Breaking News
वल्र्ड कप : आज क्रिकेट को मिल जाएगा नया बादशाह  |   वर्ल्ड कप 2019: सेमीफाइनल में न्यू जीलैंड से भिड़ेगा भारत, इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया में होगी टक्कर  |   India vs Bangladesh CWC 2019: बांग्लादेश को हराकर टीम इंडिया सेमीफाइनल में पहुंची  |   भारत-बांग्लादेश में मुकाबला आज  |   पुणे में दर्दनाक हादसा, दीवार ढहने से 17 लोगों की मौत, कई घायल  |  
 
 
दैनिक यूपी ब्यूरो
07/07/2019  :  09:56 HH:MM
विकसित देश बनने में अब भारत ज्यादा इंतजार नहीं करेगा : पीएम
Total View  42

वाराणसी पीएम नरेंद्र मोदी ने देश को 5 ट्रिलियन डॉलर की इकॉनमी बनाने का संकल्प दोहरकर कहा कि अब देश विकसित होने के लिए ज्यादा इंतजार नहीं कर सकता। उन्होंने कहा कि अब सपनों और संभावनाओं पर बात होगी। इन सपनों में से एक है कि हम 5 ट्रिलियन डॉलर यानी 5 लाख करोड़ डॉलर की इकॉनामी बने। यह बात शनिवार को काशी में बीजेपी के सदस्यता अभियान की शुरुआत करते हुए कही।

पीएम मोदी ने कहा कि हम भारत की इकॉनमी को दोगुना करने वाले है। मैं अर्थशास्त्री नहीं हूं, लेकिन सच्चाई यहीं है, कि आज मैं जिस लक्ष्य की बात कर रहा हूं, वह आपको भी सोचने को मजबूर करेगा। नए लक्ष्य, नए सपनों को लेकर आगे बढऩा हैं, यही मुक्ति का मार्ग है। पीएम मोदी ने अंग्रेजी कहावत साइज ऑफ द केक मैटर्स का जिक्र करते हुए कहा कि केक जितना बड़ा होगा, उतना ही लोगों के हिस्से आएगा। इस तरह हमारी सरकार ने इकॉनमी के साइज को बढ़ाने का संकल्प लिया है। सीधी से बात है कि परिवार की आमदनी जितनी
अधिक होगी,उसी अनुपात में सदस्यों की आय भी अधिक होगी। उन्होंने कहा, आज दुनिया में आज जो भी विकसित देश हैं,उनमें से ज्यादातर के इतिहास पर गौर करे तो एक समय में प्रति व्यक्ति आय बहुत अधिक नहीं होती थी। लेकिन, एक दौर ऐसा आया, जब कुछ ही समय में प्रति व्यक्ति आय ने जबरदस्त छलांग लगाई।यहीं वह समय था, जब वे देश विकासशील से विकसित की श्रेणी में आ गए। भारत अब लंबा इंतजार नहीं कर सकता। भारत दुनिया का सबसे युवा देश और यह लक्ष्य भी मुश्किल नहीं है। इस मौके पर पीएम मोदी ने कहा कि जब हम किसी देश में प्रति व्यक्ति आय बढ़ती है तब उसकी खरीद की क्षमता बढ़ती है। बाजार में मांग बढ़ती है। इसके बाद सामान का उत्पादन बढ़ता है, सेवा का विस्तार होता है और इसी क्रम में रोजगार के नए अवसर बनते हैं। उन्होंने कहा, हम जब तक कम  आय और कम खर्च के चक्र में फंसे रहते हैं, तब तक यह स्थिति पाना मुश्किल होता है। हमारे दिल दिमाग में कहीं न कहीं गरीबी एक गर्व का विषय बन गई है। गरीबी एक मानसिक अवस्था बन गई है। हम जब सत्यनारायण कथा सुनते थे तब उसकी शुरुआत ही एक
बेचारा गरीब ब्राह्मण से होती है।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   4688791
 
     
Related Links :-
शीला का अचानक चले जाना
प्रकाश जावड़ेकर ने सरकार के पहले पचास दिनों के काम का रिपोर्ट कार्ड प्रस्तुत किया
इसरो ने फिर रचा इतिहास भारत की चांद पर दूसरी छलांग
भारत का लंबा प्रयास हो रहा निष्प्रभावी अफगानिस्तान-अमेरिका ने शांति वार्ता से भारत को किया अलग
यदि सिद्धू अपना काम नहीं करना चाहता तो मैं इसमें क्या कर सकता हूं : कैह्रश्वटन अमरिन्दर
लोकसभा : तीखी नोंकझोंक के बीच एनआईए संशोधन विधेयक को मंजूरी
जहां नहीं पहुंचा कोई यान, वहां उतरेगा भारत का चंद्रयान
पाक प्रधानमंत्री इमरान खान को एसजीपीसी ने दिया नगर कीर्तन में शामिल होने का निमंत्रण
मराठा आरक्षण पर सुनवाई करेगा सुप्रीम कोट
कर्नाटक : यथास्थिति के आदेश
 
CopyRight 2016 DanikUp.com