दैनिक यूपी ब्यूरो
19/08/2020  :  00:33 HH:MM
सुशांत सिंह राजपूत केस की जांच पटना से मुंबई ट्रांसफर होगी या नहीं? सुप्रीम कोर्ट आज सुनाएगा अहम फैसला
Total View  489

सुशांत सिंह राजपूत के पिता कृष्ण किशोर सिंह ने पटना में दर्ज कराई गई इस प्राथमिकी में रिया चक्रवर्ती और उनके परिवार के सदस्यों सहित छह व्यक्तियों पर अपने पुत्र को आत्महत्या के लिए मजबूर करने सहित कई गंभीर आरोप लगाए हैं।

नई दिल्ली | बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत की मृत्यु के सिलसिले में पटना में दर्ज एफआईआर को मुंबई ट्रांसफर करने के लिए एक्ट्रेस रिया चक्रवर्ती की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट बुधवार को फैसला सुनायेगा। सुशांत सिंह राजपूत के पिता कृष्ण किशोर सिंह ने पटना में दर्ज कराई गई इस प्राथमिकी में रिया चक्रवर्ती और उनके परिवार के सदस्यों सहित छह व्यक्तियों पर अपने पुत्र को आत्महत्या के लिए मजबूर करने सहित कई गंभीर आरोप लगाए हैं।

शीर्ष अदालत की वेबसाइट पर अपलोड कार्यसूची के अनुसार, न्यायमूर्ति ऋषिकेश रॉय की एकल पीठ यह फैसला सुनाएगी। न्यायमूर्ति रॉय ने 11 अगस्त को इस याचिका पर सुनवाई पूरी की थी। सुशांत सिंह राजपूत 14 जून को मुंबई के उपनगर बांद्रा में अपने अपार्टमेंट में फंदे से लटके पाए गए थे। मुंबई पुलिस विभिन्न पहलुओं को ध्यान में रखते हुए इस मामले की जांच कर रही है।

बिहार सरकार ने इस मामले में शीर्ष अदालत से कहा था कि 'राजनीतिक प्रभाव' की वजह से मुंबई पुलिस ने एक्टर राजपूत के मामले में प्राथमिकी तक दर्ज नहीं की है। दूसरी ओर, महाराष्ट्र सरकार की दलील थी कि इस मामले में बिहार सरकार को किसी प्रकार का अधिकार नहीं है। रिया चक्रवर्ती के वकील का कहना था कि मुंबई पुलिस की जांच इस मामले में काफी आगे बढ़ चुकी है और उसने 56 व्यक्तियों के बयान दर्ज किए हैं।

इसके विपरीत, राजपूत के पिता की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता विकास सिंह का कहना था कि उनका महाराष्ट्र पुलिस में भरोसा नहीं है। उनका कहना था कि इस मामले की जांच सीबीआई को सौंपने की पुष्टि की जाए और मुंबई में महाराष्ट्र पुलिस को इस मामले में सीबीआई को हर तरह से सहयोग करने का निर्देश दिया जाए।

बिहार सरकार का दावा था कि अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मृत्यु को लेकर पटना में दर्ज कराई गई प्राथमिकी विधि सम्मत और वैध है। राज्य सरकार ने यह भी दावा किया था कि मुंबई पुलिस ने उसे तो सुशांत सिंह राजपूत की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट की प्रति उपलब्ध कराई और ही उसने अभी तक इस मामले में कोई प्राथमिकी ही दर्ज की है। इस मामले में केंद्र की ओर से सॉलिसीटर जनरल तुषार मेहता ने कहा था कि मुंबई में तो कोई प्राथमिकी दर्ज नहीं की गई है और दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 154 के तहत प्राथमिकी दर्ज करने और मजिस्ट्रेट को इसकी जानकारी दिये बगैर कोई जांच ही नहीं की जा सकती। केंद्र ने कहा था कि इस मामले को सीबीआई को सौंपने की बिहार सरकार की सिफारिश स्वीकार कर ली गई है और इस संबंध में आवश्यक अधिसूचना भी जारी हो गई है।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   109
 
     
Related Links :-
ओसामा से दाऊद तक को पालने वाले पाकिस्तान ने UNSC में RSS और हिंदुत्व को बताया खतरा
ट्रंप के खिलाफ पेंस को करना होगा 25वें संशोधन का इस्तेमाल? हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव ने पास किया प्रस्ताव
पीएम किसान योजना की किस्त अभी तक नहीं आई बैंक खाते में?
कर्नाटक में सड़क हादसे में केंद्रीय मंत्री श्रीपद नाइक घायल, पत्नी और सहायक की मौत
महाअभियान से पहले महामंथन: पीएम मोदी की मुख्यमंत्रियों संग बैठक , कोरोना टीकाकरण पर चर्चा
7 महीने से चीन में फंसे 23 नाविकों की 14 जनवरी को होगी भारत वापसी, मंत्री बोले- PM मोदी के कारण संभव हुआ
कानून वापसी की जिद पर अड़े रहे किसान, सरकार ने कहा- देशहित का रखें ध्यान
यूएस कैपिटल में हिंसा के बाद फेसबुक और इंस्टाग्राम का बड़ा कदम, डोनाल्ड ट्रंप पर अनिश्चितकाल तक लगाया बैन
लद्दाख-अरुणाचल जैसी जगहों पर कैसे पहुंचे वैक्सीन, भारतीय वायुसेना करेगी मदद
कांग्रेस ने पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव को लेकर जारी की पर्यवेक्षकों की सूची, गहलोत को असम का जिम्मा
 
CopyRight 2016 DanikUp.com