दैनिक यूपी ब्यूरो
28/03/2021  :  16:31 HH:MM
पीएम मोदी की बांग्लादेश यात्रा का कूटनीतिक और सियासी संदेश
Total View  40

बंगाल चुनाव के पहले चरण के मतदान के पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की बांग्लादेश यात्रा राजनीतिक और कूटनीतिक दोनों तरीके से बहुत महत्वपूर्ण समझी जा रही है। पहले चरण के चुनाव के पहले बांग्लादेश में मतुआ समुदाय के लोगों से पीएम मोदी की मुलाकात का राजनीतिक निहितार्थ निकाला जा रहा है।

दैनिक यूपी।
बंगाल चुनाव के पहले चरण के मतदान के पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की बांग्लादेश यात्रा राजनीतिक और कूटनीतिक दोनों तरीके से बहुत महत्वपूर्ण समझी जा रही है। पहले चरण के चुनाव के पहले बांग्लादेश में मतुआ समुदाय के लोगों से पीएम मोदी की मुलाकात का राजनीतिक निहितार्थ निकाला जा रहा है। लेकिन जानकार मानते हैं कि चुनाव की सियासत को अगर छोड़ दें तो प्रधानमंत्री की कोविड के दौर में करीब 497 दिनों बाद पहली विदेश यात्रा के तौर पर बांग्लादेश जाना काफी खास है। चीन की इस इलाके में लगातार बढ़ती दिलचस्पी के बीच भारत ने बांग्लादेश की तमाम चिंताओं को दूर करते हुए अपने करीब रखा है। जानकार मानते हैं कि प्रधानमंत्री की यात्रा से दोनो देशो के संबंध और भी मजबूत होंगे। 
 *कूटनीति, सुरक्षा,व्यापार अहम* 
दोनो देशो के संबंधों पर करीब से नजर रखने वाले विवेकानंद फाउंडेशन के सीनियर फेलो पी के मिश्रा का कहना है कि बांग्लादेश से भारत के रिश्ते नेबरहुड फर्स्ट की नीति के अलावा कूटनीति व सुरक्षा और परस्पर व्यापार के लिहाज से बहुत महत्वपूर्ण है। बांग्लादेश सार्क में भी भारत का महत्वपूर्ण साझेदार है। साथ ही आतंकवाद के खिलाफ छेत्रीय रणनीति में भी भारत के लिहाज से उसका किरदार अहम है। भारत ने कोविड के दौर में रिश्तों की खास अहमियत के मद्देनजर बांग्लादेश का पूरा ख्याल रखा है।
 *इन वजहों से यात्रा की चर्चा* 
जानकारों का कहना है कि प्रधानमंत्री मोदी की यात्रा राजनीतिक मायनों से अलग हटकर  तीन वजहों से चर्चा में है। पहली- मुजीब बोरशो, शेख मुजीबुर्रहमान की जन्म शताब्दी, दूसरी- भारत और बांग्लादेश के बीच राजनयिक संबंधों की स्थापना के 50 साल और तीसरी- बांग्लादेश की स्‍वतंत्रता के लिए हुए युद्ध के 50 साल के स्मरणोत्सव से संबंध रखती है। 
 इस यात्रा के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बांग्लादेश के राष्ट्रीय दिवस कार्यक्रम में मुख्‍य अतिथि के रूप में शामिल हुए हैं। शेख हसीना के साथ द्विपक्षीय वार्तालाप के अलावा, बांग्लादेश के राष्ट्रपति मौ. अब्दुल हामिद,  बांग्लादेश के विदेश मंत्री डॉ. ए.के. अब्दुल मोमेन के साथ भेंट से निकलने वाले नतीजे भारत और बांग्लादेश के रिश्तों को नई मजबूती देंगे। दोनो देश व्यापार बढ़ाने,आवाजाही के लिहाज से संपर्क मजबूत करने, सीमा संबंधी मुद्दों, रोहिंग्या सहित तमाम ज्वलंत व प्रासंगिक छेत्रीय मुद्दों पर समझ बढ़ाने में कामयाब रहे हैं।
 *कोरोना काल मे पहली विदेश यात्रा* 
जानकारों का कहना है कि अहम बात यह भी है कि कोरोना महामारी की शुरुआत के बाद से यह प्रधानमंत्री की पहली विदेश यात्रा है।  करीब 497 दिनों के बाद नरेंद्र मोदी विदेश यात्रा कर रहे हैं। इससे पहले पीएम मोदी ने नवंबर 2019 में आखिरी दौरा ब्राजील का किया था। जबकि प्रधानमंत्री ने बांग्लादेश में अपना पिछला दौरा 2015 में किया था। पीएम मोदी के लिए पिछला साल 2020 ऐसा रहा, जब वह किसी विदेशी यात्रा पर नहीं गए। 
मतुआ समुदाय से मुलाकात के सियासी मायने
 पीएम नरेंद्र मोदी का बांग्लादेश में अनुसूचित जाति समूह मतुआ समुदाय से मिलना राजनीतिक दृष्टि से चर्चा में है। पश्चिम बंगाल में मतुआ समुदाय एक बड़ा वोट बैंक है। पश्चिम बंगाल की कम से कम छह संसदीय सीटों में इनकी उपस्थिति है और 70 विधानसभा सीटों पर असर रखता है।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   7502947
 
     
Related Links :-
अफगानिस्तान में पाकिस्तान की बेइज्जती, हाई लेवल डेलिगेशन को साधारण टावर ऑपरेटर ने नहीं दी लैंडिंग की इजाजत
पीएम मोदी की बांग्लादेश यात्रा का कूटनीतिक और सियासी संदेश
नेपाल सीमा पर पैदल आवाजाही की मिली छूट, 11 माह बाद बिटिया को देख मां-पिता की आंखों से छलके आंसू
अमेरिका ने कर दी पुष्टि, इसी साल के अंत में आमने-सामने मिलेंगे क्वाड देशों के नेता
SC का केंद्र को नोटिस, पूछा- NDA में क्यों नहीं ली जातीं महिला कैडेट?
मेरे 15-16 सांसद बिक गए, मैं विपक्ष में बैठने को तैयार... बेबस इमरान खान ने मान ली हार, पाकिस्तान में बदलेगी सरकार?
चीन को रोकने के लिए भारत के साथ दोस्ती बढ़ाएगा अमेरिका, कहा- 'ड्रैगन' की हरकत चिंताजनक
इरान खान की पैंतरेबाजी नहीं आई काम, FATF ने पाकिस्तान को ग्रे लिस्ट में बरकरार रखा
कांग्रेस नेताओं ने सिलेंडर पर बैठकर की प्रेस कॉन्फ्रेंस, जानिए क्या बताई वजह
सुप्रीम कोर्ट ने 'योर ऑनर' कहे जाने पर जताई आपत्त‌ि, कहा- हम अमेरिका के मजिस्ट्रेट नहीं हैं
 
CopyRight 2016 DanikUp.com