दैनिक यूपी ब्यूरो
21/05/2020  :  05:39 HH:MM
21 या 22 मई को वट सावित्री व्रत? जानिए घर में रहकर कैसे करें पूजा
Total View  541

वट सावित्री व्रत के पीछे मान्यता है कि इस दिन ही सावित्री ने अपने दृढ़ संकल्प और श्रद्धा से यमराज द्वारा अपने मृत पति सत्यवान के प्राण वापस पाए थे. महिलाएं भी अपने पति की आयु और समृद्धि के लिए पूरे विधि विधान से पूजा करती हैं.


हिंदू परंपरा में स्त्रियां अपने पति की दीर्घायु और सुखद वैवाहिक जीवन के लिए तमाम व्रत का पालन करती हैं. वट सावित्री व्रत भी सौभाग्य प्राप्ति के लिए बड़ा व्रत माना जाता है. ये ज्येष्ठ कृष्ण अमावस्या को मनाया जाता है. इस दिन महिलाएं सोलह श्रृंगार करके पती की लंबी आयु के लिए व्रत रखती हैं और बरगद की पूजा करती हैं. हालांकि लॉकडाउन की वजह से महिलाएं इस बार पारंपरिक तरीके से बरगद के पेड़ के नीचे पूजा नहीं कर पाएंगी.

कब है वट सावित्री व्रत?

अमावस्या तिथि 21 मई को रात 09:35 बजे से शुरू हो जाएगी जो 22 मई को रात 11:08 बजे तक रहेगी. इसलिए इस बार वट सावित्री व्रत 22 मई को ही पड़ रहा है. इस व्रत में नियमों का विशेष ख्याल रखना पड़ता है.

क्यों मनाया जाता है वट सावित्री व्रत?

पौराणिक कथा के अनुसार, इस दिन ही सावित्री ने अपने दृढ़ संकल्प और श्रद्धा से यमराज द्वारा अपने मृत पति सत्यवान के प्राण वापस पाए थे. महिलाएं भी इसी संकल्प के साथ अपने पति की आयु और प्राण रक्षा के लिए व्रत रखकर पूरे विधि विधान से पूजा करती हैं.

लॉकडाउन में कैसे करें पूजा?

इस दिन वट (बरगद) के पूजन का विशेष महत्व होता है. मान्यता है कि ब्रह्मा, विष्णु, महेश और सावित्री भी वट वृक्ष में ही रहते हैं. लम्बी आयु , शक्ति और धार्मिक महत्व को ध्यान रखकर इस वृक्ष की पूजा की जाती है लेकिन इस






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   6621017
 
     
Related Links :-
महाकालेश्वर मंदिर परिसर को दिया जा रहा है भव्य स्वरुप
दो दिन बाद शुरू होंगी यूपी बोर्ड की प्री बोर्ड परीक्षाएं, वार्षिक परीक्षाएं मार्च और अप्रैल में कराने पर हो रहा विचार
नये साल में श्रद्धालुओं के लिए बाबा मंदिर का खुलेगा पट, जानिए कितने बजे से कर सकेंगे दर्शन
साल 2021 में धन और किस्मत देगी साथ, जानें मेष का वार्षिक राशिफल
देवउठनी एकादशी से शुरू हो जाएंगे विवाह
घाट गंगा और शहर पटना, घाट-घाट छठ की छटा, खरना पर अद्भुत आस्था का अलौकिक नजारा
धनतेरस के दिन करें ये अचूक उपाय और टोटके, धनवान बनने के साथ तरक्की मिलने की है मान्यता
Navratri 2020: घटस्थापना के लिए इस बार साढे छह घंटे, ये हैं घटस्थापना के बेहद शुभ 3 मुहूर्त, इस बार नवमी और विजयदशमी एक ही दिन
पर्व:अष्टमी आज लेकिन उदियात तिथि कल, 2 दिन मनेगी जन्माष्टमी
हरियाली तीज धूमधाम से मनाया जाता है, क्या है इस त्यौहार में खास
 
CopyRight 2016 DanikUp.com