Breaking News
यमुना में बढ़ते प्रदूषण के खिलाफ RLD कार्यकर्ताओं ने गर्म बालू से स्नान कर किया प्रदर्शन  |   किसानों को आधुनिक तरीके से खेती के लिए किया जाए प्रेरित: योगी  |   उन्नाव गैंगरेप कांडः बीजेपी विधायक और शशि सिंह की पॉक्सो कोर्ट में आज होगी पेशी  |   आम महोत्सव में 700 प्रजातियों का होगा प्रर्दशन, योगी 23 जून को करेंगे उद्घाटन  |   हापुड़ में भीषण सड़क हादसा: कार सवार 6 लोगों की मौके पर दर्दनाक मौत  |  
 
 
दैनिक यूपी ब्यूरो
12/06/2018  :  20:18 HH:MM
कार्यपालिका और न्यायपालिका से विद्वेषपूर्ण व्यवहार ठीक नहीं : मायावतीकार्यपालिका और न्यायपालिका से विद्वेषपूर्ण व्यवहार ठीक नहीं : मायावती
Total View  24

कानून मंत्री और अन्य केन्द्रीय मंत्रियों ने भी बार-बार सार्वजनिक तौर पर यह कहा कि केन्द्रीय कानून मंत्रालय कोई ’’डाकघर’’ नहीं है जो जजों की नियुक्ति के मामले में सुप्रीम कोर्ट के कॉलेजियम की सिफारिश पर आंख बन्द करके अमल करता रहे।

लखनऊः बहुजन समाज पार्टी सुप्रीमो मायावती ने नरेन्द्र मोदी सरकार द्वारा न्यायपालिका को बार-बार अपमानित करने उसे नीचा दिखाने की प्रवृत्ति की तीखी आलोचना करते हुए कहा कि कार्यपालिका का न्यायपालिका के साथ ऐसा विद्वेषपूर्ण बर्ताव सही नहीं है तथा प्रतिपक्षी पार्टियों के साथ-साथ देश की न्यायपालिका के प्रति भी यह केन्द्र सरकार की हठर्धिमता और निरंकुशता का प्रतीक है।

उन्होंने कहा कि स्वयं कानून मंत्री और अन्य केन्द्रीय मंत्रियों ने भी बार-बार सार्वजनिक तौर पर यह कहा कि केन्द्रीय कानून मंत्रालय कोई ’’डाकघर’’ नहीं है जो जजों की नियुक्ति के मामले में सुप्रीम कोर्ट के कॉलेजियम की सिफारिश पर आंख बन्द करके अमल करता रहे। उत्तरप्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि केन्द्र सरकार के इस प्रकार के दु:खद रवैये के कारण न्यायपालिका आज अभूतपूर्व संकट झेल रही है। 

मायावती ने आज एक बयान में कहा कि भाजपा के मंत्रीगण अगर न्यायपालिका का पूरा आदर-सम्मान नहीं कर सकते तो कम-से-कम उसका अपमान भी नहीं करें। केन्द्र सरकार का कानून मंत्रालय अगर ’’पोस्ट आफिस’’ (डाकघर) नहीं है तो उसे पुलिस थाना (कोतवाली) बनने का भी अधिकार कानून संविधान ने नहीं दिया है। बसपा प्रमुख ने कहा कि केन्द्र सरकार के मंत्री भाजपा के नेता बार-बार यह कहते हैं कि 2016 में 126 जजों की नियुक्ति करके केन्द्र सरकार ने कमाल का काम किया है, लेकिन पहले 300 से ज्यादा जजों के पदों को खाली लटकाए रखना और फिर उसके बाद 126 जजों की नियुक्ति करना यह कौन सा जनहित देशहित का काम है।

उन्होंने कहा कि केन्द्रीय मंत्रालयों में उच्च पदों पर दलितों, आदिवासियों पिछड़े वर्ग के अधिकारियों की तैनाती नहीं करने के मामले में भी नरेन्द्र मोदी सरकार का रवैया पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकारों की तरह ही जातिवादी द्वेषपूर्ण बना हुआ है। 

 






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   15278
 
     
Related Links :-
समर्थन वापसी से ही नहीं, भाजपा की इस ‘हरकत’ से भी हैरान रह गई थीं महबूबा
नीति आयोग की श्रीनगर में होने वाली बैठक टली
मुंबई में योग दिवस के कार्यक्रम में शिरकत करेंगे उप राष्ट्रपति
पार्टी कार्यकर्ताओं की हत्या के खिलाफ भाजपा ने प्रदर्शन किया
किसानों के कर्ज माफी की जिम्मेदारी कुमारस्वामी की: येदियुरप्पा
भारत ने ठुकराया चीन का त्रिपक्षीय सुझाव
तेलंगाना के महत्वपूर्ण मुद्दों को उठाने में विफल चंद्रशेखर: कांग्रेस
ओडिशा में अस्पताल संबंधी वादे को लेकर राहुल का पीएम मोदी पर हमला
बाबा रामदेव के बदले सुर, बोले-राहुल गांधी से मेरा रिश्ता दोस्ताना
शहीद जवान के पिता बोले, 72 घंटे में कातिलों को मारे मोदी सरकार, वर्ना मैं लूंगा बदला
 
CopyRight 2016 DanikUp.com