दैनिक यूपी ब्यूरो
13/06/2021  :  11:40 HH:MM
केजीएमयू का शोध : वैक्सीन लगवाने के बाद बनी एंटीबॉडी ज्यादा प्रभावी
Total View  570

वायरस से बचाव के लिए व्यक्ति के शरीर में लगने वाली वैक्सीन के बाद बनी एंटीबॉडी ज्यादा प्रभावी और दीर्घकालिक यानी लंबे समय तक इम्युनिटी देती है। वहीं, कोरोना इंफेक्शन के बाद बनी एंटीबॉडी तीन-चार महीने के बाद खत्म हो जाती हैं। इससे यह साफ हो गया है कि कोविड-19 से निपटने के लिए हमें जो हर्ड इम्युनिटी चाहिए, वह केवल वैक्सीनेशन से ही मिल सकती है। यह जानकारी किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी (केजीएमयू) के ट्रांसफ्यूजन मेडिसिन विभाग की ओर से किए जा रहे शोध के बाद सामने आई है।

लखनऊ, (दैनिक यूपी ब्यूरो)। कोरोना वायरस से बचाव के लिए व्यक्ति के शरीर में लगने वाली वैक्सीन के बाद बनी एंटीबॉडी ज्यादा प्रभावी और दीर्घकालिक यानी लंबे समय तक इम्युनिटी देती है। वहीं, कोरोना इंफेक्शन के बाद बनी एंटीबॉडी तीन-चार महीने के बाद खत्म हो जाती हैं। इससे यह साफ हो गया है कि कोविड-19 से निपटने के लिए हमें जो हर्ड इम्युनिटी चाहिए, वह केवल वैक्सीनेशन से ही मिल सकती है। यह जानकारी किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी (केजीएमयू) के ट्रांसफ्यूजन मेडिसिन विभाग की ओर से किए जा रहे शोध के बाद सामने आई है। 

इस संबंध में केजीएमयू के ट्रांसफ्यूजन मेडिसिन विभाग की अध्यक्ष डा. तूलिका चंद्रा ने बताया कि विभाग द्वारा 989 स्वास्थ्यकर्मी और पांच सौ प्लाज्मा डोनर की रक्त जांच की गई। इनमें डाक्टर, कर्मचारी, हेल्थ वर्कर आदि शामिल हैं। खून की जांच से पता चला कि इनमें से 88 प्रतिशत (869) में एंटीबॉडी मौजूद थी। इनमें से 73 प्रतिशत लोगों को वैक्सीन की दोनों डोज लग चुकी थीं, जबकि 13 प्रतिशत को केवल एक डोज ही लगी थी। बाकी बचे लोग ऐसे थे, जिन्हें पिछले कुछ महीनों में कोरोना संक्रमण हो चुका था। इनमें से 61 हेल्थ केयर वर्कर ऐसे थे, जिनको वैक्सीन की दोनों डोज लगने के बावजूद पर्याप्त मात्रा में एंटीबॉडी नहीं बनी थी वहीं,120 लोगों में एंटीबॉडी नहीं मिली। इनमें से 14 ऐसे थे, जिनमें एक डोज लगी थी, जबकि 66 लोगों में दोनों डोज लग चुकी थी। 25 लोगों ने वैक्सीनेशन ही नहीं कराया था। इसके अलावा नौ ऐसे लोग थे, जो चार महीने के भीतर कोविड पॉजिटिव हुए थे। जबकि, 11 लोग चार महीने पहले कोविड पॉजिटिव हुए थे। 


इसी प्रकार पांच सौ प्लाज्मा डोनर में भी एंटीबॉडी की जांच की गई, जो कोरोना से ठीक होने के 14 दिन से तीन महीने के बाद प्लाज्मा देने आए थे। इनमें से 50 फीसद में ही पर्याप्त एंटीबॉडी पाई गई। बाकी में या तो एंटीबॉडी खत्म हो चुकी थी या कम इम्युनिटी या हल्का संक्रमण होने के कारण एंटीबॉडी नहीं मिली। डा. चंद्रा के अनुसार कुल चार हजार लोगों पर यह अध्ययन किया जाना है। यह नतीजे प्रारंभिक हैं। अध्ययन पूरा होने पर तस्वीर साफ हो सकेगी।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   2568702
 
     
Related Links :-
यूपी में कोरोना संक्रमितों की संख्या हुई एक हजार से कम, डेल्टा प्लस वैरिएंट भी नहीं मिला
आतंक का फ्रूट बम : खरबूजे में गेंद, गेंद में विस्फोटक और फिर यूपी में तबाही का था प्लान
कोरोना के कारण अनाथ हुए बच्चों का भविष्य संवारेगी योगी सरकार, देगी 4 हजार रुपये महीना
लोकसभा में पीएम के बोलने पर हुआ हंगामा, कार्यवाही दो बजे तक स्थगित
समाधान दिवस पर गढ़मुक्तेश्वर तहसील में 16 शिकायतें प्राप्त 4 का निस्तारण
यूपी विधानसभा चुनाव की तैयारी में जुटा निर्वाचन आयोग, मतदाता सूची की जाएगी अद्यतन
राम मंदिर निर्माण की समय सीमा तय, साल 2023 खत्म होने से पहले कर सकेंगे दर्शन
यूपी सरकार के विभागों में बंपर तबादले, दो साल बाद कार्मिकों को किया गया इधर से उधर
यूपी पंचायत चुनाव में धांधली और बढ़ती महंगाई के खिलाफ सपा का हल्ला बोल
अखिलेश यादव ने जनता से की टीका लगवाने की अपील , बोले- कोरोना प्रबंधन में सरकार फेल
 
CopyRight 2016 DanikUp.com