Breaking News
सार्क देशों के नेताओं ने भी दी अटल को श्रद्धांजलि  |   आज से शुरू होगा मॉरीशस में विश्व हिंदी सम्मेलन  |   अटल की अंतिम यात्रा में योगी, केशव मौर्य सहित यूपी के दिग्गज नेताओ का जमावड़ा  |   अटल की अंतिम यात्रा में पैदल चले मोदी  |   राजकीय सम्मान के साथ विदा हुए अटल  |  
 
 
दैनिक यूपी ब्यूरो
07/06/2018  :  23:28 HH:MM
भीमा कोरेगांव मामले में जिग्नेश मेवाणी को समन भेज सकती है पुणे पुलिस
Total View  24

रोना विलिसन के घर छापेमारी के वक्त पुलिस के हाथ एक लेटर भी लगा है, जिसमें कांग्रेस के साथ विल्सन के तार जुड़े होने की बात की गई है। इस मामले में बात करते हुए कदम ने कहा कि लेटर में मिली जानकारी कितनी सच है

भीमा कोरेगांव मामले में गुरुवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए पुणे के जॉइंट पुलिस कमिश्नर रविंद्र कदम ने कहा है कि अगर जरूरत पड़ी तो पूछताछ के लिए गुजरात के बड़गाम से विधायक जिग्नेश मेवाणी को समन भेज सकते हैं।

इसके साथ ही मामले में नक्सलियों के साथ कनेक्शन के शक में रोना विल्सन और सुधीर की गिरफ्तारी पर बात करते हुए कदम ने कहा किरोना विल्सन के घर से हमे पेन ड्राइव, हार्ड डिस्क और अन्य कुछ दस्तावेज मिले हैं। जिन्हें फॉरेंसिक जांच के लिए भेज दिया गया है। उन्होंने कहा कि हमें खबर मिली है कि रोना विल्सन और सुधीर के नक्सलियों के साथ संबंध हैं।

रोना विलिसन के घर छापेमारी के वक्त पुलिस के हाथ एक लेटर भी लगा है, जिसमें कांग्रेस के साथ विल्सन के तार जुड़े होने की बात की गई है। इस मामले में बात करते हुए कदम ने कहा कि लेटर में मिली जानकारी कितनी सच है और कितनी गलत ये तो जांच के बात ही पता चल पाएगा। इसके साथ ही कदम ने बताया कि एल्गार परिषद के आयोजन में कई लोगों की अहम भूमिका थी। मगर इनमें से सभी लोगों का नक्सलियों के साथ संबंध नहीं हैं।

बता दें पुणे पुलिस ने बुधवार को भीमा कोरेगांव हिंसा मामले में नक्सलियों से कथित तौर पर जुड़ाव के लिए मुंबई, नागपुर और दिल्ली से नामी दलित कार्यकर्ता सुधीर धावले समेत पांच लोगों को गिरफ्तार किया था।

पुणे पुलिस के सूत्रों के मुताबिक बुधवार को सुबह एक साथ कई छापे के दौरान धावले को मुंबई में उनके घर से गिरफ्तार किया गया, वकील सुरेंद्र गाडलिंग, एक्टिविस्ट महेश राउत और शोमा सेन को नागपुर से और रोना विल्सन को दिल्ली में मुनरिका स्थित उनके फ्लैट से गिरफ्तार किया गया।

 

धावले एल्गार परिषद के आयोजकों में थे। शनिवारवडा में 31 दिसंबर को भीमा कोरेगांव लड़ाई के 200 साल पूरे होने के मौके पर कार्यक्रम का आयोजन किया गया था। विश्रामबाग थाने में दर्ज FIR के अनुसार कबीर कला मंच के कार्यकर्ताओं ने कथित तौर पर भड़काऊ भाषण दिए थे, जिस कारण कोरेगांव भीमा में हिंसा हुई।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   9045338
 
     
Related Links :-
जम्मू-कश्मीरः पत्रकार शुजात बुखारी पर आतंकियों का हमला, इलाज के दौरान मौत
PM मोदी ने नया रायपुर में किया इंट्रीग्रेटड कमांड सेंटर का उद्धाटन, ये हैं इसके फायदे
तमिलनाडु: 18 विधायकों पर बंटी जजों की राय, पलानीस्वामी सरकार का खतरा टला
रेलवे ने काट दी 1000 साल बाद की टिकट, अब देना होगा हर्जाना
ऑपरेशन ब्लू स्टार' को लेकर ब्रिटिश सरकार की दलील खारिज
मुंबई: वर्ली में एक बहुमंज‍िला इमारत में लगी आग, 90 लोगों को बचाया गया
विपक्ष का महागठबंधन लोकसभा चुनाव 2019 के बाद: येचुरी
पीएम ने पाक राष्ट्रपति से गर्मजोशी से मिलाया हाथ
दिल्ली में बनेगा भारत का पहला पुलिस म्यूजियम
वंचित समाज को आगे लाने में होनी चाहिए सबकी भागीदारी : राम नाईक
 
CopyRight 2016 DanikUp.com