Breaking News
यमुना में बढ़ते प्रदूषण के खिलाफ RLD कार्यकर्ताओं ने गर्म बालू से स्नान कर किया प्रदर्शन  |   किसानों को आधुनिक तरीके से खेती के लिए किया जाए प्रेरित: योगी  |   उन्नाव गैंगरेप कांडः बीजेपी विधायक और शशि सिंह की पॉक्सो कोर्ट में आज होगी पेशी  |   आम महोत्सव में 700 प्रजातियों का होगा प्रर्दशन, योगी 23 जून को करेंगे उद्घाटन  |   हापुड़ में भीषण सड़क हादसा: कार सवार 6 लोगों की मौके पर दर्दनाक मौत  |  
 
 
दैनिक यूपी ब्यूरो
04/06/2018  :  14:13 HH:MM
नोटबंदी के बाद 73,000 कंपनियों ने जमा कराए 24,000 करोड़ रुपए
Total View  73

नोटबंदी के बाद बैंकों में जमा राशि को लेकर सरकार ने डाटा जारी किया है। जिसके बाद देश भर में लगभग 73,000 कंपनियों ने 24,000 करोड़ रुपए की राशि बैंकों में जमा कराई, जिनका रजिस्ट्रेशन कंपनी रजिस्ट्रार ने रद्द कर दिया था।

नई दिल्लीः 8 नवंबर, 2016 को केंद्र सरकार ने 500 और 1000 रुपए के पुराने नोटों का प्रचलन बंद कर दिया था। सरकार का यह फैसला कालेधन को बाहर निकालने और आतंकियों एवं माओवादियों की फंडिंग पर चोट पहुंचाने के लिए था। नोटबंदी के बाद बैंकों में जमा राशि को लेकर सरकार ने डाटा जारी किया है। जिसके बाद देश भर में लगभग 73,000 कंपनियों ने 24,000 करोड़ रुपए की राशि बैंकों में जमा कराई, जिनका रजिस्ट्रेशन कंपनी रजिस्ट्रार ने रद्द कर दिया था।

2.26 लाख कंपनियों का रजिस्ट्रेशन कैंसल

कालेधन के बहाव को रोकने और अवैध एवं बेनामी संपत्तियों पर शिकंजा कसने के मकसद से कॉर्पोरेट अफेयर्स मिनिस्ट्री ने 2.26 लाख कंपनियों का रजिस्ट्रेशन कैंसल कर दिया था। इन सभी फर्म्स की कोई बिजनेस ऐक्टिविटी नहीं थी, ऐसे में सरकार ने कालेधन के लेन-देन में शामिल होने और बेनामी संपत्ति बनाने की आशंका के चलते इनका रजिस्ट्रेशन कैंसल कर दिया था। इनमें से ज्यादातर कंपनियों पर अवैध रूप से फंड जुटाने और हेराफेरी करने का आरोप है।

 

24,000 करोड़ रुपए जमा कराए

जिन 2.26 लाख कंपनियों का रजिस्ट्रेशन रद्द किया गया था, उनमें से 1.68 फर्म्स के खाते में नोटबंदी के बाद कैश जमा किया गया। मंत्रालय ने अपने एक दस्तावेज में कहा, 'जिस कंपनियों ने कैश जमा कराया था। उनमें से 73,000 ने अपने खातों में 24,000 करोड़ रुपए जमा कराए। अलग-अलग बैंकों से इन कंपनियों की विस्तृत जानकारी जुटाई जा रही है।'

 

68 कंपनियों के खिलाफ जांच

मंत्रालय के बीते 4 सालों के कामकाज का ब्योरा देने वाले डॉक्युमेंट में यह भी बताया गया है कि ऐसी 68 कंपनियों के खिलाफ जांच की जा रही है। सीरियस फ्रॉड इन्वेस्टिगेशन ऑफिस ऐसी 19 कंपनियों की जांच कर रहा है, जबकि कंपनी रजिस्ट्रार की ओर से ऐसी 49 फर्म्स के बारे में जानकारी जुटाई जा रही है।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   8129754
 
     
Related Links :-
लोन लेकर घर खरीदने वालों को RBI ने दी बड़ी राहत
IDEA-Vodafone के विलय को आज मिल सकती है मंजूरी, बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी!
Airtel विवादः कंपनी ने ट्वीट कर पेश की सफाई, कहा- हम धार्मिक कट्टरता के आगे नहीं झुके
ट्रेन हुई लेट तो यात्रियों के लिए फ्री खाने-पीने की व्यवस्था करेगा रेलवे
वीडियोकॉन घोटाला: जांच पूरी होने तक चंदा कोचर की छुट्टी, संदीप बख्शी बने ICICI बैंक के COO
सोने-चांदी की कीमतों में भारी गिरावट, जानें आज के दाम
आयुष्मान भारत योजनाः पेमेंट में देरी करने पर बीमा कंपनियों पर लगेगा जुर्माना
भारतीयों को US का ग्रीन कार्ड मिलने में लगेंगे 151 सालः रिपोर्ट
खाद्य तेलों का इंपोर्ट होगा महंगा, सरकार ने क्रूड-रिफाइंड सॉफ्ट इडिबल ऑयल बढ़ाई ड्यूटी
जनरल मोटर्स की पहली महिला CFO बनीं भारतीय मूल की दिव्या सूर्यदेवरा
 
CopyRight 2016 DanikUp.com