सचिव प्रताप सिंह बघेल ने सभी बेसिक शिक्षा अधिकारियों और मंडलीय सहायक शिक्षा निदेशकों (बेसिक) को भेजे निर्देश में कहा कि कक्षा एक से आठ तक के प्राथमिक व उच्च प्राथमिक स्कूलों में शिक्षक व कर्मचारियों को प्रशासनिक कार्य के लिए आने की अनुमति दी जा रही है। विद्यालय केवल प्रशासनिक कार्य के लिए खोले जा रहे हैं।

उत्तर प्रदेश में कोविड के चलते स्कूलों में पढ़ाई लिखाई पर भी बड़ा असर पड़ा है। अब कोरोना वायरस का असर कम होने पर माध्यमिक शिक्षा परिषद स्कूल खोलने की तैयारी में हैं। 9वीं से 12वीं तक की कक्षाओं के लिए स्कूल खोलने पर विचार किया जा रहा है। इसके लिए शिक्षा बोर्ड के सचिव दिव्यकांत शुक्ल ने 23 जून को शाम तक जिलों से अभिभावकों की राय मांगी थी, लेकिन जवाब देने में अधिकांश अभिभावकों ने रुचि नहीं दिखाई। अब फिर से राय मांगने की तैयारी है। 


निर्धारित तारीख तक प्रदेश से गिने चुने मंडल से ही इस आशय की रिपोर्ट बोर्ड मुख्यालय पहुंची। जो रिपोर्ट आई है, उसमें स्कूल न खोलने की भी राय है। इससे बोर्ड बहुमत के आधार पर अभिभावकों की मंशा का अनुमान नहीं लगा पाया कि स्कूल खोले जाएं या नहीं। ऐसे में एक बार फिर अभिभावकों की राय मांगे जाने की तैयारी है। बहुतायत में मिलने वाली राय के आधार पर निर्णय लिया जाएगा। इधर, बच्चों को कोरोना रोधी वैक्सीन लगने तक अभिभावक उन्हें स्कूल भेजने के पक्ष में नहीं है। बोर्ड अभिभावकों की राय एकत्र करने के बाद कोई फैसला ले सकता है।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   1731451
 
     
Related Links :-
लंबे समय से एक ही विकास खंड में कार्यरत शिक्षा अधिकारी होंगे स्थानांतरित
यूपी : असिस्टेंट प्रोफेसर भर्ती के संशोधित रिजल्ट में टॉपर हुई फेल
गुरुवार से खुलेंगे यूपी के स्कूल, मगर बच्चों की पढ़ाई अब भी होगी ऑनलाइन
5 जुलाई से 3 अगस्त तक चलेंगी पूर्वांचल विश्वविद्यालय की मुख्य परीक्षाएं
कर्मचारी संघर्ष मोर्चा ने पूर्वांचल यूनिवर्सिटी के बंटवारे का किया विरोध
यूपी में ई-पाठशाला को बेहतर बनाएंगे प्रेरणा साथी, पढ़ाई के साथ फालोअप पर रहेगा जोर
REET 2021 : रीट परीक्षा तिथि बदलने की मांग पर शिक्षा मंत्री डोटासरा ने दिया ये बयान
चीन का साथ छोड़ रहे कई देश, भारत से कर रहे कोरोना वैक्सीन की मांग
CA Exam : ICAI की चेतावनी, धमकी भरे ईमेल भेजने वाले छात्रों पर होगी कानूनी कार्रवाई
भारतीय स्टेट बैंक ने PO के लिए निकाली बंपर वेकैंसी, जानिए कैसे कर सकते हैं अप्लाई...
 
CopyRight 2016 DanikUp.com