Breaking News
कुंभ मेले में श्रद्धालु उठा सकेंगे यमुना में नौकायन का लुत्फ  |   दक्षिणपंथी संगठन ने दी ताजमहल में पूजा करने की धमकी  |   UP TET 2018: चेकिंग के दौरान महिला अभ्यर्थियों से उतरवाए मंगल सूत्र हुआ हंगामा   |   राम मंदिर मामले की SC में सुनवाई टलने से लोगों की भावनाएं हुईं आहत: डॉ.शर्मा  |   हम 2019 नहीं लगने देंगे, दिसंबर में शुरू करेंगे राम मंदिर निर्माण: वेदांती  |  
 
 
दैनिक यूपी ब्यूरो
19/02/2016  :   HH:MM
उप्र : विधानसभा चुनाव में पूर्वांचल के 27 जिलों में उम्मीदवार उतारेगी पीपीपी
Total View  109

पांडेय ने सभी राजनीतिक दलों पर पूर्वांचल के साथ भेदभाव करने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि राजनीतिक दल इस बात का जवाब दें कि जिस तरह का विकास गाजियाबाद और नोएडा में हो रहा है, उसी तरह का विकास गाजीपुर और बलियां जैसे जिलों में क्यों नही हो रहा।

लखनऊ
उत्तर प्रदेश में वर्ष 2017 में होने वाले विधानसभा चुनाव में पूर्वांचल पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) भी 27 जिलों में अपने उम्मीदवार उतारेगी। पीपीपी उप्र के अलावा असम में होने वाले विधानसभा चुनाव भी लड़ेगी। 

ज्ञात हो कि इस पार्टी को अभी तीन दिन पहले ही चुनाव आयोग ने मान्यता प्रदान की है।

पीपीपी के अध्यक्ष अनूप पांडेय ने शुक्रवार को लखनऊ प्रेस क्लब में आयोजित पत्रकार वार्ता में ये बातें कही। उन्होंने कहा कि पीपीपी का गठन पूर्वांचल के विकास और अलग पूर्वांचल राज्य के लिए किया गया है। इसका उद्देश्य है कि पूर्वांचल के 27 जिलों को मिलाकर एक अलग राज्य का गठन किया जाए।

पांडेय ने सभी राजनीतिक दलों पर पूर्वांचल के साथ भेदभाव करने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि राजनीतिक दल इस बात का जवाब दें कि जिस तरह का विकास गाजियाबाद और नोएडा में हो रहा है, उसी तरह का विकास गाजीपुर और बलियां जैसे जिलों में क्यों नही हो रहा। 

पांडेय ने सवाल उठाया कि पूर्वांचल के लोग देश के विकास में अपनी अहम भूमिका निभा रहे हैं, लेकिन विकास के पैमाने पर पूर्वांचल अति पिछड़ा क्यों है। 

उन्होंने कहा कि पूर्वांचल में पिछड़ेपन की वजह से ही यहां के लोगों को काम के लिए मुंबई और दिल्ली पलायन करना पड़ रहा है, और वहां भी उन्हें तिरस्कार ही मिलता है। पूर्वांचल राज्य बनने के बाद उप्र के ये पिछड़े जिले भी विकास के पथ पर दौड़ने लगेंगे। 

पांडेय ने कहा कि वर्ष 2017 में होने वाले चुनाव में पार्टी पूरे दम-खम के साथ मैदान में उतरेगी। पार्टी केवल तीन दिन पुरानी है। इसके पदाधिकारियों के चयन का काम पूरा कर लिया गया है। जल्द ही एक अहम बैठक होगी, जिसमें आगे की रणनीति पर विचार-विमर्श किया जाएगा।

पीपीपी अध्यक्ष ने यह भी कहा कि जिन राज्यों में पूरबिया लोग हैं, पार्टी वहां चुनाव लड़ेगी। पीपीपी दिल्ली, महाराष्ट्र के साथ ही पूवरेत्तर राज्यों में भी हर चुनाव में हिस्सा लेगी।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   6902276
 
     
Related Links :-
इलाहाबाद का नाम बदलना अस्था व परम्परा के साथ खिलवाड़: अखिलेश
शिवपाल यादव को राज्य संपत्ति विभाग ने अलॉट किया नया बंगला, पहले हुआ करता था BSP कार्यालय
लखनऊ: ब्रह्मोस इंजीनियर निशांत को CJM कोर्ट ने 7 दिनों की पुलिस कस्टडी में भेजा
जिन्होंने मोदी को वाराणसी में जिताया, उन पर गुजरात में हमलाः मायावती
योगी सरकार ने हटाई शस्त्र लाइसेंस पर लगी रोक, अब इन नियमों के तहत होगी हथियार प्राप्ति
नाराज चल रहे सिपाहियों को दशहरे से पहले बड़ा 'तोहफा' देगी योगी सरकार
योगी सरकार में भी नहीं बन रहे गरीबों के राशन कार्ड
किसानों से किए गए एक भी वादे को सरकार ने नहीं किया पूरा: अखिलेश
किसानों के मुद्दे को राजनीतिक रंग न दिया जाए: योगी आदित्यनाथ
महात्मा गांधी जयंती: उत्तर प्रदेश में आज से सभी तरह की पॉलिथीन पर रोक
 
CopyRight 2016 DanikUp.com