Breaking News
कुंभ में जनता की गाढ़ी कमाई बर्बाद कर रही है यूपी सरकार : राजभर  |   JNU राजद्रोह केसः दिल्ली पुलिस, सरकार में शुरू हुआ दोषारोपण  |   कुंभ से UP को मिलेगा 1.2 लाख करोड़ रुपये का राजस्व, 6 लाख रोजगार: CII  |   एनसीडब्ल्यू भेजेगा साधना सिंह को नोटिस।  |   मायावती पर आपत्तिजनक टिप्पणी कर फंसी बीजेपी विधायक साधना सिंह।   |  
 
 
दैनिक यूपी ब्यूरो
10/06/2018  :  22:57 HH:MM
कानपुर अस्पताल में मौतों का मामला: जांच कमेटी से हैलट प्रशासन को क्लीन चिट मिलने की उम्मीद
Total View  133

डॉक्टरों का कहना था कि एसी बंद होने से मरीजों को असुविधा तो हो सकती है मगर आईसीयू में लगे जीवन रक्षक उपकरण सही हालत में रहने से सिर्फ एसी के कारण किसी की मौत नहीं हो सकती।

कानपुर: उत्तर प्रदेश में कानपुर के गणेश शंकर विद्यार्थी मेडिकल (जीएसवीएम) कालेज से संबद्ध लाला लाजपत राय (हैलट) अस्पताल में 5 मरीजों की मौत के मामले में सरकार द्वारा गठित जांच कमेटी से डॉक्टरों को क्लीन चिट मिलने के आसार बढ़ गए हैं। विश्वस्त सूत्रों ने बताया कि अस्पताल प्रशासन ने जांच दल को सफाई दी थी कि सघन चिकित्सा इकाई (आईसीयू) का एयरकंडीशनर खराब जरूर हुआ था मगर इसके लिए एसी मेंटिनेंस की सेवाएं देने वाली कंपनी को समय से सूचित किया गया था।

 डॉक्टरों का कहना था कि एसी बंद होने से मरीजों को असुविधा तो हो सकती है मगर आईसीयू में लगे जीवन रक्षक उपकरण सही हालत में रहने से सिर्फ एसी के कारण किसी की मौत नहीं हो सकती। जांच दल में शामिल डॉ.के.के गुप्ता के साथ डॉ. देवेन्द्र गुप्ता, डॉ. हिमांशु की टीम ने आईसीयू के निरीक्षण के बाद मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य कक्ष में मेडिसिन विभाग के 3 डॉक्टरों के बयान लिए।

 

3 डॉक्टरों ने अपनी अपनी सफाई देते हुए कहा कि मरीजों की मौत हुई है लेकिन इसका कारण एसी फेल होना नहीं है क्योंकि आईसीयू में लगे सारे उपकरण सही काम कर रहे थे। 3 मरीजों की मौत हार्ट अटैक से जबकि 2 मरीज काफी गंभीर थे। उन्हें गुरुवार देर रात न्यूरोसर्जरी आईसीयू में शिफ्ट करने की तैयारी की जा रही थी लेकिन इससे पहले उनकी मौत हो गई।  डॉक्टरों का पक्ष सुनने के बाद जांच कमेटी ने 5 मरीजों के ट्रीटमेंट का ब्योरा लिया जिनकी मौतें हुई थीं। ड्यूटी डॉक्टरों का पक्ष सुनने के बाद जांच कमेटी में प्राचार्य से मामले की रिपोर्ट मांगी।

 

हैलट प्रशासन ने अपनी रिपोर्ट में साफ किया है कि मरीजों की मौतें गंभीर बीमारियों के कारण हुईं। एसी प्लांट की वजह से किसी को भी हाइपोथर्मिया की शिकायत नहीं निकली है। रिपोर्ट में कहा गया कि एसी प्लांट में खराबी मेंटेनेंस फर्म की लापरवाही से हुई है, जिसको कारण बताओ नोटिस जारी कर दिया गया है। सूत्रों ने बताया कि अस्पताल प्रशासन की सफाई से जांच दल संतुष्ट दिखाई पड़ा। जांच दल को रविवार शाम तक मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को रिपोर्ट सौंपनी है। अस्पताल प्रशासन को उम्मीद है कि सरकार का भरोसा उन पर कायम रहेगा।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   1795443
 
     
Related Links :-
अखिलेश-जयंत की बैठक कल, खुलेगी गठबंधन की गांठ
राजभर ने भाजपा को दिया जीत का फार्मूला
शिवपाल यादव को मिली चाबी क्या खोलेगी किस्मत का ताला ?
अखिलेश-मायावती के गठबंधन के बाद क्या UP के मुसलमान रोकेंगे PM मोदी का विजय रथ?
भाजपा को हराने के लिए कांग्रेस से सहयोग को तैयार: शिवपाल यादव
यूपी 69000 शिक्षक भर्ती 2018: शिक्षामित्रों को लगा तगड़ा झटका
इंटेलिजेंस रिपोर्ट में खुलासा: एक ही हथियार से हुई इंस्पेक्टर सुबोध और सुमित की हत्या
मैं ही मोदी हूं, मैं ही योगी हूं
इलाहाबाद का नाम बदलना अस्था व परम्परा के साथ खिलवाड़: अखिलेश
शिवपाल यादव को राज्य संपत्ति विभाग ने अलॉट किया नया बंगला, पहले हुआ करता था BSP कार्यालय
 
CopyRight 2016 DanikUp.com