दैनिक यूपी ब्यूरो
21/05/2020  :  04:53 HH:MM
कांग्रेस विधायक ने की योगी सरकार की तारीफ
Total View  424

इस महामारी के वक्‍त ऐसी घटिया राजनीति की जरूरत नहीं थी। कांग्रेस में BJP की 'दोस्त' अदिति सिंह ने प्रवासी मजदूरों को लाने में सहयोग की कांग्रेस की पेशकश से सियासी बखेड़ा खड़ा कर दिया है। राजनीतिक घमासान अब दूसरा रूप ले चुका है।

रायबरेली, रायबरेली सदर से कांग्रेस विधायक अदिति सिंह (Aditi Singh) ने कांग्रेस की ओर से मजदूरों के लिए बसों पर 'पॉलिटिक्' किए जाने की निंदा की है। उन्होंने कहा कि इस महामारी के वक् ऐसी घटिया राजनीति की जरूरत नहीं थी। कांग्रेस में BJP की 'दोस्त' अदिति सिंह ने प्रवासी मजदूरों को लाने में सहयोग की कांग्रेस की पेशकश से सियासी बखेड़ा खड़ा कर दिया है। राजनीतिक घमासान अब दूसरा रूप ले चुका है। भाजपा और कांग्रेस में जो तनातनी है, वो तो है ही। कांग्रेस के अपने भी इस घड़ी में उनके खिलाफ खड़े नजर रहे हैं। कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी के संसदीय क्षेत्र रायबरेली सदर की विधायक अदिति सिंह ने ट्वीट करके कांग्रेस पर सवाल उठाए हैं। उन्होंने प्रियंका गांधी का नाम लिए बिना आक्रामक लहजे में पार्टी की आलोचना की। उन्होंने कहा, "आपदा के वक्त ऐसी निम्न सियासत की क्या जरूरत,एक हजार बसों की सूची भेजी, उसमें भी आधी से ज्यादा बसों का फजीर्वाड़ा, 297 कबाड़ बसें, 98 ऑटो रिक्शा एम्बुलेंस जैसी गाड़ियां, 68 वाहन बिना कागजात के, ये कैसा क्रूर मजाक है, अगर बसें थीं तो राजस्थान,पंजाब, महाराष्ट्र में क्यों नहीं लगाई।" ऐसा पहली बार नहीं है जब अदिति सिंह ने पार्टी लाइन से अलग राह पकड़ी हो। उनके पिछले बयान ये इशारा करते हैं कि वह कांग्रेस के भीतर बीजेपी की 'दोस्' हैं। कई बार खुलकर बीजेपी सरकार की तारीफ कर चुकी हैं और पार्टी को शर्मिंदा किया है।

सीएम योगी की तारीफ से अदिति नहीं चूकीं

एक और ट्वीट में अदिति ने लिखा, "कोटा में जब यूपी के हजारों बच्चे फंसे थे तब कहां थीं ये तथाकथित बसें, तब कांग्रेस सरकार इन बच्चों को घर तक तो छोड़िए,बार्डर तक ना छोड़ पाई, तब योगी आदित्यनाथ ने रातों रात बसें लगाकर इन बच्चों को घर पहुंचाया, खुद राजस्थान के सीएम ने भी इसकी तारीफ की थी।"

 

पिछले साल तोड़ा था पार्टी व्हिप

पिछले साल अदिति सिंह ने पार्टी व्हिप के खिलाफ जाकर दो अक्टूबर को हुए 36 घंटे के विशेष विधानसभा सत्र में हिस्सा लिया था। उन्होंने पार्टी लाइन के खिलाफ जाकर बयान भी दिए थे। जिस दिन राज्य सरकार ने विशेष सत्र बुलाया था, उस दिन कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने लखनऊ में शांति यात्रा का नेतृत्व किया था। उससे अदिति नदारद रहीं। तब कांग्रेस की ओर से उन्हें पहला नोटिस भेजा गया था, जिसका उन्होंने जवाब नहीं दिया। इसके बाद कांग्रेस ने सिंह की सदस्यता समाप्त करने के लिए विधानसभा अध्यक्ष को याचिका दी थी।

विशेष विधानसभा सत्र में भाग लेने के तुरंत बाद, यूपी सरकार ने उनकी सुरक्षा बढ़ा दी थी। इसके बाद अदिति सिंह ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से भी मुलाकात की, जिससे कांग्रेस के भीतर हडकंप मच गया था। ऐसी चर्चा जोरों पर थीं कि वे बीजेपी जॉइन कर सकती हैं मगर ऐसा हुआ नहीं। अदिति सिंह पिछले साल 22 से 24 अक्टूबर के बीच रायबरेली में आयोजित पार्टी के प्रशिक्षण सत्र से गायब थीं। विधानमण्डल में कांग्रेस के तत्कालीन नेता अजय कुमार लल्लू ने कारण बताओ नोटिस जारी किया गया था, लेकिन उन्होंने इसका जवाब नहीं दिया।

                                                                                                                                             

 

गांधी परिवार से हैं करीबी रिश्ते

पिछले साल अगस् में उनके पिता अखिलेश सिंह का निधन हुआ था। अखिलेश रायबरेली सदर सीट से पांच बार विधायक रह चुके थे। रायबरेली में उनकी अच्छी-खासी पैठ थी और गांधी परिवार से नजदीकियां भी। ऐसे में अदिति सिंह का यूं खुलकर कांग्रेस के खिलाफ जाना पार्टी के नेता ठीक नहीं समझ रहे। 21 नवंबर 2019 को अदिति सिंह ने पंजाब के कांग्रेस विधायक अंगद सिंह संग शादी कर ली थी।

 






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   5536116
 
     
Related Links :-
दुर्दांत हत्यारा विकास मारा गया,पुलिस का आधिकारिक बयान जारी-
कानपुर शूटआउट: विकास दुबे के साथी प्रभात को हुआ कोरोना, फरीदाबाद से हुआ था गिरफ्तार
बिग ब्रेकिंग* कानून व्यवस्था के सवाल पर राज्यपाल को ज्ञापन सौंपने जा रहे कांग्रेस नेता गिरफ्तार
कुख्यात हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे, जिसे पकड़ने गए 8 पुलिसकर्मी शहीद हुए...
प्रियंका खाली करेंगी बंगला, क्या लखनऊ होंगी शिफ्ट?
यूपी कांग्रेस अध्यक्ष, विधायक दल की नेता गिरफ्तार
यूपी: सरकारी बालिका गृह में 57 लड़कियां कोरोना संक्रमित, दो प्रेग्नेंट और एक को एड्स
मुख्यमंत्री की कार्यप्रणाली का कायल हुआ आईसीएमआर
इमरजेंसी सेवाएं होंगी पहले से ज्यादा बेहतर : योगी आदित्यनाथ
मुख्यमंत्री ने किया बाल श्रमिक विद्याधन योजना का लोकार्पण
 
CopyRight 2016 DanikUp.com