दैनिक यूपी ब्यूरो
11/02/2021  :  23:36 HH:MM
भारत को अतीत से मिली चुनौतियों में सिर्फ बढ़ोतरी ही हुई है: थल सेना प्रमुख
Total View  546

पूर्वी लद्दाख विवाद का जिक्र करते हुए थल सेना प्रमुख एम. एम. नरवणे ने गुरुवार को कहा कि उत्तरी सीमांत पर स्थिति ने हमारी क्षेत्रीय अखंडता और संप्रभुता की रक्षा करने में भारत के समक्ष पेश आ रही चुनौतियों की प्रकृति को रेखांकित किया है।

नई दिल्ली |पूर्वी लद्दाख विवाद का जिक्र करते हुए थल सेना प्रमुख एम. एम. नरवणे ने गुरुवार को कहा कि उत्तरी सीमांत पर स्थिति ने हमारी क्षेत्रीय अखंडता और संप्रभुता की रक्षा करने में भारत के समक्ष पेश आ रही चुनौतियों की प्रकृति को रेखांकित किया है। उन्होंने इस बात का जिक्र किया कि अतीत से मिली चुनौतियों में सिर्फ वृद्धि ही हुई है। सेना प्रमुख ने कहा कि भारतीय थल सेना तैयारी करना और भविष्य के लिहाज से खुद को अनुकूल बनाना जारी रखेगी। भारत की अशांत सीमाओं पर ये चुनौतियां कहीं अधिक करीबी, वास्तविक और खतरनाक हैं, जिन्हें नजरअंदाज नहीं किया जा सकता।
उन्होंने एक प्रमुख सैन्य विद्वान मंडल (थिंक टैंक) सेंटर फॉर लैंड वारफेयर स्टडीज द्वारा आयोजित एक सेमिनार को संबोधित करते हुए यह बात कही। गौरतलब है कि पिछले नौ महीनों से हजारों की संख्या में भारत और चीन के सैनिक पूर्वी लद्दाख में तैनात हैं। वहां मौजूद गतिरोध ने दोनों देशों के संपूर्ण सबंधों में तनाव पैदा कर दिया है। इस बीच, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने संसद में कहा कि पूर्वी लद्दाख के पैंगोंग झील के उत्तरी और दक्षिणी किनारों से सेनाओं को पीछे हटाए जाने को लेकर भारत और चीन के बीच सहमति बन गई है।
जनरल नरवणे ने कहा कि उत्तरी सीमाओं पर चल रहे घटनाक्रमों को लेकर सशस्त्र बलों को देश की क्षेत्रीय अखंडता एवं संप्रभुता की रक्षा करने के साथ अनसुलझे सीमा विवाद और उसके परिणामस्वरूप पैदा हुई चुनौतियों की प्रकृति से अवगत रहना चाहिए। उन्होंने कहा, ''नि:संदेह नए खतरे भी हैं, लेकिन कड़वी सच्चाई यह है कि अतीत से मिली चुनौतियां खत्म नहीं हुई हैं। बल्कि, उनके आकार और तीव्रता में वृद्धि ही हुई है।''
उन्होंने चीन से लगी 3,500 किमी लंबी वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) का संभवत: जिक्र करते हुए कहा, ''भारतीय थल सेना तैयारी करना और भविष्य के लिहाज से खुद को अनुकूल बनाना जारी रखेगी, वहीं हमारी अशांत सीमाओं पर कहीं अधिक करीबी, वास्तविक और वर्तमान खतरों को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता। उन्होंने कहा कि भारतीय थल सेना भविष्य में भी युद्ध जीतने के लिए क्रमिक रूप से अपनी ताकत को बढ़ा रही है। उन्होंने कहा कि भविष्य के खतरों पर विचार करते हुए थल सेना मल्टी डोमेन ऑपरेशंस पर भी ध्यान दे रही है।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   3036606
 
     
Related Links :-
पीएम किसान सम्मान निधि की 8वीं किस्त के लिए फौरन चेक करें स्टेटस, अगर लिखा है ऐसा तो जरूर मिलेगा पैसा
KCC बनवाने के लिए आपके पास केवल 4 दिन का है मौका, आसानी से मिलता है 3 लाख रुपये तक का कर्ज 4 फीसद ब्याज पर
किसानों को बड़ी राहत: केंद्र सरकार ने खाद कंपनियों को कीमत नहीं बढ़ाने का दिया आदेश
RT-PCR में निगेटिव होने के बाद भी हो सकते हैं कोरोना पॉजिटिव, गुजरात में सामने आ रहे ऐसे कई केस
दिल्ली में एक दिन में 1881 मामले, कोरोना ने पकड़ी रफ्तार
तीन जगहों पर चल रहा जन्मदिन मनाने का अनूठा अभियान प्रसादम
एक डॉगी के मरने पर आ जाता है शोक संदेश, 250 किसानों की मौत पर चुप्पी: सत्यपाल मलिक
यूपीः पंचायत चुनावों के लिए चौपाल से पहले भाजपा प्रदेश कार्यसमिति के सदस्यों की घोषणा, मोदी-राजनाथ स्थायी आमंत्रित सदस्य
संपत्ति उत्तराधिकार के नियम सबके लिए समान क्यों नहीं, SC का केंद्र को नोटिस
केंद्र सरकार ने सदन में माना- अनुमान के अनुरूप नहीं मिल पाता है रक्षा बजट
 
CopyRight 2016 DanikUp.com