दैनिक यूपी ब्यूरो
04/06/2018  :  13:45 HH:MM
मुखर्जी हैं धर्मनिरपेक्ष , RSS का निमंत्रण स्वीकार करना है महत्वपूर्ण :शिंदे
Total View  377

शिंदे ने कहा , ‘प्रणब मुखर्जी एक धर्मनिरपेक्ष व्यक्ति हैं। वह हमेशा धर्मनिरपेक्ष ²ष्टिकोण सामने रखेंगे और वहां (आरएसएस के कार्यक्रम में) भी वह वही करेंगे।

नागपुर : वरिष्ठ कांग्रेस नेता सुशील कुमार शिंदे ने रविवार को कहा कि पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी द्वारा राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के कार्यक्रम में शामिल होने का न्यौता स्वीकार करनागलत नहीं है क्योंकि वह एक धर्मनिरपेक्ष व्यक्ति एवं बहुत अच्छे चिंतक हैं। शिंदे ने कहा , ‘प्रणब मुखर्जी एक धर्मनिरपेक्ष व्यक्ति हैं। वह हमेशा धर्मनिरपेक्ष ²ष्टिकोण सामने रखेंगे और वहां (आरएसएस के कार्यक्रम में) भी वह वही करेंगे। वह बहुत अच्छे चिंतक हैं और उनका वहां जाना एवं उस मंच पर भाषण देना एक महत्वपूर्ण बात है।

उन्होंने एक कार्यक्रम के मौके पर कहा कि मुखर्जी द्वारा न्यौता स्वीकारना गलत नहीं है और यदि उनके विचारों से राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ में कुछ सुधार आता हे तो हमें बहुत खुशी होगी। मुखर्जी को नागपुर में आरएसएस के मुख्यालय में स्वयंसेवकों के प्रशिक्षण शिविरसंघ शिक्षा वर्ग के समापन कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि आमंत्रित किया गया है। यह कार्यक्रम सात जून को होगा। जम्मू कश्मीर के विषय पर शिंदे ने कहा , ‘जब मैं गृहमंत्री था तब यदि एक - दो घटना हो जाती थी तब भाजपा संसद में कहती थी कि हमारा एक जाएगा , उनके 11 हम वहां से लाएंगें , अब सरकार आपकी , खुफिया आपकी लेकिन पथराव की घटनाएं रुक नहीं रही हैं।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   1758523
 
     
Related Links :-
लद्दाख में तनाव बढ़ा, चीन ने बढ़ाए सैनिक, भारत भी आक्रामक रुख पर अड़ा
कश्मीर पर सऊदी देगा भारत को झटका, उठाएगा ये कदम
भारतीयों को वापस लाने के प्लान पर चर्चा जारी
कोविड - 19 के चलते लाखों लोग भूख का हो सकते हैं शिकार
भारत को बड़ा बाजार मान रहे खाड़ी देश*
*ई - टेक के जरिये सार्क देश साझा कर रहे कोविड नियंत्रण के तरीक़े*
पूर्व सैनिकों ने परेड में बीएसएफ को शामिल न करने पर जताया विरोध
अमेरिका - ईरान तनाव: जयशंकर ने कहा तनाव ने लिया गंभीर मोड़
प्रधानमंत्री ने कहा दशकों से चली आ रही प्रक्रिया का समापन
आतंक के खिलाफ दुनिया के देशों को साथ आने की जरूरत - बिड़ला
 
CopyRight 2016 DanikUp.com