Breaking News
चीन ने चांद पर उगाया कपास का पौधा अब आलू की बारी  |   कर्नाटक में सियासी सरगरमी तेज, 2 निर्दलीय विधायकों ने वापस लिया समर्थन  |   उत्तर प्रदेश महागठबंधन, माया-अखिलेश के बाद अब अजीत चाैधरी भी होगें शामिल   |   कांग्रेस की मांग जल्द हो सीबीआई निदेशक की नयुक्ति  |   कुंभ में आज पहला शाही स्नान, महानिर्वाणी और अटल अखाड़े ने संगम तट पर डुबकी लगाई  |  
 
 
दैनिक यूपी ब्यूरो
14/06/2018  :  00:03 HH:MM
सड़क चौड़ीकरण के नाम पर मंदिर तोड़े जाने से अखाड़ा परिषद नाराज
Total View  136

महंत गिरी ने कहा कि विश्व का सबसे बड़ा आध्यत्मिक मेला कुंभ 2019 के लिए शहर में सड़क मार्ग को चौड़ीकरण करने का कार्य तेजी से किया जा रहा है।

इलाहाबादः साधु संतो की जानी-मानी संस्था अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेन्द्र गिरी ने प्रशासन के दोहरे चरित्र पर नाराजगी व्यक्त करते हुए कहा कि सड़क चौड़ीकरण में केवल मंदिर को तोडना उचित नहीं है, इसके रास्ते में मस्जिद, मजार और गुरूद्वारा जो भी आता है उसका उचित प्रबंध कर अन्यत्र स्थापित किया जाए। 

महंत गिरी ने कहा कि विश्व का सबसे बड़ा आध्यत्मिक मेला कुंभ 2019 के लिए शहर में सड़क मार्ग को चौड़ीकरण करने का कार्य तेजी से किया जा रहा है। इसके रास्ते में पडने वाले अगर मंदिरों को तोडा जा रहा है, दूसरे धर्म के स्थलों को छोड़ना न्यायोचित नहीं होगा। चौड़ीकरण के रास्ते में पूज्यस्थल मंदिर, मस्जिद, मजार या गुरूद्वारा जो भी आता है, उसे वहां से हटा कर अन्यत्र स्थापित किया जाए। 

उन्होंने कहा कि केवल मंदिर के साथ तोडफ़ोड़ न्यायोचित नहीं होगा। प्रशासन को दोहरा चरित्र नहीं अपनाना चाहिए बल्कि उसे सभी धर्मस्थलों का सम्मान करना चाहिए और उनके लोगों से बातचीत कर सहूलिय का रास्ता निकाले जिससे शहर का माहौल शांत रहे।  

मंहत गिरी ने कहा कि सड़क चौड़ीकरण के मार्ग में किसी भी धर्म से संबंधित उसका पूज्य स्थल आता है तो उनका ध्यान रखा जाये और प्रयास किया जाए की उन्हें अन्यत्र स्थापित किया जाए। उन्होंने कहा कि किसी एक धर्मिक स्थल को तोड़ने से उसके प्रति आस्था रखने वाले लोगों में आक्रोश उत्पन्न होगा, जो उचित नहीं है। प्रशासन को इसपर गंभीरता पूर्वक विचार करना चाहिए। 

परिषद के अध्यक्ष ने कहा कि जब श्री नरेन्द्र मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री से उस समय वहां विकास के मार्ग में पडने वाले धार्मिक स्थलों को हटवाया था। उन्होंने किसी एक को नहीं हटाया था। प्रशासन को चाहिए कि उसे भी गुजरात की तर्ज पर रास्ते में पड़ने वाले धर्मिक स्थलों को हटाये, लेकिन ऐसा कदापि / करे कि काई एक संप्रदाय की भावना आहत हो।  गौरतलब है कि सड़क चौड़ीकरण को लेकर प्रशासन द्वारा मंदिरों को तोडऩे के खिलाफ  हिंदूवादी संगठनों ने कड़ा विरोध कर रहे हैं और उनमें आक्रोश भरा है।

 






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   2772292
 
     
Related Links :-
अखिलेश-जयंत की बैठक कल, खुलेगी गठबंधन की गांठ
राजभर ने भाजपा को दिया जीत का फार्मूला
शिवपाल यादव को मिली चाबी क्या खोलेगी किस्मत का ताला ?
अखिलेश-मायावती के गठबंधन के बाद क्या UP के मुसलमान रोकेंगे PM मोदी का विजय रथ?
भाजपा को हराने के लिए कांग्रेस से सहयोग को तैयार: शिवपाल यादव
यूपी 69000 शिक्षक भर्ती 2018: शिक्षामित्रों को लगा तगड़ा झटका
इंटेलिजेंस रिपोर्ट में खुलासा: एक ही हथियार से हुई इंस्पेक्टर सुबोध और सुमित की हत्या
मैं ही मोदी हूं, मैं ही योगी हूं
इलाहाबाद का नाम बदलना अस्था व परम्परा के साथ खिलवाड़: अखिलेश
शिवपाल यादव को राज्य संपत्ति विभाग ने अलॉट किया नया बंगला, पहले हुआ करता था BSP कार्यालय
 
CopyRight 2016 DanikUp.com