दैनिक यूपी ब्यूरो
24/10/2019  :  19:16 HH:MM
माँ बनने के बाद कामकाजी महिलाओं को पदोन्नति मिलने की संभावनाओं पर लगता है विराम*
Total View  500

माँ बनने के बाद कामकाजी महिलाओं को पदोन्नति मिलने की संभावनाओं पर लगता है विराम* *पुरुषों में मामले में पदोन्नति के मामले में कोई फर्क नहीं देखा गया* *अक्टूबर* एक ताज़ा रिपोर्ट के अनुसार बच्चे होने के बाद कामकाजी महिलाओं की तरक्की की संभावनाओं में काफी कमी आती है जबकि पुरुषों के मामले में इस बात का कोई खास फर्क नहीं पड़ता। परिवार शुरू करने के फैसले के बाद पुरुषों और महिलाओं को अपने अपने कैरियर को लेकर आशंकाओं का जन्म लेना स्वाभाविक है, लेकिन इसका असर महिलाओं पर अधिक पड़ता है।

*माँ बनने के बाद कामकाजी महिलाओं को पदोन्नति मिलने की संभावनाओं पर लगता है विराम*

*पुरुषों में मामले में पदोन्नति के मामले में कोई फर्क नहीं देखा गया*

*अक्टूबर* एक ताज़ा रिपोर्ट के अनुसार बच्चे होने के बाद कामकाजी महिलाओं की तरक्की की संभावनाओं में काफी कमी आती है जबकि पुरुषों के मामले में इस बात का कोई खास फर्क नहीं पड़ता। परिवार शुरू करने के फैसले के बाद पुरुषों और महिलाओं को अपने अपने कैरियर को लेकर आशंकाओं का जन्म लेना स्वाभाविक है, लेकिन इसका असर महिलाओं पर अधिक पड़ता है।

गवर्नमेंट इक्वलिटीज ऑफिस (GEO) के लिए ब्रिस्टल और एसेक्स के विश्वविद्यालयों द्वारा प्रकाशित शोध निष्कर्षों में पाया गया कि महिलाएं के माँ बनने के बाद उनकी पदोन्नति पर नकारात्मक प्रभाव देखा गया। बच्चों की देखभाल और परिवार की जिम्मेदारियां बढ़ने के साथ उनके काम पर नकारात्मक प्रभाव पड़ा जबकि इसके उलट पुरुषों पर इसका कोई खास प्रभाव नहीं देखा गया।

रिपोर्ट के अनुसार, सिर्फ 28 फीसदी महिलाएं प्रसव के तीन साल बाद फुल टाइम अथवा स्वरोजगार के काम में लगीं हुयीं थीं जबकि 90 फीसदी पिता अपना काम कर रहे थे। सर्वे में शामिल एक चौथाई (26 प्रतिशत) पुरुषों को पिता बनने के पहले पांच वर्षों में बेहतर नौकरी अथवा पदोन्नति भी मिली थी जबकि महिलाओं में मामले में यह प्रतिशत सिर्फ 13 प्रतिशत पाया गया।

इस सर्वे, जो 2018 में कमीशन किया गया था, का उद्देश्य बच्चों के होने के बाद माता-पिता को कार्यस्थल में उन्नति के रास्ते में चुनौतियों का पता लगाना था। यह सर्वे उन बातों पर भी नजर रख रहा था जो इन बाधाओं को दूर करने में मदद करती हैं और कामकाजी महिलाओं और पुरुषों को उन्नति अथवा पदोन्नति दिलवाने में मदद करतीं हैं।

क्लेयर मेकार्टनी, वरिष्ठ पुनर्वसन और समावेश सलाहकार, का कहना है कि एचआर टीमों की प्रगति की प्रक्रियाओं को सुनिश्चित करने में एक भूमिका थी - जिसमें कैरियर योजना, वेतन मानक और नौकरी की भूमिकाएं शामिल थीं।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   1122333
 
     
Related Links :-
समय से पहले बूढ़ी होती त्वचा को बचाने उपाय
माँ बनने के बाद कामकाजी महिलाओं को पदोन्नति मिलने की संभावनाओं पर लगता है विराम*
चाक टॉक नें महिलाओं ने रिस्क टेकर्स और चेंज मेकर्स विषय पर संगोष्टी
स्कूल में छात्राओं की आत्म रक्षा-सुरक्षा पर सेमिनार
मोहित मदनलाल ग्रोवर ने किया निशुल्क स्तन कैंसर जांच शिविर का आयोजन
गांव जमालपुर में बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ कार्यक्रम
महिलाओं के सशक्तिकरण के लिए सबसे पहला कदम रोजगार पाकर आत्मनिर्भर बनना है : मल्होत्रा
महिलाओं को स्तनपान कराने के लिए किया जागरूक
महिलाओं की सुरक्षा को लेकर जिला पुलिस पूर्ण रूप से अलर्ट महिलाओं को भी अच्छे बुरे की पहचान करके बुराई का विरोध करना चाहिए : सुनीता
महिलाएं बेझिझक अपनी समस्या महिला पुलिसकर्मियों को बता सकती है : पूजा
 
CopyRight 2016 DanikUp.com