Breaking News
HACKED BY HARSHA  |   प्रियंका पर केंद्रीय मंत्री का विवादित बयान, कहा-पह्रश्वपू के बाद अब पह्रश्वपी आई  |   एनसीडब्ल्यू भेजेगा साधना सिंह को नोटिस।  |   मायावती पर आपत्तिजनक टिप्पणी कर फंसी बीजेपी विधायक साधना सिंह।   |   चीन ने चांद पर उगाया कपास का पौधा अब आलू की बारी  |  
 
 
दैनिक यूपी ब्यूरो
13/04/2019  :  10:17 HH:MM
इजराइल में फिर नेतन्याहू
Total View  11

इजराइल में बेंजामिन नेतन्याहू के फिर प्रधानमंत्री बनने की संभावना मजबूत हो गई है। वे तीन बार से लगातार प्रधानमंत्री पद पर बने हुए हैं। अब संभावना है कि नेतन्याहू रिकॉर्ड पांचवीं बार देश के मुखिया बनेंगे। लेकिन नेतन्याहू के लिए इस बार मुश्किलें पहले से काफी अलग हैं। इजराइल के अटॉर्नी जनरल भ्रष्टाचार के तीन मामलों में पुलिस जांच के बाद उनके खिलाफ मुकदमा चलाए जाने की इजाजत दे चुके हैं।
इसके अलावा इस चुनाव में उनकी ‘लिकुड पार्टी’ के सामने एक बड़ी चुनौती मुख्य विपक्षी नेता बेनी गांट्ज भी हैं। इजराइली सेना के पूर्व प्रमुख जनरल बेनी गांट्ज ईमानदार और साफ छवि के नेता हैं। बीते दिसंबर में ही वे ‘इजराइल रेसिलिएंस’ नामक पार्टी बनाकर चुनावी मैदान में उतरे हैं। शुरुआत में उनकी पार्टी को बड़ी चुनौती नहीं माना जा रहा था, लेकिन बीती फरवरी में जब बेनी गांट्ज़ ने तीन पूर्व जनरलों को अपनी पार्टी से जोड़ा। देश की दो अन्य प्रमुख पार्टियां तेलेम और येश अतिद के साथ मिलकर ‘ब्लू एंड वाइट’ गठबंधन बनाया, तो वे मुख्य लड़ाई में आ गए। इसके बाद बीती 28 फरवरी को जब बेंजामिन नेतन्याहू के खिलाफ मुकदमा चलाए जाने का आदेश हुआ तो सर्वेक्षणों में ‘ब्लू एंड वाइट’ गठबंधन पहले स्थान पर पहुंच गया। पिछले कुछ सालों से मुख्य विपक्षी पार्टी की भूमिका में रही ‘लेबर पार्टी’ तीसरे नंबर पर थी। लेकिन, इस बार स्थितियां फिर पलट गईं। जानकारों का कहना है कि वे एक बार फिर गठबंधन की सरकार बनाने में कामयाब हो जाएंगे। अब सबसे बड़ा सवाल यह पूछा जा रहा है कि आखिर वह क्या वजह है जिसके चलते भ्रष्टाचार के मामलों में घिरे होने और कुल चार बार सत्ता का सुख भोगने के बाद भी स्थितियां बेंजामिन नेतन्याहू के पक्ष में बनी हुई हैं। इसकी एक बड़ी वजह इजरायल की चुनावी प्रक्रिया भी है। यहां चुनाव ‘अनुपातिक-मतदान योजना’ के तहत होता है। इसमें वोटर को बैलेट पेपर पर प्रत्याशियों की जगह पार्टी को चुनना पड़ता है। किसी भी पार्टी को वहां की संसद (नेसेट) में पहुंचने के लिए कुल मतदान में से न्यूनतम 3.25 फीसदी वोट पाना जरूरी है। अगर किसी पार्टी का वोट प्रतिशत 3.25 से कम रहता है तो उसे संसद की कोई सीट नहीं मिलती। पार्टियों को मिले मत प्रतिशत के अनुपात में उन्हें संसद की कुल 120 सीटों में से सीटें आवंटित कर दी जाती हैं। इसका फायदा मजबूत पार्टी को मिलता है। नेतन्याहू के बार-बार प्रधानमंत्री बनने में इस पहलू का भी योगदान है।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   5548217
 
     
Related Links :-
गुजरात में बोले राहुल-‘न्याय’ अर्थव्यवस्था में नई जान डालेगा
आंधी-तूफान से भारत-पाकिस्तान से लेकर अफगानिस्तान तक मुसीबत पाक में जानमाल की भारी क्षति, ३९ की मौत
पश्चिमी दिल्ली की जनता के बीच बहुत लोकप्रिय है पत्रकार सुनील सौरभ
भाजपा के विकास से बौखला गए कांग्रेस नेता : डॉ. अरविंद
चुनाव आचार संहिता का उल्लंघन का आरोप विवादित भाषण देने पर नवजोत सिंह सिद्धू पर प्राथमिकी दर्ज
डॉ. भीमराव अंबेडकर की जयंती पर सेमीनार और गोष्ठïी
ब्रिटिश सरकार जलियांवाला बाग हत्याकांड की माफी मांगकर जिम्मेदारी निभाएं
महिला हितो के हिमायती थे डॉ.आंबेडकर
कांग्रेस प्रवक्ता सुरजेवाला ने फ्रांसीसी अखबार का दिया हवाला बोले-राफेल डील कराने पर 1125 करोड़ के रिलायंस के टैक्स माफ
राहुल गांधी ने शहीदों को श्रद्धांजलि दी
 
CopyRight 2016 DanikUp.com