Breaking News
कैबीनेट मंत्री राजभर का दावा, राममंदिर पर अध्यादेश कभी नहीं लाएगी बीजेपी  |   मिशन 2019: बीजेपी की गांव-गांव, पांव-पांव पदयात्रा आज से शुरू।  |   लोकसभा चुनाव से पहले अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी को एक बड़ा तोहफा दे सकते हैं पीएम मोदी।  |   आरएसएस ने फिर रटा राम का नाम कहा 2019 में होगा राम मंदिर का निर्माण, दिल्ली में आज से रथ यात्रा शुरू  |   हनुमान को दलित बताने वाले योगी आदित्यनाथ के बयान पर आजम ने कसा तंज कहा समझ नहीं आ रहा रोएं या हसें  |  
 
 
दैनिक यूपी ब्यूरो
02/09/2018  :  09:55 HH:MM
अब नया PM चाहते हैं लोग: अखिलेश यादव
Total View  142

समाजवादी पार्टी (सपा) के प्रमुख अखिलेश यादव ने शनिवार को कहा कि 2019 के लोकसभा चुनाव में जनता भाजपा के खिलाफ वोट डालने की तैयारी कर रही है और वह प्रधानमंत्री का नया चेहरा चाहती है.

लखनऊ: समाजवादी पार्टी (सपा) के प्रमुख अखिलेश यादव ने शनिवार को कहा कि 2019 के लोकसभा चुनाव में जनता भाजपा के खिलाफ वोट डालने की तैयारी कर रही है और वह प्रधानमंत्री का नया चेहरा चाहती है. उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री यादव ने यहां हिन्दुस्तान समाचार पत्र द्वारा आयोजित ''हिन्दुस्तान शिखर समागम'' में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के ''मिशन 74'' के बारे में बताये जाने पर कहा, ''भाजपा के पास अब 73 सीटें नहीं हैं. अब 70 सीट बची हैं. जनता वोट डालने का इंतजार कर रही है. महागठबंधन का इंतजार मत कीजिए. जनता इनके खिलाफ वोट डालने की तैयारी कर रही है. हम अपनी रणनीति क्यों बतायें और यदि बता देंगे तो हार जाएंगे. जैसे कैराना, फूलपुर और गोरखपुर में किया, वही रणनीति तैयार की है.’’

महागठबंधन का चेहरा या प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार कौन होगा, यह पूछने पर उन्होंने कहा, ''''देश नये प्रधानमंत्री का इंतजार कर रहा है. हमें भाजपा बता दे कि उनका प्रधानमंत्री कौन होगा. देश नये प्रधानमंत्री के इंतजार में है. अगर भाजपा के पास कोई नया प्रधानमंत्री नहीं है तो आप हमसे क्यों पूछते हैं.'' इस सवाल पर कि क्या उन्हें भावी प्रधानमंत्री के रूप में देखा जाए, यादव ने कहा कि वह इतना बडा सपना नहीं देखते. बसपा प्रमुख मायावती का हाल पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि आज पूरा देश बुआ (मायावती) का हाल पूछ रहा है. जिसके साथ समाजवादी लोग होंगे, उन सभी का हाल अच्छा होगा. सपा प्रमुख ने कहा कि 2019 देश का बहुत अहम चुनाव है. कहीं कहीं जनता पुरानी सरकारों के कामकाज को देखकर फैसला लेगी. ज्यादातर प्रदेशों में भाजपा की सरकार है और उत्तर प्रदेश में सपा विपक्ष की पार्टी है. कहीं कहीं सपा की जिम्मेदारी भी बड़ी है और जो जनता के बीच काम किया है, उसका तो आकलन होगा ही.

उन्होंने कहा कि नोटबंदी पर अब बहस होनी चाहिए क्योंकि मोदी सरकार का सबसे बडा फैसला नोटबंदी था. नोटबंदी के बारे में पूरा देश जान गया है. कम से कम अब देश में इस पर बहस होनी चाहिए. उस समय (नोटबंदी के समय) एकतरफा बहस थी. नोटबंदी से फायदा क्या हुआ. क्या आतंकवाद, नक्सलवाद या भ्रष्टाचार खत्म हो गया. रूपया काला-सफेद नहीं होता बल्कि हमारा आपका लेनदेन काला-सफेद होता है. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा प्रदेश को दंगामुक्त करने के दावे पर पूछे गये सवाल पर यादव ने तंज कसा, ''दंगा करने वाले सत्ता में जाएंगे तो दंगा कैसे होगा... हमने आतंकवादियों पर मुकदमे वापस नहीं लिये है. जिनके मुकदमे वापस लिये अगर वे आतंकी हैं तो मुख्यमंत्री ने अपने ऊपर लगे मुकदमे क्यों वापस ले लिये.''

 

 






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   8749258
 
     
Related Links :-
EXIT POLL : मध्यप्रदेश- राजस्थान से भाजपा एग्जिट
भाजपा को झटका, चार नेता कांग्रेस में शामिल
राजस्थान विधानसभा चुनाव 2018: BJP और कांग्रेस के चुनावी पिटारे में वोटरों के लिए क्या खास
राजस्थान चुनाव में कौन से मुद्दे हैं गरम
पॉलिटिकल स्टॉक एक्सचेंजः राजस्थान की 48 फीसदी जनता चाहती है बदलाव
अब नया PM चाहते हैं लोग: अखिलेश यादव
तेलंगाना में जल्द चुनाव की सुगबुगाहट तेज, मुख्यमंत्री चंद्रशेखर राव आज कर सकते हैं विधानसभा भंग का ऐलान
आओ चुनावी परिक्रमा करें
 
CopyRight 2016 DanikUp.com