दैनिक यूपी ब्यूरो
12/06/2020  :  20:20 HH:MM
सांसदों ने यात्रा न करने पर टिकट कैंसिल नही कराया तो देना पड़ेगा खुद किराया
Total View  59

राज्यसभा सचिवालय ने फैसला किया है कि विभिन्न सांसदों द्वारा कई ट्रेन टिकट बुक कराने और फिर उन्हें कैंसिल नहीं कराने पर इसका पैसा सांसदों से वसूला जाएगा। दरअसल कई बार विभिन्न सांसद एक ही दिन में विभिन्न ट्रेनों में अलग अलग गंतव्य से टिकट की बुकिंग करा लेते हैं।

दैनिक यूपी। राज्यसभा सचिवालय ने फैसला किया है कि विभिन्न सांसदों द्वारा कई ट्रेन टिकट बुक कराने और फिर उन्हें कैंसिल नहीं कराने पर इसका पैसा सांसदों से वसूला जाएगा। दरअसल कई बार विभिन्न सांसद एक ही दिन में विभिन्न ट्रेनों में अलग अलग गंतव्य से टिकट की बुकिंग करा लेते हैं। चूंकि वह एक ही ट्रेन से यात्रा करते हैं और बाकी टिकट कैंसिल भी नहीं कराते हैं। जिसके चलते कैंसिल नहीं कराए गए टिकटों का पैसा रेलवे, राज्यसभा सचिवालय से लेता है। अब राज्यसभा सचिवालय ने इस फिजूलखर्ची को रोकने के लिए सांसदों पर ही इसकी जिम्मेदारी डाल दी है।

सूत्रों ने कहा कि राज्यसभा के सभापति ने सांसदों पूर्व सांसदों द्वारा की जाने वाली बुकिंग और इसके प्रभाव की जानकारी मांगी थी। राज्यसभा सचिवालय ने विश्लेषण किया तो पता चला कि एक पूर्व सांसद ने 23 दिन में 63 बुकिंग की और केवल 7 बार यात्रा की। कुल बुकिंग पर 1,69,005 रुपये खर्च हुए लेकिन यात्रा केवल 22085 रुपये की हुई। यानी कुल 87 फीसदी लगभग 1,46,920 रुपये राज्यसभा सचिवालय को उन टिकटों के लिए भुगतान करना पड़ा जिनपर कोई यात्रा नही हुई। इसी तरह मौजूदा सांसदों का विश्लेषण करने पर पाया गया कि केवल 15 फीसदी वास्तविक यात्रा होती है 85 फीसदी भुगतान बिना यात्रा के करना पड़ता है।

सूत्रों ने कहा, रेलवे में जहां बड़ी संख्या में लोगों के यात्रा करने के कारण टिकटों की मारामारी रहती है, ऐसे में सांसदों द्वारा टिकटों को बुक कराकर उन्हें कैंसिल नहीं करने से जहां जनता का पैसा बर्बाद होता है, वहीं यात्रियों को भी सीटों का नुकसान उठाना पड़ता है।

यही वजह है कि राज्यसभा सचिवालय ने अब सांसदों से ही कैंसिल टिकट के पैसे वसूलने का फैसला किया है, ताकि भविष्य में सांसद इसका ध्यान रखें।

सचिवालय ने सांसदों से आग्रह किया है कि वे जिन टिकटों पर एडवांस बुकिंग के बाद यात्रा नहीं कर रहे हैं, उन्हें समय से कैंसिल करा दें, ताकि राज्यसभा के बजट पर पड़ने वाले बेवजह के बोझ को टाला जा सके।

प्रत्येक सांसद को नियमों के अनुसार, किसी भी समय फर्स्ट क्लास एयर कंडीशन या एग्जीक्यूटिव क्लास में यात्रा के लिए मुफ्त टिकट या पास की सुविधा मिली हुई है। इसके साथ ही सांसद के एक सहायक को भी सेकेंड एसी क्लास में एक टिकट की सुविधा मुफ्त मिलती है।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   9562285
 
     
Related Links :-
WHO ने माना- हवा से भी फैल सकता है कोरोना वायरस; बदल सकती हैं गाइडलाइंस
चीन की कूटनीतिक घेरेबंदी जारी रखेगा भारत
महामारी के बीच आतंकी भेज रहा पाकिस्तान
चीन का समर्थन इमरान पर पड़ा भारी, विदेश विभाग ने दी चेताया
हांगकांग पर चौतरफा घिरा चीन, ऑस्ट्रेलिया और ब्रिटेन ने कहा हम नागरिकता देंगे
ड्रैगन की चाल नाकाम: भूटान के इलाके पर दावा भारत के दांव से फेल*
कोविड संकट की मार, बच्चों में होगी कुपोषण की समस्या दोगुनी
सांसदों ने यात्रा न करने पर टिकट कैंसिल नही कराया तो देना पड़ेगा खुद किराया
नेपाल भारत सीमा पर हुई गोलीबारी एक की मौत, दो घायल
द्विपक्षीय संबंधों को आगे बढ़ाने के लिए सीमा पर शांति जरूरी, भारत की दो टूक
 
CopyRight 2016 DanikUp.com