दैनिक यूपी ब्यूरो
04/10/2019  :  16:22 HH:MM
*वन, पर्यटन, सांस्कृतिक समेत सम्बंधित विभाग मिलकर कार्य करें तो वन्य जीवों के संरक्षण में महत्वपूर्ण योगदान हो सकता है : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ*
Total View  131

वन, पर्यटन, सांस्कृतिक समेत सम्बंधित विभाग मिलकर कार्य करें तो वन्य जीवों के संरक्षण में महत्वपूर्ण योगदान हो सकता है : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ* • *मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने वन्यजीव संरक्षण जागरूकता मोबाइल ऐप का शुभारंभ किया* • *योगी ने कहा - प्राचीन भारतीय परंपरा ने सदैव ही जैव विविधता को सम्मान दिया है* *4 अक्टूबर, लखनऊ।* मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को लखनऊ के इन्दिरा गाँधी प्रतिष्ठान में वन्यजीव संरक्षण जागरूकता मोबाइल ऐप का शुभारंभ किया। उन्होंने कहा कि अगर वन विभाग, पर्यटन विभाग, सांस्कृतिक विभाग समेत सभी सम्बंधित विभाग आपस में मिलकर के कार्य करेंगे तो जैव विविधता और वन्य जीवों के संरक्षण में एक महत्वपूर्ण योगदान हो सकता है। इस मौके पर वन्य जीव सप्ताह- 2019 के विजेताओं को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सम्मानित भी किया।

*वन, पर्यटन, सांस्कृतिक समेत सम्बंधित विभाग मिलकर कार्य करें तो वन्य जीवों के संरक्षण में महत्वपूर्ण योगदान हो सकता है :  मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ*

*मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने वन्यजीव संरक्षण जागरूकता मोबाइल ऐप का शुभारंभ किया*

*योगी ने कहा - प्राचीन भारतीय परंपरा ने सदैव ही जैव विविधता को सम्मान दिया है*

*4 अक्टूबर, लखनऊ।* मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को लखनऊ के इन्दिरा गाँधी प्रतिष्ठान में वन्यजीव संरक्षण जागरूकता मोबाइल ऐप का शुभारंभ किया। उन्होंने कहा कि अगर वन विभाग, पर्यटन विभाग, सांस्कृतिक विभाग समेत सभी सम्बंधित विभाग आपस में मिलकर के कार्य करेंगे तो जैव विविधता और वन्य जीवों के संरक्षण में एक महत्वपूर्ण योगदान हो सकता है। इस मौके पर वन्य जीव सप्ताह- 2019 के विजेताओं को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सम्मानित भी किया। 

मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि प्राचीन भारतीय परंपरा ने सदैव ही जैव विविधता को सम्मान दिया है, साथ ही उसके संरक्षण पर भी बल दिया है। हम जीवों कि सुरक्षा करके ही सृष्टि की सुरक्षा कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि सनातन धर्म की 9 अवतारों की परंपरा को अगर हम देखें तो इन अवतारों की परंपरा में प्रथम अवतार मत्स्य का है। द्वितीय अवतार कूर्म (कछुआ),  तृतीय अवतार वाराह और चौथा नरसिंह का अवतार है। ये सब कर्मिक विकास की श्रेणियां हैं। 

मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि जब भी मनुष्य ने प्रकृति के नियमों से छेड़छाड़ किया है, तो इसके व्यापक दुष्परिणामों को भी भुगता है। विगत ढाई वर्ष के दौरान वन्य विभाग के द्वारा प्रथम वर्ष मंव लगभग 6 करोड़, अगले वर्ष 11 करोड़ और तीसरे वर्ष में लगभग 22 करोड़ 59 लाख वृक्षारोपण करना वन्य विभाग की अच्छी छवि को प्रदर्शित करता है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि जीवन एक चक्र का स्वरुप है जो सदैव चलता रहता है। हर प्राणी एक दूसरे पर निर्भर है, सम्पूर्ण सृष्टि में सबसे खतरनाक प्राणि मनुष्य है जो सबको नुकसान पहुंचाता है, लेकिन वन्य प्राणी किसी को भी नुकसान नहीं पहुंचाते हैं। उन्होंने कहा कि कोई जंगली जानवर आपको तब तक नुकसान नहीं पहुंचाता जब तक उसको आप से खतरा महसूस ना हो। इस मौके पर पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्री दारा सिंह चौहान,  मंत्री अनिल शर्मा मौजूद थे।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   6350597
 
     
Related Links :-
पर्यावरण संरक्षण हेतु जनभागीदारी अति महत्वपूर्ण है: लोक सभा अध्यक्ष
*वन, पर्यटन, सांस्कृतिक समेत सम्बंधित विभाग मिलकर कार्य करें तो वन्य जीवों के संरक्षण में महत्वपूर्ण योगदान हो सकता है : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ*
🎖 *पूज्य स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी महाराज सफाईगिरी पुरस्कार से पुरस्कृत*
औषधीय पौधों से होगा कायाकल्प: विष्णु मित्तल
दिमाग में कुंआ, मन में मेढ़बंदी”, फिर से खुशहाल हो गए बुंदेलखंडी*
अपने घर में रेन वॉटर हार्वेस्टिंग सिस्टम खुद लगवाए: किरण बेदी
हरियाणा को ह्रश्वलास्टिक मुक्त करने की दिशा में आमजन से अनुरोध
नी रिह्रश्वलेसमेंट करवाने वाले मरीजों ने लगाए पौधे
स्वच्छ सर्वेक्षण ग्रामीण-2019 एप के माध्यम से दे सकते हैं फीडबैक
पानी बचाने के कम लागत के उपाय अपनाने की जरूरत : उपायुक्त गुरुग्राम में लगाया गया पहला वाटर ट्रीटमेंट एक्सपो-2019
 
CopyRight 2016 DanikUp.com