Breaking News
सपा की टोपी लगा डीएम के पास पहुंचा सिपाही बोला योगी सरकार को बर्खास्त करो  |   सीएम योगी पर आपत्तिजनक टिह्रश्वपणी करने का मामला सुप्रीम कोर्ट ने दिया पत्रकार प्रशांत की रिहाई का आदेश  |   ९ दिन से लापता एएन-32 विमान का मिला सुराग  |   भारत और द. अफ्रीका में मुकाबला आज  |   विधानसभा चुनाव की तैयारी में जुटे सभी दल  |  
 
 
दैनिक यूपी ब्यूरो
08/09/2018  :  16:29 HH:MM
मेरे पास मोदी है
Total View  411

भाजपा ने अपनी राष्ट्रीय कार्यकारिणी में साफ कर दिया है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ब्रांड वैल्यू ही उनके लिए राज्यों और लोकसभा चुनाव में सबसे बड़ी पूंजी होगी। बाकी मुद्दों पर समय, स्थान और परिस्थितियों के मुताबिक भाजपा हवा देगी। मेरे पास माँ है कि तर्ज पर भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने एलान कर दिया है कि मेरे पास मोदी हैं। दरअसल भाजपा को लग रहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का चेहरा अभी भी सब पर भारी है।

अंजना पाराशर

भाजपा ने अपनी राष्ट्रीय कार्यकारिणी में साफ कर दिया है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ब्रांड वैल्यू ही उनके लिए राज्यों और लोकसभा चुनाव में सबसे बड़ी पूंजी होगी। बाकी मुद्दों पर समय, स्थान और परिस्थितियों के मुताबिक भाजपा हवा देगी। मेरे पास माँ है कि तर्ज पर  भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने एलान कर दिया है कि मेरे पास मोदी हैं।
दरअसल भाजपा को लग रहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का चेहरा अभी भी सब पर भारी है।उनकी छवि पर कोई दाग नही है। कांग्रेस का राफेल वाण बहुत कारगर नही रहा है। भाजपा को दलित व पिछड़ों के लिए किये गए कानूनी उपाय से इन वर्गों का साथ मिलने का भरोसा  और सवर्णों के पास विकल्पहीनता का विश्वास है। इन सबसे ऊपर हिंदुत्व का कार्ड एन वक्त पर चलेगा ही। लेकिन भाजपा को पता है कि चुनाव हवा का होता है इसलिए हवा खराब न हो। मोदी नाम का सहारा लेकर पहले राज्यों का चुनाव जीतने के लिए पार्टी पूरा जोर लगाएगी।
राजस्थान, मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ के साथ तेलंगाना चुनाव को भी पार्टी ने पूरी गंभीरता से लड़ने की रणनीति बनाई है। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह और उनकी भरोसेमंद टीम इन चुनावों की ब्यूह रचना और निगरानी कर रही है।। भाजपा को लगता है कि अगर विधानसभा चुनावों में दांव निशाने पर नही लगा तो लोकसभा के लिए माहौल बिगड़ सकता है। फिर ब्रांड वैल्यू की चुनौती भी कई गुना बढ़ जाएगी।
भाजपा के लिए लोकसभा चुनाव के लिहाज एक स्थिति तो बेहतर कही जा सकती है। उनके कार्यक्रम और सक्रियता के मुकाबले विपक्ष की रणनीति काफी पीछे है। मोदी के लोकप्रिय चेहरे का मुकाबला कौन करेगा ये तय नहीं है और शायद चुनाव तक तय भी नही होगा। 
लेकिन विधानसभा की स्थिति अलग है। राजस्थान में कांग्रेस को जबरदस्त एन्टी इनकंबेंसी का भरोसा है। मध्यप्रदेश में सवर्ण वर्ग जिस तरह से अपनी नाराजगी सड़क पर निकलकर दिखा रहा है उसका सबसे ज्यादा सामना शिवराज सरकार को ही करना है। छतीसगढ़ में भी रमन नाम केवलम की स्थिति नही है। बल्कि रिपोर्ट्स है कि लड़ाई वहां भी काफी दिलचस्प है। ऐसे में भाजपा को मोदी ब्रांड कितना आगे ले जा पायेगा ये कह पाना मुश्किल है। हां ये जरूर है कि भाजपा की चुनौती का मतलब ये नही है कि कांग्रेस के पक्ष में कोई लहर चल रही है। दरअसल सरकार के कई फैसलों से नाराज लोग किसी विकल्प को वोट देना पसंद करेंगे और जहां भाजपा और कांग्रेस ही प्रमुख दल हैं कांग्रेस स्वाभाविक विकल्प बनने का दावा कर सकती है। दरअसल कांग्रेस की संगठनात्मक स्थिति भी बहुत अच्छी नहीं है। राहुल गांधी की अगुवाई में कांग्रेस बदलाव के दौर से गुजर रही है नए लोग अभी जमे नही है पुराने नेताओ की गुटबाजी बड़ा मुद्दा है। कांग्रेस के पास कोई चमत्कार करने वाला चेहरा नही है। उनका सारा दारोमदार भाजपा सरकार की नाकामयाबी पर टिकी है। ऐसे में ये देखना दिलचस्प होगा कि लड़ाई क्या रूप लेती है।
तेलंगाना के चुनाव भी शायद ही एकतरफा हो। अतिआत्मविश्वास से लबरेज मुख्यमंत्री के सी आर ने विधानसभा आठ महीने पहले जरूर भंग कर दी लेकिन कई बार सत्ता की चकाचौंध में आसपास की तश्वीर ही सच नही होती। श्रद्धेय पूर्व प्रधानमंत्री अटल जी ने ऐसा ही जोखिम 2004 में लिया था। इंडिया शाइनिंग का ग्लैमर इस कदर था कि किसी को नही लगता था कि अटल जी चुनाव हार सकते हैं। लेकिन दांव उल्टा पड़ा। इस मामले में मोदी जी ने थोड़ा संयम दिखाया है। उन्हें भी देश बदल रहा है के नारे के साथ जल्द चुनाव में जाने का सुझाव बहुत लोगों से मिला लेकिन अभी वे शायद ये जोखिम लेने के मूड में नही हैं। 
फिलहाल ब्रांड मोदी बनाम सब के भंवर से कौन राजा होगा कौन रंक ये समय बताएगा। लेकिन अब लगातार 2019 तक चुनावी पारा गरम ही नजर आएगा। जनता अपने पत्ते सही वक्त पर ही खोलेगी।
www.dainikup.com






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   9225585
 
     
Related Links :-
सत्ता सुख भोगने का साधन नहीं जनसेवा का है माध्यम : मनोहर
जीत से आगे की इबारत लिखने की तैयारी
140 करोड़ की प्रॉपर्टी कमेटी को 1 रुपये में दूंगा, बशर्तें कमेटी सेल डीड प्रस्तुत करें : जीके
शपथ में इमरान को बुलाएं या नहीं ?
आतंकवाद के कुरूप चेहरे पर आवाज बुलंद करने की जरूरत
सच....मोदी के रहते ही यह मुमकिन है
क्या 2009 वाली जीत दोहरा पायेगी कांग्रेस?
ईरान का गला घोटे अमेरिका
धरातल पर कब उतरेगी डिफेंस यूनिवर्सिटी
जब हरियाणा जल रहा था तो मोदी क्यों थे चुप : दुष्यंत
 
CopyRight 2016 DanikUp.com