दैनिक यूपी ब्यूरो
07/01/2021  :  23:52 HH:MM
लद्दाख-अरुणाचल जैसी जगहों पर कैसे पहुंचे वैक्सीन, भारतीय वायुसेना करेगी मदद
Total View  527

कोरोना वायरस महामारी के खिलाफ देश में टीकाकरण का अभियान शुरू होने वाला है। चंद दिनों के बाद से करोड़ों लोगों को वैक्सीन लगनी शुरू हो जाएगी। इसके लिए केंद्र सरकार ने पूरा खाका तैयार कर लिया है। कई राज्यों में ड्राई रन चलाए जा रहे हैं,

नई दिल्ली | कोरोना वायरस महामारी के खिलाफ देश में टीकाकरण का अभियान शुरू होने वाला है। चंद दिनों के बाद से करोड़ों लोगों को वैक्सीन लगनी शुरू हो जाएगी। इसके लिए केंद्र सरकार ने पूरा खाका तैयार कर लिया है। कई राज्यों में ड्राई रन चलाए जा रहे हैं, ताकि जब वैक्सीन लगनी शुरू हो, तब कोई परेशानी न आए। वहीं, टीकाकरण को सपोर्ट करने के लिए भारतीय वायुसेना भी सामने आई है। वायुसेना और कमर्शियल एयरलाइंस देशभर में दोनों वैक्सीन्स को एक जगह से दूसरी जगह पहुंचाने में मदद प्रदान करेगी।
सरकारी अधिकारियों ने बताया कि देश के दूरदराज इलाकों तक वैक्सीन को पहुंचाने के लिए वायुसेना के ट्रांसपोर्ट एयरक्राफ्ट्स, जिसमें सी-130जेएस और एएन-32एस भी शामिल हैं, का इस्तेमाल किया जाएगा। सप्लायर्स द्वारा वैक्सीन रखने के लिए विशेष तरीके के कंटेनरों को मुहैया कराया जा रहा है। इससे वैक्सीन्स स्थानीय प्रशासन तक पहुंचाने के लिए मदद मिलेगी। वैक्सीन्स को 24 घंटे तक रेफ्रिजिरेटर वाले कंटेनरों में सुरक्षित रखा जा सकेगा। हवा के जरिए से किया जाने वाला ट्रांसपोर्ट्रेशन कमर्शियल एयरलाइंस के जरिए से होगा।
अधिकारियों ने बताया कि भारतीय वायुसेना के सैन्य हवाई अड्डों पर कमर्शियल विमानों को उधार देने की सुविधा भी प्रदान की जाएगी। वायुसेना के ट्रांसपोर्ट विमान का उपयोग अरुणाचल प्रदेश और केंद्रशासित प्रदेश लद्दाख जैसी जगहों को टीकों से जोड़ने के लिए किया जाएगा।
प्लान के अनुसार, अगर जरूरत पड़ती है तो फिर वायुसेना हेलीकॉप्टर का भी इस्तेमाल कर सकती है ताकि वैक्सीन को सुरक्षित दूरदराज इलाकों तक पहुंचाया जाए। अधिकारियों ने यह भी बताया कि वैक्सीन के ट्रांसपोर्टेशन पर चर्चा जारी और अंतिम रूप दिया जा रहा है। वहीं, दिल्ली में, सशस्त्र बलों ने अपने कर्मियों को टीके लगाने के लिए सेना अनुसंधान और रेफरल अस्पताल, बेस अस्पताल, सशस्त्र बल क्लीनिक, वायुसेना केंद्र, सुब्रतो पार्क और वायु सेना स्टेशन, पालम की पहचान की है। पिछले हफ्ते, ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) ने भारत बायोटेक की कोवैक्सीन और सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया की कोवीशील्ड को इमरजेंसी इस्तेमाल के लिए मंजूरी प्रदान की थी। सीरम का टीका ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी-एस्ट्राजेनेका द्वारा बनाया गया है।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   8730407
 
     
Related Links :-
इरान खान की पैंतरेबाजी नहीं आई काम, FATF ने पाकिस्तान को ग्रे लिस्ट में बरकरार रखा
कांग्रेस नेताओं ने सिलेंडर पर बैठकर की प्रेस कॉन्फ्रेंस, जानिए क्या बताई वजह
सुप्रीम कोर्ट ने 'योर ऑनर' कहे जाने पर जताई आपत्त‌ि, कहा- हम अमेरिका के मजिस्ट्रेट नहीं हैं
किसान मोर्चा ने टीकरी बॉर्डर पर लगे दिल्ली पुलिस के पोस्टरों पर जताई आपत्ति, कहा- प्रदर्शन हमारा संवैधानिक अधिकार है
राजस्थान: प्राइवेट लैब में अब 2200 रुपए में होगी कोरोना की जांच
क्या मुद्रा योजना के तहत 'दामादों' को मिल रहा लोन? राहुल के क्रोनी कैपिटलिज्म पर वित्त मंत्री का जवाब
बीजेपी ने सांसदों के लिए जारी किया व्हिप, कल पूरे दिन सदन में उपस्थित रहने के निर्देश
ओसामा से दाऊद तक को पालने वाले पाकिस्तान ने UNSC में RSS और हिंदुत्व को बताया खतरा
ट्रंप के खिलाफ पेंस को करना होगा 25वें संशोधन का इस्तेमाल? हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव ने पास किया प्रस्ताव
पीएम किसान योजना की किस्त अभी तक नहीं आई बैंक खाते में?
 
CopyRight 2016 DanikUp.com