दैनिक यूपी ब्यूरो
16/04/2019  :  14:00 HH:MM
धर्म के आधार पर वोट मांगने के मामले में सुप्रीम कोर्ट की आयोग को फटकार
Total View  412

नई दिल्ली सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव के दौरान अपनी रैलियों में धार्मिक आधार पर वोट मांगने वाले नेताओं पर कार्रवाई न करने के लेकर चुनाव आयोग की सीमित शक्तियों को लेकर नाराजगी जाहिर की। चीफ जस्टिस के नेतृत्व वाली बेंच ने चुनाव आयोग के प्रतिनिधियों से मंगलवार को कोर्ट में पेश होने को कहा है।

सुप्रीम कोर्ट ने एक याचिका की सुनवाई के दौरान यह बात कही। इस याचिका में उन दलों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की गई थी, जिनके नेता धर्म और जाति के आधार पर चुनाव में वोट मांगते हैं। सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग से पूछा, मायावती ने अपने धार्मिक आधार पर वोटिंग करने वाले बयान के नोटिस का जवाब नहीं दिया है। आपने क्या किया? इस पर आयोग ने सुप्रीम कोर्ट को कहा, हमारी शक्तियां सीमित हैं। सुप्रीम कोर्ट इस मामले में मंगलवार को सुनवाई करेगा। सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग के अधिकारियों
से भी कोर्ट में मौजूद रहने को कहा है। बता दें कि देवबंद में एसपी-बीएसपी-आरएलडी गठबंधन की एक रैली के दौरान मायावती ने कहा था, मुस्लिम मतदाताओं को भावनाओं में बहकर अपने वोट को बंटने नहीं देना है। इस बयान को लेकर कई पार्टियों ने नाराजगी जाहिर की थी। वहीं इस बयान के जवाब में यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने भी ‘बजरंग बली और अली’ का जिक्र कर मायावती पर भी निशाना साधा था। योगी के इस बयान की भी काफी आलोचना हुई थी। इसके बाद बीते गुरुवार को चुनाव आयोग ने दोनों नेताओं को नोटिस भेजकर जवाब मांगा है। आयोग ने मायावती को चुनाव कोड के उल्लंघन का दोषी मानने के साथ ही सेक्शन 123 (3) के तहत जनप्रतिनिधि कानून 1951 के उल्लंघन का भी दोषी माना।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   6025933
 
     
Related Links :-
धर्म के आधार पर वोट मांगने के मामले में सुप्रीम कोर्ट की आयोग को फटकार
प्रधानमंत्री ने किया मतदान करने की अपील राजनेता, खिलाड़ी और फिल्मी हस्ती करें प्रोत्साहित
 
CopyRight 2016 DanikUp.com