यूपी में स्वास्थ्य सेवाओं की बदहाली के पीछे भाजपा की पूंजीपरस्त नीति: अखिलेश

0
454

समाजवादी पार्टी (सपा) अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि उत्तर प्रदेश में स्वास्थ्य सेवाओं की दुर्दशा के पीछे भाजपा सरकार की अकर्मण्यता और पूंजीपरस्त नीतियां है। अखिलेश यादव ने रविवार को जारी बयान में कहा कि सरकारी अस्पतालों में अव्यवस्था और असुविधाओं का अम्बार लगा है। वहां डॉक्टरों और पैरामेडिकल स्टाफ की भी कमी है। दूसरी ओर प्राईवेट अस्पतालों और नर्सिंग होम्स की संख्या में रोज-ब-रोज बढ़ोत्तरी हो रही है। वहां तमाम विशेषज्ञ सुविधाओं के दावे हो रहे हैं। भाजपा की जो पूंजीपरस्त मानसिकता है उसके चलते गरीब की तो कहीं पूछ नहीं, सरकार पैसे वालों की जिंदगी खुशहाल बनाने के सभी इंतजाम करने में ही लगी है। गरीब तो बस राम भरोसे ही जन्दिगी जीने को मजबूर है।

उन्होंने कहा कि अस्पतालों में हर दर्जे की लापरवाही हो रही है। लाखों की दवाएं कूड़े के ढेर में जा रही हैं। गरीब बिना दवा और बिना इलाज के दम तोड़ रहे हैं। भाजपा सरकार ने समाजवादी सरकार द्वारा उत्तर प्रदेश में शुरू की गई संजीवनी 108 एम्बूलेंस सेवा को धक्कामार बना दिया है। एम्बूलेंस चालकों को सरकार के अहंकार और अन्याय की वजह से अपने जीवन में तकलीफे झेलनी पड़ रही है। तमाम ड्राइवरों की नौकरी जाने से परिवार दाने-दाने को मोहताज हो रहे हैं।

जनहित में नई एम्बुलेंस की खरीद के साथ चालकों की भी भर्ती होनी चाहिए। उन्होने कहा कि अस्पतालों में मरीजों के साथ उपेक्षापूर्ण व्यवहार होना आम बात हो गई है। इन दिनों मौसम के उतार चढ़ाव के कारण बुखार और डायरिया के प्रकोप से पीड़ित बच्चों को सही इलाज नहीं मिल पा रहा है। बेड की कमी दिखाकर जमीन पर बच्चों को लिटाकर इलाज हो रहा है। पांच साल में 10 हजार अग्निकाण्डों के बावजूद राजधानी लखनऊ में केवल दो अस्पतालों में बर्न यूनिट है और घायलों के लिए मात्र 75 बेड है। तमाम अस्पतालों में भीषण गर्मी के इन दिनों में न तो मरीजों या तीमारदारों को छांव नसीब है और नहीं पेयजल की सुविधा हैं। अस्पतालों की लम्बी लाइनों में लोग बेहोश तक हो जा रहे है।

Previous articleयूपी में हादसा: भदोही में गंगा नहाने गए चार लड़के डूबे, शव बरामद
Next articleज्ञानवापी मस्जिद सर्वे: 65 फीसदी के बाद तीसरे दिन फिर शुरू हुई वीडियोग्राफी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here