दैनिक यूपी ब्यूरो
14/11/2020  :  01:36 HH:MM
इस बार दीपावली बहुत खास है...
Total View  47

दीपावली के पावन पर्व पर आप सभी को हार्दिक शुभकामनाएं। असतो मा सद्गमय। तमसो मा ज्योतिर्गमय।। असत्य से सत्य की ओर और अंधकार से प्रकाश की ओर। यानी आशावादी दृष्टिकोण के संदेश से लबरेज ये त्यौहार हमें जीवन के प्रति अपनी सोच को विस्तार देने की सीख देता है। किस तरह से सत्य के लिए प्रयासरत रहना है। कैसे अंधेरे को उजाले में तब्दील करना है। यही तो आशावाद है। सकारात्मकता है। जीवन की पूंजी है



अंजना शर्मा

दीपावली के पावन पर्व पर आप सभी को हार्दिक शुभकामनाएं। असतो मा सद्गमय। तमसो मा ज्योतिर्गमय।। असत्य से सत्य की ओर और अंधकार से प्रकाश की ओर। यानी आशावादी दृष्टिकोण के संदेश से लबरेज ये त्यौहार हमें जीवन के प्रति अपनी सोच को विस्तार देने की सीख देता है। किस तरह से सत्य के लिए प्रयासरत रहना है। कैसे अंधेरे को उजाले में तब्दील करना है। यही तो आशावाद है। सकारात्मकता है। जीवन की पूंजी है। कभी थकन का एहसास न हो। बस चलते रहो। लक्ष्य जरूर मिलेगा। प्रभु श्री राम ने यही तो किया था। न रुके न थके, न जीवन से कोई शिकायत की। राजवंश के कुलदीपक को वन वन भटकना पड़ा। लेकिन मन नही भटका। जीवन की आस्थाएं नही डिगी। जहां मार्ग नही था वहां चट्टानी इरादों ने सेतु बना दिया। जो लंका अजेय थी उसे अटूट संकल्प ने धराशायी कर दिया। सारे वे विजय के प्रतीक हारने को मजबूर हुए जिन्हें अहंकार ने घेर लिया था और वह जीतता चला गया जिसके मन मे अहंकार तो दूर शत्रु के प्रति भी गरिमा का भाव था। दुश्मन की मृत्यु को भी अपमानित नही किया। 
ये सब कुछ लिखने पढ़ने का आशय यही है कि हमारा हिन्दू धर्म क्यों सनातन है ये  आज की युवा पीढ़ी को समझना जरूरी है। अकेला हिंदू धर्म है जो जीवन पद्धति का रूप है। जीवन दर्शन है। जीने की कला यहाँ है। इसमे मर्यादा है। गरिमा है। विमर्श की आजादी है। तर्क की छूट है। वैज्ञानिक दृष्टिकोण है।
एक त्यौहार को मनाने के पीछे की  पूरी परम्परा का हम कई बार आंख मूंदकर निर्वाह करते रहते हैं। क्योंकि हमारे यहां ऐसे ही होता आया है। लेकिन ठहरकर सोचिए ऐसा क्यों होता आया है। तो आपको दिलचस्प कहानियां मिलेंगी। कुछ न कुछ नया मिलेगा। जो जीवन के प्रति नजरिया बदल देगा।
आप त्यौहार मनाएं और उसके पीछे की कथाएँ कहानियां खुद भी सुने और बच्चो को भी सुनाएं। धर्म का प्रवाह और ताकत उसके अनुयायियों से ही बढ़ता चला जाता है। 
इस बार की दीपावली इस लिहाज से भी खास है कि प्रभु श्री राम का वनवास आजाद हिंदुस्तान में लंबे समय बाद खत्म हुआ है। भव्य मंदिर की आधारशिला रखी जा चुकी है। वनवास से प्रभु श्रीराम के लौटने पर अयोध्या जगमग हो रही है। ये अद्भुत दौर है। इसे महसूस कीजिये। जी सकते हैं तो जी लीजिये। जीवन का उत्साह जरूर बढ़ेगा।
शुभ दीपावली।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   1908200
 
     
Related Links :-
इस बार दीपावली बहुत खास है...
निर्भया से हाथरस तक बेटियों पर सत्ता का मिजाज न बदला
चुनौतियां कितनी बड़ी हों, संकल्प उससे भी बड़ा है, देश न थकेगा न रुकेगा....
भारत न कभी झुका है न झुकेगा, प्रधानमंत्री की लद्दाख यात्रा के मायने
धोखेबाज चीन को सबक सिखाओ हिंदुस्तान
जाहिलों की जमात, आपराधिक लापरवाही
समझ आया बजट?
हैदराबाद की सीख......
उन्मादी पाकिस्तान चीन से मिलकर कर रहा साजिश
चांद भी अपना होगा चांदनी भी हमारी .....
 
CopyRight 2016 DanikUp.com