Breaking News
यमुना में बढ़ते प्रदूषण के खिलाफ RLD कार्यकर्ताओं ने गर्म बालू से स्नान कर किया प्रदर्शन  |   किसानों को आधुनिक तरीके से खेती के लिए किया जाए प्रेरित: योगी  |   उन्नाव गैंगरेप कांडः बीजेपी विधायक और शशि सिंह की पॉक्सो कोर्ट में आज होगी पेशी  |   आम महोत्सव में 700 प्रजातियों का होगा प्रर्दशन, योगी 23 जून को करेंगे उद्घाटन  |   हापुड़ में भीषण सड़क हादसा: कार सवार 6 लोगों की मौके पर दर्दनाक मौत  |  
 
 
दैनिक यूपी ब्यूरो
12/06/2018  :  20:19 HH:MM
किसानों को बरगला कर उद्योगपतियों का हित साधने में लगी है सरकार : रालोद
Total View  15

देश का अन्नदाता आज भी गरीबी और मुफलिसी का शिकार है जिसके कारण समाज का अतिमहत्वपूर्ण यह तबका आत्महत्या करने तक को विवश है। उन्होने कहा कि किसानों के लिए सात हजार करोड़ रूपए के पैकेज की केन्द्र सरकार की घोषणा महज छलावा है।

लखनऊः रालोद के महासचिव त्रिलोक त्यागी ने कहा कि किसानों की आय दोगुनी करने का वादा करने वाली केन्द्र की नरेन्द्र मोदी सरकार असल में उद्योगपतियों का हित साधने के लिए अन्नदाताओं को बरगला रही है।  त्यागी ने मंगलवार को यहां पत्रकारों से कहा कि किसानों की आय को दोगुनी करने की बात करने वाली केन्द्र की मोदी सरकार वास्तव में उद्योगपतियों के हित साधने में लगी है क्योंकि अगले साल होने वाले चुनाव में ये उद्योगपति ही भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को चंदा देकर मदद करेंगे।

देश का अन्नदाता आज भी गरीबी और मुफलिसी का शिकार है जिसके कारण समाज का अतिमहत्वपूर्ण यह तबका आत्महत्या करने तक को विवश है। उन्होने कहा कि किसानों के लिए सात हजार करोड़ रूपए के पैकेज की केन्द्र सरकार की घोषणा महज छलावा है। गन्ना किसान के नाम पर आवंटित यह पैसा पहले की तरह अधिकारियों और मिल मालिकों के बीच बंदरबांट का शिकार हो जाएगा। किसानों के नाम पर दी जा रही सब्सिडी वास्तव में मिल मालिकों को दी जा रही है।  

उन्होंने कहा कि देश के किसानों का करीब 22 हजार करोड़़ रूपये गन्ना मूल्य भुगतान के लिये आज भी बकाया है जिसमें लगभग 12 हजार करोड़ रूपये का बकाया उत्तर प्रदेश के किसानों का है। रालोद नेता ने कहा कि पार्टी के एक प्रतिनिधिमंडल ने आज राज्यपाल रामनाईक से मुलाकात कर एक ज्ञापन दिया और उनसे किसानों के बकाये के भुगतान के मसले में हस्तक्षेप करने की गुजारिश के साथ ही विभिन्न मांगों पर योगी सरकार पर दवाब बनाने की अपील की गई। इस मामले में बुधवार को रालोद कार्यकर्ता जिला मुख्यालयों का घेराव करेंगे।

त्यागी ने कहा कि सरकार की गलत नीतियों के चलते प्रदेश में गन्ने का रकबा घट गया है। सरकार ने मिल मालिकों का दो साल का ब्याज माफ कर दिया जबकि उच्च न्यायालय के आदेश के बावजूद गन्ना किसानों को गन्ना मूल्य का भुगतान नही किया बल्कि उनको बकाये का तीन साल से ब्याज भी नहीं दिया। किसान हर साल अच्छी उपज के लिए खाद वगैरह नकद खरीदता है जबकि उसे गन्ने मूल्य के बकाये का भुगतान तक नही किया जाता। 

रालोद महासचिव ने कहा कि उनकी पार्टी की मांग है कि सरकार गन्ना किसानों का बकाया मूल्य भुगतान अपनी गारंटी पर तुरंत कराये। गन्ना मूल्य बकाया पर ब्याज की धनराशि का भुगतान अविलंब कराया जाये। निजी हाथों में बेची गयी गन्ना मिलों को सरकार अपने कब्जे में लेकर चालू कराये। केन्द्र सरकार आलू पर आयात शुल्क बढाकर पहले की तरह 20 प्रतिशत करे और आलू निर्यात को प्रोत्साहन दिया जाए।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   8741705
 
     
Related Links :-
छात्र राजनीति में बसपा की दस्तक से राजनीतिक गलियारे में मची हलचल
लाेकसभा चुनाव 2019 में भी '19' के फेर में फंसेगी बीजेपीः कांग्रेस
STF की बड़ी कार्रवाईः फर्जी शिक्षक भर्ती घोटाले में 16 लोगों को किया गिरफ्तार
देश तथा सीमा पर आतंकवाद किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहींः राजनाथ सिंह
2019 लोकसभा चुनाव में बीजेपी के खिलाफ विपक्षी दलों को लेकर आएंगे साथः अखिलेश
बाल श्रम रोकने के लिए मिलकर काम करें जिम्मेदार विभाग: रीता बहुगुणा
J&K में BJP ने वापस लिया समर्थन, याेगी बाेले-देश के व्यापक हित में उठाया गया कदम
यूपी में महागठबंधन को झटका, सपा का कांग्रेस संग गठजोड़ से इंकार
भाजपा ने महबूबा मुफ्ती से तोड़ा गठबंधन, J&K में राज्यपाल शासन की मांग
अमित शाह ने बुलाई J&K के मंत्रियों की बैठक, मिशन 2019 पर होगी चर्चा
 
CopyRight 2016 DanikUp.com