Breaking News
सेना में महिला अफसरों को स्थायी कमीशन का एलान  |   2022 तक अंतरिक्ष में मानव मिशन भेजने का एलान  |   प्रधानमंत्री ने की तीन तलाक की चर्चा  |   82 मिनट के भाषण में पीएम मोदी ने पेश किया सरकार के कामकाज का लेखा जोखा  |   लाल किले के प्राचीर से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 25 सितंबर से आयुष्मान भारत शुरू करने का किया एलान  |  
 
 
दैनिक यूपी ब्यूरो
01/06/2018  :  22:14 HH:MM
कैराना और नूरपुर की हार भाजपा को पच नहीं रही : अखिलेश
Total View  59

अखिलेश ने कहा,‘‘भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष (महेन्द्र नाथ पाण्डेय) को फतवों और सिद्धांतों की याद आ रही है तो केन्द्रीय गृहमंत्री (राजनाथ सिंह) को लम्बी छलांग के लिए दो कदम पीछे जाने की मजबूरी ने घेर रखा है।

लखनऊ: समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने आज कहा कि कैराना और नूरपुर में भाजपा को अपनी हार पच नहीं रही है।  

 अखिलेश ने कहा,‘‘भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष (महेन्द्र नाथ पाण्डेय) को फतवों और सिद्धांतों की याद रही है तो केन्द्रीय गृहमंत्री (राजनाथ सिंह) को लम्बी छलांग के लिए दो कदम पीछे जाने की मजबूरी ने घेर रखा है। भाजपा का यही शुतुरमुर्गी रवैया बना रहा तो 2019 में उसका कोई नामलेवा भी नहीं बचेगा।’’ 

 

उन्होंने कहा कि लोकतांत्रिक व्यवस्था को भंग करने वाले उक्त बयानों से भाजपा के अलोकतांत्रिक राजनीतिक चरित्र पर से पर्दा उठ जाता है। जनादेश का अपमान करना भाजपा ने अपना एजेंडा बना लिया है। भाजपाई पहले तो चुनाव की निष्पक्षता को प्रभावित करते रहे और अब विपक्ष में परिणाम आने पर अनर्गल बयानबाजी कर माहौल को बिगाडऩे का काम करने में लग गए हैं।

 

अखिलेश ने कहा, ‘‘इन उपचुनावों में पश्चिमी उत्तर प्रदेश में जो सामाजिक सामंजस्य नजर आया वह अभूतपूर्व था। सभी एकजुट नजर आए। भाजपा ने इस सोशलकेमिस्ट्री को बिगाडऩे की बहुत साजिशें की किन्तु इससे उनकाअर्थमैटिक भी बुरी तरह बिगड़ गया। भाजपा नेतृत्व को अब इस जनभावना का आदर करना सीखना चाहिए। भाजपा को तो लोकलाज है और ना ही वे लोकतंत्र और संविधान में विश्वास हैं।’’  

 

उन्होंने कहा कि भाजपा मुद्दा विहीन राजनीति करके स्वतंत्रता आंदोलन के मूल्यों को ठेस पहुंचाती रही है। समाज को बांटने, सछ्वाव बिगाडऩे और जहर बोने की राजनीति के उसके दिन अब बीत चले हैं क्योंकि जनसामान्य अब हर सच्चाई से परिचित हो चुका है। सामाजिक न्याय की शक्तियां एकजुट होकर अब उनके प्रतिरोध में गई हैं।

 

सपा मुखिया ने कहा कि भाजपा को हार का सामना करने की आदत डाल लेनी चाहिए अन्यथा 2019 के परिणामों का भाजपा कैसे सामना कर पाएगी? जनता विकास चाहती है। झूठे वादों से उसे चिढ़ हो रही है। भाजपा ने किसानों, नौजवानों के विश्वास को तोड़ा है। बेरोजगारों के द्वारा रोजगार की मांग पर उनका उत्पीडऩ हो रहा है। भाजपा की केन्द्र और राज्य सरकारों ने किसानों के साथ धोखा किया है। महिलाओं-बच्चियों के साथ दुष्कर्म हो रहे हैं। 

 

 अखिलेश ने कहा कि अपराध नियंत्रण की जगह फर्जी एनकाउण्टर हो रहे हैं। इस सबका क्या जवाब है भाजपा सरकार के पास? समाजवादी सरकार में गरीबों, किसानों, नौजवानों के लिए जो कल्याणकारी योजनाएं शुरू की गई थी उन्हें भाजपा सरकार ने बंद कर दिया। इससे सर्वत्र भारी असंतोष और आक्रोश है। भाजपा इस स्थिति में पलायन नहीं कर सकती है। उसे हर हाल में जनता के प्रति अपनी जवाबदेही तय करनी होगी। 






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   6925088
 
     
Related Links :-
राज्यसभा में ओडि़शा से दो चेहरे अमित शाह का 'गेम प्लान'
'हिन्दू पाकिस्तान' वाले बयान पर मुश्किल में फंसे शशि थरूर, कोर्ट ने भेजा समन
कुछ लाेगाें ने सिर्फ अपनी तिजाेरी भरीः माेदी
महबूबा की मोदी सरकार को धमकी, PDP को तोड़ा तो होंगे 90 जैसे हालात
मुन्ना बजरंगी पर रंगदारी मांगने का आरोप लगाने वाले पूर्व MLA को बसपा ने दिखाया बाहर का रास्ता
प्रधानमंत्री की संसद में उपस्थिति की मांग वाली संजय सिंह की याचिका खारिज
कश्मीर पर यूएन रिपोर्ट मामले में सरकार के साथ कांग्रेस
तमिलनाडु: 18 विधायकों पर बंटी जजों की राय, पलानीस्वामी सरकार का खतरा टला
शिवसेना का शरद पवार पर तीखा हमला
मोदी सरकार की नीतियों किसान विरोधी: येचुरी
 
CopyRight 2016 DanikUp.com