दैनिक यूपी ब्यूरो
22/09/2020  :  16:28 HH:MM
आजाद ने कहा हो सकता है आखिरी भाषण हो*
Total View  77

पिछले दिनों कांग्रेस नेताओं को चिट्ठी लिखने वालों में शामिल रहे कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और नेता प्रतिपक्ष गुलाम नबी आजाद अपने सियासी भविष्य को लेकर आश्वस्त नही हैं। मंगलवार को राज्यसभा में बोलते हुए आजाद ने कहा कि हो सकता है कि ये उनकी आखिरी स्पीच हो। क्योंकि पांच महीने बचे हैं।

दैनिक यूपी ब्यूरो।
पिछले दिनों कांग्रेस नेताओं को चिट्ठी लिखने वालों में शामिल रहे कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और नेता प्रतिपक्ष गुलाम नबी आजाद अपने सियासी भविष्य को लेकर आश्वस्त नही हैं। मंगलवार को राज्यसभा में बोलते हुए आजाद ने कहा कि हो सकता है कि ये उनकी आखिरी स्पीच हो। क्योंकि पांच महीने बचे हैं। कोविड कब तक रहेगा पता नही। अगर कोविड की वजह से पांच महीनों में सत्र दोबारा नही हुआ तो ये आखिरी स्पीच भी हो सकता है।

 उन्होंने कहा मैं एलओपी रहूं या कोई और रहे लेकिन पिछले कुछ समय मे सदन में एलओपी को भी समय के बंधन में बांध दिया गया है। जबकि मैं तीन प्रधानमंत्रियों के साथ संसदीय कार्य मंत्री रहा कभी भी नेता प्रतिपक्ष पर समय की बंदिश नही रही।
बॉर्डर से तुलना,समय हो गया सौतन
नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि सदन में समय के लिए ऐसे झगड़ा होता है जैसे बॉर्डर पर झगड़ रहे हों। ये समय ही हमारा सौतन हो गया। उन्होंने कहा कि अगर समय पर्याप्त दिया जाए तो 90 फीसदी डीएस्केलेशन हो जाएगा।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   3722374
 
     
Related Links :-
आजाद ने कहा हो सकता है आखिरी भाषण हो*
उत्पादकता के मामले में भी आज का दिन ऐतिहासिक रहा - लोकसभा अध्यक्ष*
रिया गई जेल,पिता ने कहा मुझे मर जाना चाहिए था
उद्धव सरकार से पंगा लेना महंगा पड़ा, दफ्तर तोड़ा गया
लखनऊ में खुला AAP के सांसद संजय सिंह का झूठ, राकेश सिंह के नाम पर लिया गया मकान
फेसबुक ने दामन बचाने के लिए दी सफाई
राजस्थान में पायलट की सुनवाई शुरू, माकन बने इंचार्ज, तीन सदस्यों की समिति गठित
हाथ मिले पर दिल नहीं! गहलोत बोले- 19 विधायकों के बिना भी साबित कर देते बहुमत
बेंगलुरू हिंसा: कर्नाटक के मंत्री बोले, 'यूपी की तर्ज पर दंगाइयों से नष्‍ट हुई संपत्ति की कीमत वसूल करेंगे'
कोरोना के कारण बिगड़ी अर्थव्यवस्था में सुधार के लिए कदम उठाए केंद्र: मनमोहन सिंह
 
CopyRight 2016 DanikUp.com