दैनिक यूपी ब्यूरो
19/11/2020  :  23:24 HH:MM
बदल जाएगा ग्राम पंचायत का आरक्षण
Total View  505

यूपी में पंचायत चुनाव की तैयारियां अब धीरे-धीरे जोर पकड़ते नजर आ रहा है. इधर, प्रशासनिक स्तर के साथ ही चुनाव लड़ने के दावेदार भी मैदान भी कूद पड़े हैं. वोटर लिस्ट पुनरीक्षण की घोषण होने के बाद अब गांवों में इस बात पर चर्चा हो रही है कि कौन सा गांव आरक्षित होगा

यूपी में पंचायत चुनाव की तैयारियां अब धीरे-धीरे जोर पकड़ते नजर रहा है. इधर, प्रशासनिक स्तर के साथ ही चुनाव लड़ने के दावेदार भी मैदान भी कूद पड़े हैं. वोटर लिस्ट पुनरीक्षण की घोषण होने के बाद अब गांवों में इस बात पर चर्चा हो रही है कि कौन सा गांव आरक्षित होगा और कौन सा नहीं. सबसे पहला गुणाभाग इस बात के लिए लगाया जा रहा है कि इस बार जो सीट जिस वर्ग के लिए आरक्षित है या अनारक्षित है, अब इस बार के चुनाव के लिए वह सीट किस वर्ग के लिए तय होगी. अभी दावेदार पूरा माहौल इस लिए भी नहीं बना पा रहे हैं, क्योंकि उन्हें यह नहीं मालूम कि इस वक्त जो सीट जिस वर्ग के लिए आरक्षित या अनारक्षित है, आगामी चुनाव में वह सीट किस वर्ग के लिए तय होगी. वर्ष 2015 के पंचायत चुनाव में सीटों का आरक्षण नए सिरे से हुआ था. यह मानकर नए सिरे से आरक्षण हुआ कि 2010 के चुनाव में आरक्षण पूरा हो चुका है, इसलिए अब नए सिरे से आरक्षण किया जाना चाहिए.

जानकारों का मानना है कि वर्ष 2015 के चुनाव के बाद इस बार अब चक्रानुक्रम आरक्षण का यह दूसरा चक्र होगा. चक्रानुक्रम आरक्षण का अर्थ यह है कि आज जो सीट जिस वर्ग के लिए आरक्षित है, वो अगले चुनाव में वह सीट उस वर्ग के लिए आरक्षित नहीं होगी. चक्रानुक्रम के आरक्षण के वरीयता क्रम में पहला नम्बर आएगा एसटी महिला. एसटी की कुल आरक्षित सीटों में से एक तिहाई पद इस वर्ग की महिलाओं के लिए आरक्षित होंगे. फिर बाकी बची एसटी की सीटों में एसटी महिला या पुरुष दोनों के लिए सीटें आरक्षित होंगी. इसी तरह एससी के 21 प्रतिशत आरक्षण में से एक तिहाई सीटे एससी






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   2898225
 
     
Related Links :-
भू-माफियाओं से यूपी में मुक्त कराई गई 67000 हेक्टेयर जमीन, सीएम योगी बोले-बना रहे खेल मैदान
खाप चौधरियों से मिलने गए भाजपा नेताओं का शामली में विरोध, ट्रैक्टर लगाकर रोका काफिला
मायावती को झटका: बसपा के बागी विधायकों ने सदन में अलग बैठने की इजाजत मांगी
उन्‍नाव केस: दोनों लड़कियों का पोस्‍टमार्टम पूरा, जहर मिला खाना खाने से हुई मौत, शरीर पर नहीं मिले चोट के निशान
यूपी पंचायत चुुनाव : तारीख की घोषणा से पहले नामांकन से जुड़ा यह काम शुरू
यूपी पंचायत चुनाव : आरक्षण जारी होते ही कई ग्राम प्रधान पद के दावेदारों को झटका
अपहरण के मामले में अमनमणि त्रिपाठी पर शिकंजा, कुर्की की कार्यवाही से पहले नोटिस और गिरफ्तारी वारंट जारी
पंचायत चुनाव: नई आरक्षण नीति, कौन सा गांव किस जाति के लिए होगा आरक्षित
कृषि कानून वापस हुए बगैर घर नहीं जाएंगे किसान: नरेश गुजराल
केंद्र में सत्ता परिवर्तन नहीं, अपने मुद्दों का समाधान चाहते हैं : राकेश टिकैत
 
CopyRight 2016 DanikUp.com