Breaking News
अगले माह होगा पीएम मोदी की नई कूटनीति का आगाज पाकिस्तानी प्रधानमंत्री से हो सकती है मुलाकात  |   राम मंदिर की खबर दिखाने के कारण कनाडा मे अपना रेडियो ऑफ एयर कर दिया   |   मतदान निपटते ही योगी ने राजभर को निपटाया  |   एग्जिट पोल ने क्षेत्रीय दलों की उड़ाई नींद  |   पीएम मोदी की आपत्तिजनक फोटो डालने पर दिल्ली में केस दर्ज  |  
 
 
दैनिक यूपी ब्यूरो
10/06/2018  :  22:55 HH:MM
अमेरिकी एजेंसी के रेडार पर चंदा कोचर और ICICI बैंक
Total View  247

भारतीय रेग्‍युलेटर और जांच एजेंसियां मारिशस समेत विदेश में अपनी समकक्ष अथॉरिटी से जांच में मदद लेने पर गंभीरता से विचार कर रही हैं।

वीडियोकॉन घोटाले में फंसे आईसीआईसीआई बैंक और उसकी सीईओ चंदा कोचर और उनके परिवार वालों के खिलाफ जांच का दायरा बढ़ता जा रहा है। देश में कोचर और उनके परिवार वालों के खिलाफ कई एजेंसियां जांच कर रही हैं। वहीं, अब यह मामला अमेरिकी मार्केट रेग्युलेटर SEC (सिक्यॉरिटीज ऐंड एक्सचेंज कमिशन) के रेडार में भी चुका है। दूसरी ओर, भारतीय जांच एजेंसियां और रेग्युलेटर इस मामले में विदेशी एजेंसियों की मदद लेने पर विचार कर रही हैं।

भारतीय रेग्युलेटर और जांच एजेंसियां मारिशस समेत विदेश में अपनी समकक्ष अथॉरिटी से जांच में मदद लेने पर गंभीरता से विचार कर रही हैं। अमेरिकी मार्केट रेग्युलेटर एसईसी के पब्लिक अफेयर्स के प्रवक्ता से जब आईसीआईसीआई बैंक और कोचर को लेकर उनकी जांच के बारे में पूछा गया तो उन्होंने इस पर कमेट करने से इनकार कर दिया। इस संबंध में आईसीआईसीआई बैंक को भी भेजे गए सवाल का जवाब अभी तक नहीं मिला है। बता दें, बैंक पहले ही चंदा कोचर के खिलाफ कुछ कॉरपोरेट्स को लोन देने के मामले में पक्षपात करने और पद का गलत इस्तेमाल करने के आरोपों की स्वतंत्र जांच बैठा चुका है। मार्च के शुरूआती हफ्ते में इस संबंध में पहली रिपोर्ट आई थी, तब बैंक और उसके बोर्ड ने कहा था कि उसे कोचर में पूरा भरोसा है।

ICICI बैंक मामले पर SEC की नजर

सूत्रों का कहना है कि अमेरिकी मार्केट रेग्युलेटर सिक्युरिटी एंड एक्सचेंज कमीशन (एसईसी) आईसीआईसीआई बैंक मामले को गंभीरता से देख रहा है। दरअसल, आईसीआईसीआई बैंक अमेरिकी भी लिस्टेड है। एसईसी अपने भारतीय समकक्ष सेबी से इस मामले में डिटेल मांग सकता है। भारतीय मार्केट रेग्युलेटर सिक्युरिटी एंड एक्सचेंज बोर्ड ऑफ इंडिया (सेबी) पहले ही आईसीआईसीआई बैंक और कोचर के खिलाफ कारण बताओ नोटिस जारी कर चुका है। इस मामले में रिजर्व बैंक और कॉरपोरेट अफेयर्स मिनिस्ट्री भी जांच कर रहे हैं। वहीं, सीबीआई ने कोचर के पति और अन् के खिलाफ एक प्राथमिक जांच दर्ज कर लिया है। अप्रैल में सीबीआई ने कोचर के देवर से पूछताछ की थी। 

चंदा कोचर पर क्या हैं आरोप?

चंदा कोचर और उनकी फैमली पर आरोप है कि वीडियोकॉन ग्रुप को लोन देने में उन्हें निजी तौर पर लाभ हासिल हुआ है। इसी के बाद बैंक ने चंदा के खिलाफ लोन बांटने मेंकान्फ्लिक्ट ऑफ इंटरेस्और निजी लाभ के लिए काम करने के आरोपों की स्वतंत्र जांच कराने का आदेश दिया। आरोप है कि वीडियोकॉन ग्रुप को दिए गए लोन का पैसा चंदा कोचर के पति की कंपनी न्यूपॉवर में आया। इस मामले पर पिछले हफ्ते ही सेबी ने भी नोटिस जारी कर चंदा कोचर से पूरे मामले पर जानकारी देने को कहा था। आईसीआईसीआई बैंक ने वीडियोकॉन ग्रुप को 3,250 करोड़ रुपए का लोन वर्ष 2012 में दिया था, जिसमें से 2,810 करोड़ रुपए नहीं लौटाए गए। बैंक ने वर्ष 2017 में इसे एनपीए घोषित कर दिया था।

 
 






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   8609253
 
     
Related Links :-
हाइन फ्यूचर नेचुरल्स भारत में पहली बार पेश करती है सेंसिबल पोर्शन्स वेजी स्ट्रॉ
लग्जरी कनेक्ट बिजनेस स्कूल ने लग्जरी इंडस्ट्री में कार्यशाला
सुविधा एप का निर्वाचन आयोग के मार्गदर्शन में ‘ड्राई रन’
धान की जगह मक्का और अरहर की फसलों को बढ़ाने की योजना
इंडियन आयल की ऊर्जा क्षेत्रों में दो लाख करोड़ निवेश की योजना
भारतीय उद्यमियों को मिल रहा है वॉलमार्ट के ग्‍लोबल मार्केटह्रश्व‍लेस तक सुगमतापूर्वक पहुंच
यूटीआई म्यूचुअल फं ड ने रोहतक में खोला एक नया वित्तीय केंद्र
लवेबल ने किया अपना नया एसएस’ 19 कलेक्शन लॉन्च
साल 2021 तक 100 स्टोर्स खोलेगा ‘ग्रेविटी’, गुरुग्राम तक होगा विस्तार
इस अक्षय तृतीया पर फॉरेवरमार्क डायमंड्स के साथ संपन्नता का जश्न मनाएं
 
CopyRight 2016 DanikUp.com