दैनिक यूपी ब्यूरो
12/03/2016  :  20:51 HH:MM
विद्यालय और शिक्षकों की बढोत्तरी मगर छात्रों की संख्या में गिरावट
Total View  397

2014-15 की तुलना में चालू वर्ष 2015-16 में प्राइमरी एवं जूनियर हाईस्कूल में 7,322 छात्रों की संख्या में कमी आयी है। वर्ष 2014-15 में प्राइमरी एवं जूनियर हाईस्कूल में 2,67,950 छात्र थे। इसी प्रकार वर्ष 2014-15 में प्राइमरी ब जूनियर विद्यालयों की संख्या 1871 थी जब कि वर्ष 205-16 में इसकी संख्या बढ़ाकर 1894 हो गयी।

हमीरपुर
 उत्तर प्रदेश के हमीरपुर जिले में शिक्षा क्षेत्र में सुधार के लिये जारी प्रयासों के बावजूद छात्रों की संख्या में आ रही गिरावट जिला प्रशासन के लिये चिंता का सबब बनी हुयी है। आधिकारिक सूत्रों ने आज यहां बताया कि शैक्षिक सत्र 2014-15 की तुलना में वर्ष 2015-16 में शिक्षकों और विद्यालयों में जहां इजाफा हुआ है वहीं विद्यालयों में विद्यार्थियों की संख्या में कमी चिंताजनक है। विभाग द्वारा सरकार को भेजी गयी रिपोर्ट के अनुसार जिले में वर्ष 2014-15 की तुलना में चालू वर्ष 2015-16 में प्राइमरी एवं जूनियर हाईस्कूल में 7,322 छात्रों की संख्या में कमी आयी है। वर्ष 2014-15 में प्राइमरी एवं जूनियर हाईस्कूल में 2,67,950 छात्र थे। इसी प्रकार वर्ष 2014-15 में प्राइमरी ब जूनियर विद्यालयों की संख्या 1871 थी जब कि वर्ष 205-16 में इसकी संख्या बढ़ाकर 1894 हो गयी। सरकार ने जिले में 23 विद्यालयों का नवनिर्माण कराया है। शिक्षकों की संख्या में भारी इजाफा हुआ है। वर्ष 2014-15 में 7959 शिक्षक थे जबकि शासन ने नई भर्ती कर जिले में चालू वर्ष 2015-16 में शिक्षकों की संख्या बढा कर 8403 कर दी। इस तरह एक वर्ष के अनतराल में शिक्षकों की संख्या में 444 बढात्तरी की गयी है। बच्चों की घटती संख्या के कारण भी शिक्षक बच्चों की शिक्षण कार्य में रुचि नही ले रहे है।जिलाधिकारी संध्या तिवारी व कमिश्नर एल.वेंकटेश्वर लू ने पिछले दिनों सुमेरपुर ब्लाक के कई विद्यालयों का निरीक्षण किया था। शिक्षण कार्य में आयी गिरावट को लेकर बेहद नाराजगी व्यक्त करते हुए सभी ब्लाक सह समन्यवकों को हटाकर उन्हे मूलपद में भेजने के आदेश कर दिये थे। दो दिन पहले सरीला के उप जिलाधिकारी एस के त्रिपाठी ने छह प्राइमरी विद्यालयों के निरीक्षण किया और शिक्षा की गुणवत्ता पर असंतोष जाहिर किया। कई विद्यालयों में तो उन्हें केवल एक या दो बच्चे से ही रू-ब-रू होना पडा। श्री तिवारी ने बताया कि सरीला एक पिछड़ा क्षेत्र है मगर प्राइमरी व जूनियर हाईस्कूलों की शिक्षा की गुणवत्ता पर अधिक ध्यान देने की आवश्यकता है। उन्होंने चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि यदि विद्यालयों में बच्चों की यही स्थिति रही तो अप्रैल माह से नये शिक्षा सत्र में ज्यादातर विद्यालयों में एक भी बच्चे नही मिलेंगे। इधर बेसिक शिक्षा अधिकारी डा.इंद्रजीत प्रजापति का कहना है कि कि अगला सत्र अप्रैल माह से शुरु हो जाएगा इसलिये सभी खंड शिक्षा अधिकारियों को स्कूलों में बच्चों की संख्या बढ़ाने के आदेश दिये गये है, ताकि शासन के मुताबिक बच्चों की संख्या में वृद्धि की जा सके।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   1549579
 
     
Related Links :-
दुर्दांत हत्यारा विकास मारा गया,पुलिस का आधिकारिक बयान जारी-
कानपुर शूटआउट: विकास दुबे के साथी प्रभात को हुआ कोरोना, फरीदाबाद से हुआ था गिरफ्तार
बिग ब्रेकिंग* कानून व्यवस्था के सवाल पर राज्यपाल को ज्ञापन सौंपने जा रहे कांग्रेस नेता गिरफ्तार
कुख्यात हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे, जिसे पकड़ने गए 8 पुलिसकर्मी शहीद हुए...
प्रियंका खाली करेंगी बंगला, क्या लखनऊ होंगी शिफ्ट?
यूपी कांग्रेस अध्यक्ष, विधायक दल की नेता गिरफ्तार
यूपी: सरकारी बालिका गृह में 57 लड़कियां कोरोना संक्रमित, दो प्रेग्नेंट और एक को एड्स
मुख्यमंत्री की कार्यप्रणाली का कायल हुआ आईसीएमआर
इमरजेंसी सेवाएं होंगी पहले से ज्यादा बेहतर : योगी आदित्यनाथ
मुख्यमंत्री ने किया बाल श्रमिक विद्याधन योजना का लोकार्पण
 
CopyRight 2016 DanikUp.com