दैनिक यूपी ब्यूरो
12/01/2021  :  20:46 HH:MM
सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद बोले किसान नेता- कमेटी के सभी सदस्य सरकार समर्थक, आंदोलन को ठंडे बस्ते में डालने की कोशिश
Total View  15

संयुक्त किसान मोर्चा ने मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट द्वारा गठित कमेटी के सदस्यों को सरकार समर्थक बताते हुए कहा कि यह आंदोलन को ठंडे बस्ते में डालने की कोशिश है। किसान संगठनों ने कहा कि कमेटी के सदस्य भरोसेमंद नहीं हैं,

नई दिल्ली | संयुक्त किसान मोर्चा ने मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट द्वारा गठित कमेटी के सदस्यों को सरकार समर्थक बताते हुए कहा कि यह आंदोलन को ठंडे बस्ते में डालने की कोशिश है। किसान संगठनों ने कहा कि कमेटी के सदस्य भरोसेमंद नहीं हैं, क्योंकि उन्होंने लेख लिखे हैं कि कृषि कानून किस तरह से किसानों के हित में हैं। कमेटी का गठन केंद्र सरकार की शरारत है। किसान नेताओं ने ऐलान किया कि वे अपना आंदोलन खत्म नहीं करेंगे और इसे जारी रखेंगे।
किसान नेता बलबीर सिंह राजेवाल ने संवाददाता सम्मेलन में कहा, ''हम किसी भी कमेटी के सामने उपस्थित नहीं होंगे। हमारा आंदोलन तीनों कृषि कानूनों के खिलाफ है। हमने सुप्रीम कोर्ट से कमेटी बनाने का कभी अनुरोध नहीं किया और इसके पीछे सरकार का हाथ है।'' किसान संगठनों ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट अपने आप ही कृषि कानूनों को रद्द कर सकता है।
किसान नेताओं ने कहा, ''कमेटी में शामिल लोगों के जरिए सरकार यह चाहती है कि कानून रद्द ना हो। वहीं, 26 जनवरी का कार्यक्रम अपने तय समय के अनुसार होगा। वह शांतिपूर्ण होगा और उसके बाद भी आंदोलन जारी रहेगा'' उन्होंने कहा कि 26 जनवरी को लेकर भ्रम फैलाया जा रहा है कि हम लाल किला फतह करने जा रहे है। हम लाल किला नहीं जा रहे हैं। इसकी रूपरेखा 15 जनवरी को रखेंगे।
किसान नेता बोले- यह सरकार की शरारत
सुप्रीम कोर्ट ने कृषि कानूनों के लागू होने पर रोक लगाते हुए इस पर कमेटी के गठन का आदेश दिया है। इस पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए किसान नेता बलबीर सिंह राजेवाल ने कहा, ''सुप्रीम कोर्ट ने एक फैसला किया है। मीडिया के जरिए उसका पता चला है। अभी तक हमें ऑर्डर की कापी नहीं मिली है। हमें लगता है कि यह सरकार की शरारत है। वह अपने ऊपर से दबाव कम करने के लिए सुप्रीम कोर्ट के जरिए कमेटी ला रही है। हम ऐसी कमेटी सामने पेश नहीं होंगे। हमारा आंदोलन इसी तरह चलता रहेगा।''
'कैसे मान लें कि कमेटी के सदस्य सुनेंगे हमारी बात'
संवाददाता सम्मेलन में एक और किसान नेता रविंद्र पटियाला ने दावा किया कि कमेटी के सदस्य अशोक गुलाटी कानून को सही ठहराते रहे हैं। उन्होंने कहा, ''समिति के सदस्य अशोक गुलाटी तो हमेशा ही इस कानून को सही ठहराता ररहे हैं। ऐसे में हम कैसे मान लेंगे कि वह हमारी बात सुनेंगे। हम इस तरह की कमेटी को नहीं मानेंगे। इस कमेटी का गठन हमारे आंदोलन व मांग को ठंडे बस्ते में डालना है। हमारा संघर्ष बढ़ेगा। हमारा आंदोलन जारी रहेगा। शांतिपूर्ण आंदोलन चलता रहेगा।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   3091972
 
     
Related Links :-
48 साल एमएलसी रहे शिक्षक नेता ओम प्रकाश शर्मा का निधन
सरकार-किसान संगठनों में नौवें दौर की बातचीत से पहले बोले कृषि मंत्री तोमर- सकारात्मक चर्चा की उम्मीद
हाईकोर्ट का बड़ा फैसला : स्पेशल मैरिज एक्ट के तहत 30 दिन का नोटिस अब अनिवार्य नहीं
पाकिस्तान की नापाक हरकतों को BSF ने फिर किया नाकाम, LoC पर सुरंग का पता लगाया
सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद बोले किसान नेता- कमेटी के सभी सदस्य सरकार समर्थक, आंदोलन को ठंडे बस्ते में डालने की कोशिश
GST रिटर्न दाखिल करना होगा और आसान, यूपी के हर जिले में योगी सरकार खोलेगी हेल्प डेस्क
केंद्र को SC की फटकार, आप कानून पर रोक लगाओगे या हम करें? सुप्रीम कोर्ट ने क्या-क्या कहा?
यूपी में बड़ा फेरबदल : योगी सरकार ने 47 अफसरों का किया तबादला, 20 जिलों को मिले नए डीआईओएस
करनाल में बवाल के बाद CM खट्टर का महापंचायत रद्द, पुलिस ने किसानों पर किया लाठीचार्ज
बंगाल में दमखम दिखाने के बाद अब असम और तमिलनाडु जाएंगे जेपी नड्डा
 
CopyRight 2016 DanikUp.com