दैनिक यूपी ब्यूरो
30/04/2020  :  18:52 HH:MM
गृहमंत्रालय ने दूसरे राज्यों में फंसे मजदूरों, छात्रों, तीर्थ यात्रियों को गृहराज्य में जाने की दी अनुमति*
Total View  674

गृहमंत्रालय ने दूसरे राज्यों में फंसे मजदूरों, छात्रों तीर्थयात्रियों व अन्य लोगों को अपने राज्यों में प्रोटोकॉल के तहत ले जाने की अनुमति दी है। इस संबंध में राज्यो को नोडल अथॉरिटी नियुक्त करने और लोगों को भेजने व लाने के लिए प्रोटोकॉल तय करने को कहा गया है।

*गृहमंत्रालय ने दूसरे राज्यों में फंसे  मजदूरों, छात्रों, तीर्थ यात्रियों को गृहराज्य में जाने की दी अनुमति* 
 दैनिक यूपी

गृहमंत्रालय ने दूसरे राज्यों में फंसे मजदूरों, छात्रों तीर्थयात्रियों व अन्य लोगों को अपने राज्यों में प्रोटोकॉल के तहत ले जाने की अनुमति दी है। इस संबंध में राज्यो को नोडल अथॉरिटी नियुक्त करने और लोगों को भेजने व लाने के लिए प्रोटोकॉल तय करने को कहा गया है। राज्यों की आपसी सहमति से ही लोगो की आवाजाही सुनिश्चित होगी। नोडल अथॉरिटी अपने राज्यों के फंसे हुए लोगों का पंजीकरण भी करेंगे।
 *आपस मे चर्चा कर दें अनुमति* 

गृहमंत्रालय की एडवाइजरी में कहा गया है कि अगर लोगों का समूह किसी राज्य से दूसरे राज्य में जाना चाहता है तो राज्य आपस मे चर्चा करके सड़क मार्ग से आवाजाही सुनिश्चित करेंगे।
आने जाने वाले लोगों की स्क्रीनिंग की जाएगी और जिनमे लक्षण नही पाए जाएंगे उन्हें ही आवाजाही की इजाजत दी जाएगी।
 *मानकों का करे पालन* 
 लोगों के समूह को भेजने, लाने के लिए बसों का इस्तेमाल किया जाएगा। बसों को पूरी तरह सैनिटाइज किया जाएगा और स्वास्थ्य सुरक्षा मानकों के लिहाज से सीट का निर्धारण होगा। दो राज्यों के बीच मे जिन राज्यों की सीमा होगी वे आवाजाही की इजाजत देंगे।
 *पहुंचने पर क्वारंटाइन* 
निर्धारित गंतव्य पर पहुंचने पर स्थानीय स्वास्थ्य अधिकारियों द्वारा इनकी जांच की जाएगी और इन्हें होम क्वारंटाइन किया जाएगा। अगर स्वास्थ्य आकलन में जरूरत महसूस हुई तो इन्हें संस्थागत तरीके से क्वारंटाइन किया जाएगा। इन्हें स्वास्थ्य निगरानी में रखा जाएगा।
 *आरोग्य सेतु डाऊनलोड करना होगा* 
 इन सभी लोगों को आरोग्य सेतु एप डाउनलोड करने को कहा जायेगा जिससे उनके स्वास्थ्य पर लगातार नजर रखी जा सके। होम क्वारंटाइन के लिए स्वास्थ्य मंत्रालय की 11 मार्च की गाइडलाइन को ध्यान में रखने को कहा गया है।
 *यूपी की सक्रियता से अन्य राज्यों पर था दबाव* 
गौरतलब है कि उत्तरप्रदेश सरकार ने बसें भेजकर दिल्ली - एनसीआर में फंसे मजदूरों को ले जाने का इंतजाम किया था। इसके बाद कोटा में फंसे छात्रों को भी राजस्थान सरकार से बात करके उनके घरों पर पहुंचाने का इंतजाम किया गया था। बिहार ने इसकी शिकायत केंद्र सरकार से करते हुए इस संबंध में स्पष्ट दिशा निर्देश तय करने को कहा था।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   73239
 
     
Related Links :-
CA Exam : ICAI की चेतावनी, धमकी भरे ईमेल भेजने वाले छात्रों पर होगी कानूनी कार्रवाई
भारतीय स्टेट बैंक ने PO के लिए निकाली बंपर वेकैंसी, जानिए कैसे कर सकते हैं अप्लाई...
IAS बनने के लिए छोड़ी थी HR मैनेजर की नौकरी, डिप्रेशन में आकर घर छोड़ा, बन गई कूड़ा बीनने वाली
HRD मंत्री ने कक्षा छठी से 8वीं तक का नया NCERT वैकल्पिक एकेडमिक कैलेंडर किया जारी
कृति ने 97.2 फीसदी अंक हासिल कर परिवार को दिया गौरव
न्यू एजुकेशन पॉलिसी 2020: बदलेगा BEd का पैटर्न, अब ऐसे बनेंगे टीचर
नई शि‍क्षानीति: रिपोर्ट कार्ड नहीं, अब बच्चे की परफार्मेंस ऐसे तय होगी
भारत सरकार अमरीका में पढ़ रहे छात्रों के संपर्क में
योगी सरकार : ग्रेजुएशन और पोस्ट ग्रेजुएशन के फाइनल ईयर में एक साल की स्टडी लीव देने की योजना
CBSE date sheet 2020: 10वीं-12वीं के छात्रों का इंतजार खत्म, एक से 15 जुलाई के बीच होगी परीक्षा
 
CopyRight 2016 DanikUp.com