Breaking News
वल्र्ड कप : आज क्रिकेट को मिल जाएगा नया बादशाह  |   वर्ल्ड कप 2019: सेमीफाइनल में न्यू जीलैंड से भिड़ेगा भारत, इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया में होगी टक्कर  |   India vs Bangladesh CWC 2019: बांग्लादेश को हराकर टीम इंडिया सेमीफाइनल में पहुंची  |   भारत-बांग्लादेश में मुकाबला आज  |   पुणे में दर्दनाक हादसा, दीवार ढहने से 17 लोगों की मौत, कई घायल  |  
 
 
दैनिक यूपी ब्यूरो
20/06/2019  :  11:06 HH:MM
आषाढ़ी पूर्णिमा के दिन पड़ेगा चंद्र ग्रहण
Total View  84

इस साल चंद्र ग्रहण आषाढ़ी पूर्णिमा 16-17 जुलाई की रात में पड़ रहा है। यह लगातार दूसरा साल है जब आषाढ़ी पूर्णिमा पर भारत में चंद्र ग्रहण हो रहा है। वर्ष 2018 में भी आषाढ़ी पूर्णिमा के दिन 27-28 जुलाई की मध्यरात्रि में खग्रास चंद्र ग्रहण हुआ था। इस साल करीब तीन घंटे तक आकाश में इस अद्भुत खगोलीय घटना का नजारा देखा जा सकेगा।

16-17 जुलाई की रात 1.32 बजे ग्रहण का स्पर्श होगा। रात्रि 3.01 बजे ग्रहण का मध्य रहेगा। रात्रि 4.30 बजे ग्रहण का मोक्ष होगा। चंद्र ग्रहण का कुल समय 2 घंटे 58 मिनट का रहेगा। खंडग्रास चंद्र ग्रहण का योग : इस बार आषाढ़ी पूर्णिमा 16 जुलाई को पूर्वाषाढ़ा नक्षत्र,
वैधृति योग, विशिष्ट करण तथा धनु राशि के चंद्रमा की साक्षी में आ रही है। ग्रह गोचर की दृष्टि से देखें तो इस दिन खंडग्रास चंद्र ग्रहण का योग बन रहा है। यह ग्रहण पूरे भारत में दिखाई देगा। उत्तराषाढ़ा नक्षत्र तथा धनु व मकर राशि में चंद्र ग्रहण होने से अतिवृष्टि के
साथ कहीं-कहीं प्राकृतिक असंतुलन की स्थिति निर्मित होगी। ग्रहों की दृष्टि से देखें तो यह चंद्र ग्रहण धनु राशि में चंद्र-केतु-शनि की त्रिग्रही युति के साथ हो रहा है। यही नहीं इसका दृष्टि संबंध मिथुन राशि स्थित सूर्य, राहु व शुक्र की त्रिग्रही युति से बन रहा है। ग्रह युतियों में देखें तो दोनों युतियों में चार ग्रह राहु-केतु से पीडि़त हैं। इसका असर प्राकृतिक, सामाजिक व राजनीतिक प्रभावों को दर्शाएगा। 

इन क्षेत्रों में नजर आएगा ग्रहण का प्रभाव : चंद्र ग्रहण का प्रभाव शासन की कार्यप्रणाली में परिवर्तन के रूप में दिखाई देगा। अधिकारियों में कार्य का परिवर्तन होगा। सरकार में परिवर्तन होगा। चंद्र ग्रहण की युति का मंगल बुध से षड़ाष्टक योग बनेगा। मैदिनी ज्योतिष शास्त्र के अनुसार इस प्रकार की ग्रह स्थिति जलवायु परिवर्तन के लिए खास है। चंद्रमा की राशि कर्क में मंगल तथा बुध का गोचर वर्षा ऋ तु के चक्र को प्रभावित करेगा। धनु राशि में ग्रहण होने के कारण इस राशि वाले विशेष रूप से प्रभावित होंगे।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   2800264
 
     
Related Links :-
भूतेश्वर मंदिर में एक कार्यक्रम
श्रद्धापूर्वक मनाई संत निक्का सिंह जी महाराज की 36वीं बरसी
अमरनाथ यात्रा और उसका महत्व
समाज में सामाजिक समरसता का गेम्स और पबजी कॉर्प अभाव: ज्ञानसागर महाराज
अच्छे कर्म करो ज्योतिष, वास्तु, ग्रह सभी अच्छे हो जायेंगे
जैन मुनि का सुनारों वाली गली में भव्य स्वागत
वैष्णों देवी यात्रा में संतों के प्रवचन का भी श्रद्धालुओं को मिल रहा लाभ
भगवती दुर्गा की प्रतिमा भेंट कर विधायक उमेश अग्रवाल को किया सम्मानित
माता वैष्णों देवी दर्शन यात्रा का पुण्य विधायक अग्रवाल को मिलेग
वैष्णों तीर्थयात्रियों को शुभकामनाओं के साथ किया गया रवाना
 
CopyRight 2016 DanikUp.com