दैनिक यूपी ब्यूरो
31/05/2016  :  12:46 HH:MM
औद्यानिक फसलों के विकास से उत्तराखण्ड में खुशहाली सम्भव
Total View  316

खेती की बजाय औद्यानिक फसलों के विकास को उचित माहौल मिलने से क्षेत्र का आर्थिक विकास अपेक्षाकृत तेजी से सम्भव है।

लखनऊ 
उत्तराखण्ड क्षेत्र में सदियों पुरानी तकनीक से की जा रही पारम्परिक खेती की बजाय औद्यानिक फसलों के विकास को उचित माहौल मिलने से क्षेत्र का आर्थिक विकास अपेक्षाकृत तेजी से सम्भव है।उत्तराखण्ड विकास के शोध कार्य में पिछले दो दशक से लगे गिरी विकास संस्थान के डा0 जी एस मेहता ने यह विचार आज यहां एक भेंट के दौरान व्यक्त किये।डा0 मेहता ने बताया कि इस क्षेत्र के भूमि की विविधता एवं उपलब्ध क्षमता के आधार पर परम्परागत ढंग से की जा रही खेती की अपेक्षा औद्योगिक फसलों का उत्पादन अधिक लाभकर व रोजगार सृजक है।इस परिवर्तन से क्षेत्र की अर्थव्यवस्था में गुणात्मक परिवर्तन सम्भव है।ब्रिटिश काल से ही केन्द्र तथा राज्य सरकारों की उपेक्षाओं का शिकार रहे उत्तराखण्ड के कई जिले आज भी उद्योग विहीन हैं।जिस कारण वहां के 92 प्रतिशत लोग सिर्फ खेती पर निर्भर हैं।सदियों पुरानी तकनीकि से किसानों के लिए सालभर तक का अनाज भी पैदा नहीं हो पाता है।इक्यावन दशमलव पच्चीस हजार वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में फैले उत्तराखण्ड के केवल 678 हजार हेक्टेयर वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में खेती की जा रही है जिसमें भी दो तिहाई कृषि भूमि में सिंचाई के साधन उपलब्ध नहीं हैं।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   5905135
 
     
Related Links :-
पूरे प्रदेश में मदद पहुंचाने की कोशिश में जुटे है डिप्टी सीएम मौर्य
नर्सों ने की तब्लीगी जमाते की शिकायत, डीएम-एसएसपी से शिकायत
शिक्षा मित्रों को राहत, नहीं कटेगी सैलरी
लखनऊ की मस्जिदों में ठहरे 23 विदेशियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज
अब प्राइवेट लैब में भी करवा सकेंगे कोरोना वायरस की जांच, मिली अनुमति
यूपी में एक दिन में 14 नए मरीज, अब तक 65 लोग कोरोना संक्रमित
मुख्यमंत्रियों को अमितशाह का निर्देश पलायन रोके
आपको टैक्स पर क्या राहत मिली? जानिए...
गन्ना किसानों को भुगतान क्यों नही कर रही कंपनिया
*नि:शुल्क बोरिंग के साथ जरूरी होगा ड्रिप या स्प्रिंकलर: मुख्यमंत्री
 
CopyRight 2016 DanikUp.com