दैनिक यूपी ब्यूरो
04/03/2021  :  22:59 HH:MM
चीन को रोकने के लिए भारत के साथ दोस्ती बढ़ाएगा अमेरिका, कहा- 'ड्रैगन' की हरकत चिंताजनक
Total View  576

अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन के प्रशासन ने कहा है कि वह भारत तथा अन्य देशों के साथ नए नियमों और समझौतों को आकार देने के लिए मिल कर काम करेगा। वैश्विक नेतृत्व का लक्ष्य रखते हुए अमेरिका यह सुनिश्चित करेगा कि हठधर्मी एवं सत्तावादी चीन नहीं बल्कि अमेरिका अंतरराष्ट्रीय एजेंडा तैयार करे।

नई दिल्ली। | अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन के प्रशासन ने कहा है कि वह भारत तथा अन्य देशों के साथ नए नियमों और समझौतों को आकार देने के लिए मिल कर काम करेगा। वैश्विक नेतृत्व का लक्ष्य रखते हुए अमेरिका यह सुनिश्चित करेगा कि हठधर्मी एवं सत्तावादी चीन नहीं बल्कि अमेरिका अंतरराष्ट्रीय एजेंडा तैयार करे। ये बातें बाइडेन प्रशासन की बुधवार को जारी इंटरिम नेशनल सिक्योरिटी स्ट्रैटजिक गाइडेंस में कही गईं।
व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव जेन साकी ने कहा कि यह अमेरिका के उस दृष्टिकोण को पेश करता है कि कैसे हम अमेरिकी प्रभुत्व को देश में तथा विदेशों में आगे बढ़ाने के लिए इस दुर्लभ अवसर का इस्तेमाल कर सकते हैं। व्हाइट हाउस ने अपने इंटरिम नेशनल सिक्योरिटी स्ट्रैटजिक गाइडेंसमें कहा कि यह एजेंडा इसके स्थाई लाभ को और मजबूत करेगा और चीन अथवा किसी भी देश के साथ सामरिक प्रतिस्पर्द्धा में टिके रहने की ताकत देगा।
उन्होंने आगे कहा कि अमेरिका भारत के साथ अपनी साझेदारी को प्रगाढ़ करेगा और साझा उद्देशों की दिशा में आगे बढ़ने के लिए न्यूजीलैंड, सिंगापुर, वियतनाम और आसियान के अन्य सदस्य देशों के साथ मिल कर काम करेंगे।
चीन की हरकतों को अमेरिका ने जताई चिंता
अमेरिका के विदेश मंत्रालय ने कहा है कि देश के राष्ट्रपति जो बाइडेन के नेतृत्व वाला प्रशासन 5जी को उच्च प्राथमिकता देता है और वह ऐसे उपकरण के साथ नेटवर्क लगाने के खतरों को लेकर चिंतित है, जिनसे चीन छेड़छाड़ कर सकता है या जिन्हें वह नियंत्रित या बाधित कर सकता है। अमेरिका का आरोप है कि चीन मानवाधिकारों एवं निजता का कोई सम्मान नहीं करता है।
विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता नेड प्राइस ने कहा, बाइडेन प्रशासन 5जी को निस्संदेह उच्च प्राथमिकता देता है। हम ऐसी जीवंत डिजिटल अर्थव्यवस्था का समर्थन करते हैं, जो सभी नागरिकों को 5जी वायरलेस नेटवर्क का लाभ लेने में समक्ष बनाए। हम यह भी जानते हैं कि इस प्रकार के नेटवर्क की सुरक्षा कितनी अहम है। उन्होंने कहा कि 5जी निस्संदेह परिवर्तनकारी है, यह जीवन के हर पहलू को छुएगा और यह परिवहन, विद्युत आवंटन, स्वास्थ्यसेवा एवं जनस्वास्थ्य जैसे बुनियादी ढांचा क्षेत्रों के लिए अहम है।
प्राइस ने कहा कि इसीलिए हम ऐसे उपकरण के साथ नेटवर्क लगाने के खतरों को लेकर चिंतित हैं, जिनसे चीन छेड़छाड़ कर सकता हैं, जिन्हें वह बाधित या नियंत्रित कर सकता है। हम जानते हैं कि चीन मानवाधिकारों या निजता का सम्मान नहीं करता।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   5811551
 
     
Related Links :-
शायद केंद्र सरकार लोगों को कोरोना से मरने देना चाहती है, दिल्ली हाई कोर्ट की फटकार
अफगानिस्तान में पाकिस्तान की बेइज्जती, हाई लेवल डेलिगेशन को साधारण टावर ऑपरेटर ने नहीं दी लैंडिंग की इजाजत
पीएम मोदी की बांग्लादेश यात्रा का कूटनीतिक और सियासी संदेश
नेपाल सीमा पर पैदल आवाजाही की मिली छूट, 11 माह बाद बिटिया को देख मां-पिता की आंखों से छलके आंसू
अमेरिका ने कर दी पुष्टि, इसी साल के अंत में आमने-सामने मिलेंगे क्वाड देशों के नेता
SC का केंद्र को नोटिस, पूछा- NDA में क्यों नहीं ली जातीं महिला कैडेट?
मेरे 15-16 सांसद बिक गए, मैं विपक्ष में बैठने को तैयार... बेबस इमरान खान ने मान ली हार, पाकिस्तान में बदलेगी सरकार?
चीन को रोकने के लिए भारत के साथ दोस्ती बढ़ाएगा अमेरिका, कहा- 'ड्रैगन' की हरकत चिंताजनक
इरान खान की पैंतरेबाजी नहीं आई काम, FATF ने पाकिस्तान को ग्रे लिस्ट में बरकरार रखा
कांग्रेस नेताओं ने सिलेंडर पर बैठकर की प्रेस कॉन्फ्रेंस, जानिए क्या बताई वजह
 
CopyRight 2016 DanikUp.com