Breaking News
कुंभ में जनता की गाढ़ी कमाई बर्बाद कर रही है यूपी सरकार : राजभर  |   JNU राजद्रोह केसः दिल्ली पुलिस, सरकार में शुरू हुआ दोषारोपण  |   कुंभ से UP को मिलेगा 1.2 लाख करोड़ रुपये का राजस्व, 6 लाख रोजगार: CII  |   एनसीडब्ल्यू भेजेगा साधना सिंह को नोटिस।  |   मायावती पर आपत्तिजनक टिप्पणी कर फंसी बीजेपी विधायक साधना सिंह।   |  
 
 
दैनिक यूपी ब्यूरो
07/09/2018  :  22:04 HH:MM
पॉलिटिकल स्टॉक एक्सचेंजः राजस्थान की 48 फीसदी जनता चाहती है बदलाव
Total View  214

पॉलिटिकल स्टॉक एक्सचेंज सर्वे में भाग लेने वाले प्रतिभागियों ने राजस्थान में राज्य के राजनीतिक नेतृत्व के बदलाव के पक्ष में वोट किया. लोग बतौर मुख्यमंत्री वसुंधरा को पसंद तो करते हैं, लेकिन नया नेतृत्व चाहते हैं.

नई दिल्ली, पॉलिटिकल स्टॉक एक्सचेंज (पीएसई) के अनुसार मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की जनता भारतीय जनता पार्टी की डेढ़ दशक पुरानी सरकार से संतुष्ट है, लेकिन राजस्थान की जनता 5 साल पुरानी वसुंधरा राजे की बीजेपी सरकार बदलना चाहती है.

इंडिया टु़डे ग्रुप और एक्सिस माई इंडिया की ओर से कराए गए पॉलिटिकल स्टॉक एक्सचेंज (पीएसई) सर्वे में सवाल पूछा गया कि राज्य का अगला मुख्यमंत्री किसे होना चाहिए. इस पर सर्वे में शामिल होने वालों की राय बेहद दिलचस्प रही. सर्वे के आधार पर देखा जाए तो मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के लिए अगला विधानसभा चुनाव कांटेदार होने वाला है.

टेलीफोन इंटरव्यू पर आधारित इस पॉलिटिकल स्टॉक एक्सचेंज (पीएसई) सर्वे में राजस्थान के हर संसदीय क्षेत्र को शामिल किया गया जिसमें 9,850 लोगों की राय ली गई.

 

बदलाव की बयार

सर्वे से आए परिणाम के अनुसार 35 फीसदी प्रतिभागी लोग राजे को अगले मुख्यमंत्री के रूप में चाहते हैं, जबकि कांग्रेस नेता और पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को भी 35 फीसदी मत मिले जो चाहते हैं कि वही अगले मुख्यमंत्री बनें.

 

मुख्यमंत्री के रूप में राजे और गहलोत के अलावा राजस्थान प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष सचिन पायलट भी 11 फीसदी वोट पाकर इस मामले में तीसरे स्थान पर चल रहे हैं. जबकि इसी पद के लिए ओम माथुर और केंद्रीय मंत्री राज्यवर्द्धन राठौर को 3-3 फीसदी वोट मिले.

वर्तमान वसुंधरा राजे सरकार के कामकाज पर जनता की राय है कि यह सरकार बदली जानी चाहिए. 48 फीसदी जनता का कहना है कि राज्य में सरकार बदली जानी चाहिए. जबकि 32 फीसदी लोगों ने सरकार के कामकाज को अच्छा बताया, वहीं 15 फीसदी लोगों ने इसे सामान्य करार दिया.

जब राजस्थान के अहम मुद्दों के बारे में पूछा गया तो सबसे बड़े मुद्दे के तौर परपानी की निकासी और साफ-सफाई का नाम लिया गया. इसके अलावा मतदाताओं के लिए चिंता के अन्य मुद्दे- किसानों की समस्याएं, बेरोजगारी, महंगाई और पेयजल हैं

2013 चुनाव में हुए 200 सदस्यीय राजस्थान विधानसभा चुनाव में बीजेपी ने 163 सीट जीती थीं. जबकि कांग्रेस को सिर्फ 21 सीट पर ही कामयाबी मिल सकी थी. 

दूसरी ओर, सर्वे में जब देश के अगले प्रधानमंत्री के लिए पसंद के बारे में पूछा गया तो राज्य से 57% प्रतिभागियों ने नरेंद्र मोदी के पक्ष में वोट दिया. वहीं कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को 35% प्रतिभागियों ने प्रधानमंत्री के तौर पर अपनी पसंद बताया.






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   3977384
 
     
Related Links :-
भाजपा को 120 लोकसभा सीटों का नुकसान संभव
पीएम नरेंद्र मोदी ने स्वीकार की हार, कांग्रेस-KCR को दी बधाई
भाजपा को झटका, चार नेता कांग्रेस में शामिल
राजस्थान विधानसभा चुनाव 2018: BJP और कांग्रेस के चुनावी पिटारे में वोटरों के लिए क्या खास
राजस्थान चुनाव में कौन से मुद्दे हैं गरम
पॉलिटिकल स्टॉक एक्सचेंजः राजस्थान की 48 फीसदी जनता चाहती है बदलाव
अब नया PM चाहते हैं लोग: अखिलेश यादव
तेलंगाना में जल्द चुनाव की सुगबुगाहट तेज, मुख्यमंत्री चंद्रशेखर राव आज कर सकते हैं विधानसभा भंग का ऐलान
आओ चुनावी परिक्रमा करें
 
CopyRight 2016 DanikUp.com